Submit your post

Follow Us

लोहरदगा: ऐन वक़्त पर पाला बदल कांग्रेस से बीजेपी गए सुखदेव भगत हार गए हैं.

सीट- लोहरदगा
प्रत्याशी- सुखदेव भगत, बीजेपी
रामेश्वर उरांव, कांग्रेस
नीरू भगत, आजसू


कांग्रेस के रामेश्वर उरांव ने भाजपा के सुखदेव भगत को 30150 वोटों से हरा दिया है.


लोहरदगा सीट. यहां कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष (सुखदेव भगत) और वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष (रामेश्वर उरांव) मैदान में थे. सुखदेव भगत ने कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ा था. लेकिन विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उन्होंने पाला बदल लिया और बीजेपी में शामिल हो गए. बीजेपी में शामिल होते वक्त उन्होंने कहा था कि कांग्रेस से उनकी कोई नाराजगी नहीं है. बीजेपी के राष्ट्रवाद और विकास की की विचारधारा से प्रभावित होकर बीजेपी में शामिल हुए. एडीजी के पद से वीआरएस लेकर 2005 में चुनाव लड़ने वाले डॉ. रामेश्वर उरांव लोहरदगा से सांसद बने थे. कांग्रेस ने उन्हें मंत्री भी बनाया था.

लोहरदगा में 2018 में विधानसभा के उपचुनाव हुए थे. उस समय कांग्रेस के सुखदेव भगत ने आजसू प्रत्याशी नीरू शांति भगत को हरा दिया था. सुखदेव भगत ने BJP समर्थि‍त उम्मीदवार नीरू शांति भगत को 23 हजार 288 वोटों से हराया था. लोहरदगा के आजसू पार्टी विधायक कमल किशोर भगत को एक डॉक्टर पर हमले के सिलसिले में अदालत से कैद की सजा सुनाए जाने के बाद उन्हें विधानसभा सदस्यता के लिए अयोग्य ठहरा दिया गया था. तब लोहरदगा विधानसभा सीट खाली हुई थी. इस उपचुनाव में भगत की पत्नी नीरू शांति भगत आजसू पार्टी की उम्मीदवार थी.


पीएम नरेंद्र मोदी की धनबाद रैली में आई इस महिला की बातें सुनिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.