Submit your post

Follow Us

तीन विधानसभाओं का हाल, बतकही के अंदाज में

1
शेयर्स

देहरा

कांगड़ा जिले की सीट है. कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद रही विप्लव ठाकुर लड़ रही हैं. उनके मुकाबले हैं प्रेम कुमार धूमल के खास रविंदर रवि. धूमल सरकार में मंत्री रहे. हिमाचल की सियासत के हिसाब से इन्हीं दोनों के बीच फाइट होनी चाहिए. मगर यहां एक निर्दलीय हैं होशियार सिंह राणा. ये मुकाबले में बने हुए हैं. राणा का मुंबई में तगड़ा कारोबार है, तो उनका टैंपो भी हाई बना हुई है. धूमल के सीएम फेस बन जाने के बाद रवि का चुनाव भी दुरुस्त हो गया है. विप्लव वीरभद्र सरकार के कामकाज के आधार पर वोट मांग रही हैं. हालांकि वह कभी वीरभद्र खेमे की खास नहीं रहीं.

विपल्व ठाकुर
विपल्व ठाकुर (दाएं; पीटीआई), विपल्व, होशियार सिंह राणा और रविंदर रवि के बीच देहरा में त्रिकोणीय मुकाबला है

ज्वालामुखी सीट

कांगड़ा जिले की की ही एक और सीट. सिटिंग विधायक कांग्रेस के संजय रत्न. वीरभद्र के खास. खूब प्रोजेक्ट लाए. हालांकि सभी मुकम्मल नहीं हो पाए हैं. एकमात्र कॉलेज जो ज्वालामुखी मंदिर ट्रस्ट के अधीन था, उसे सरकारी कॉलेज में तब्दील करवाया. नई बिल्डिंग भी दी. इसके अलावा दो और कॉलेज, आईटीआई, तहसील और रोजगार केंद्र की सौगत. इनके सामने हैं तीन बार विधायक रहे और पिछली मर्तबा हारे बीजेपी के रमेश ध्वाला. ध्वाला पहली मर्तबा 1998 में बीजेपी से बगावत कर निर्दलीय के तौर पर जीते थे. उनका समर्थन धूमल के लिए उस चुनाव के बाद के हाल में खासा अहम हो गया था. पहले कांग्रेस ने उनके समर्थन का दावा किया. मगर उसमें जबरई थी. जब धूमल को न्योता मिला तो वह बीजेपी में लौट आए. मंत्री पद मिला. उनका दावा है कि विधानसभा में जो पानी की बड़ी दिक्कत है, उसे दूर करने की कोशिशें कीं. पेयजल की समस्या यहां का सबसे बड़ा मुद्दा है. सड़कों की भी हालत खराब है. ज्वालामुखी डिग्री कॉलेज की लड़कियों ने इस बारे में हमें तफसील से बताया.

ज्वालामुखी डिग्री कॉलेज की लड़कियों ने लल्लनटॉप को ये बताया कि उनके यहां पानी हफ्ते भर से एक महीने अंतर पर आता है
ज्वालामुखी डिग्री कॉलेज की लड़कियों ने लल्लनटॉप को ये बताया कि उनके यहां पानी हफ्ते भर से एक महीने अंतर पर आता है

इलाकाई लोग ये तो मानते हैं कि संजय रत्न ने काम खूब करवाए, मगर फिर भी उनकी स्थिति अजेय नहीं बताते हैं. इस सीट पर ओबीसी वोटों की तादाद ज्यादा है. उसमें भी चौधरी बिरादरी सबसे ज्यादा है, जिसे ध्वाला आते हैं. राजपूत मतदाता जिस तरफ झुक जाएंगे, उसकी बल्ले बल्ले है, ये इलाकाई पोल पंडितों ने बताया. समर्थक कहते हैं कि सरकार बनने पर लाल बत्ती पक्की है और इसका वोटर ख्याल करेंगे. नड्डा ने यहां पर ट्रामा सेंटर बनाने का ऐलान किया है. बीजेपी संजय रत्न के दावों के मुकाबले इस ऐलान को पेश कर रही है.

नदौन सीट

हमीरपुर जिले की सीमा पर बसा एक कस्बा. खास क्यों. क्योंकि यहां से कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू चुनाव लड़ रहे हैं. एनएसयूआई के रास्ते कांग्रेस की राजनीति में आए. वीरभद्र के एंटी खेमे के माने जाते हैं. और इसीलिए इलाकाई लोग कहते हैं कि राजा खुद नहीं चाहते कि सुक्खू जीतें. जीते तो वीरभद्र के बेटे विक्रमादित्य के लिए मुसीबत बनेंगे. सुक्खू कांग्रेस के घोषणापत्र के ऐलान के वक्त शिमला में नहीं थे. इसे भी उसी नजर से देखा जा रहा है. वीरभद्र तकरीबन हर सीट पर जा रहे हैं, मगर नदौन नहीं आ रहे.

सुखविंदर सिंह सुक्खो और वीरभद्र सिंह के बीच मनमुटाव की खबरें हैं
सुखविंदर सिंह सुक्खो और वीरभद्र सिंह के बीच मनमुटाव की खबरें हैं

सुक्खू 10 साल विधायक रहे, मगर पिछली मर्तबा भाजपा के विजय अग्निहोत्री से हार गए. अब वापसी की फिराक में हैं. उधर विजय अग्निहोत्री बागी के चलते हलकान हैं. भाजपा के नेता रहे लेखराज शर्मा ने यहां से पर्चा दाखिल किया है और वह भी जोरदारी में चुनाव लड़ रहे हैं. अग्निहोत्री के विरोध के बावजूद वह जिला परिषद चुनाव जीतने में सफल रहे और अब विधानसभा की राह तक रहे हैं. विजय को धूमल अपील का भरोसा है. यहां भी देहरा की तरह तिकोना मुकाबला.


ऊना के इस आंगनबाड़ी केंद्र में क्या देखने को मिला?

और पढ़ेंः

मिलिए वीरभद्र के बेटे विक्रमादित्य से, जिन्होंने पांच साल में 82 करोड़ रुपए कमाए

हिमाचल, जहां सरकारी कर्मचारियों का सरकार के खिलाफ बोलना ‘महापाप’ है

ऊना रिपोर्ट: जहां भाजपा के CM कैंडिडेट ही भाजपा अध्यक्ष का कद छांट रहे हैं

क्या बीजेपी आलाकमान ने प्रेम कुमार धूमल को सेट कर दिया है?

हिमाचल में जो हो रहा है, मैं नहीं मानता कि इसे चुनाव कहते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.