Submit your post

Follow Us

कांग्रेस की हरियाणा के लिए जारी लिस्ट में कौन सा खास चेहरा है?

218
शेयर्स

कांग्रेस ने हरियाणा के लिए लोकसभा प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया है. कांग्रेस की इस लिस्ट में हरियाणा की 10 में से 6 सीटों के लिए नाम घोषित किए गए हैं. इसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर समेत पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी शैलजा और सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा का नाम भी शामिल हैं.
1. अंबाला सीट- कुमारी शैलजा
अंबाला सीट से कुमारी शैलजा को टिकट दिया गया है. शैलजा यूपीए-1 और 2 में मंत्री रह चुकी हैं. 2014 में लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था. कांग्रेस ने राज्यसभा भेज दिया था. इससे पहले 2004 और 2009 में अंबाला सीट से जीत चुकी हैं. शैलजा का मुकाबला मौजूदा सांसद रतनलाल कटारिया से होगा.

2. रोहतक- दीपेंद्र सिंह हुड्डा
सूबे के मुख्यमंत्री रह चुके भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बेटे दीपेंद्र हुड्डा तीन बार रोहतक से सांसद रह चुके हैं. राहुल गांधी की युवा ब्रिगेड की साथी हैं. भाजपा ने अबतक उनका प्रतिद्वंदी तय नहीं किया है. दीपेंद्र 2014 की मोदी लहर के बावजूद 1 लाख 70 हज़ार के मार्जिन से जीते थे.

3. सिरसा- अशोक तंवर
हरियाणा के कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर को पार्टी ने सिरसा से मैदान में उतारा है. तंवर पिछला चुनाव भी सिरसा से लड़े थे. लेकिन उन्हें 1 लाख 15 हजार वोटों से हार का मुंह देखना पड़ा था. उन्हें हराया था इनैलो के चरणजीत सिंह रोड़ी ने हराया था. पंजाबी समुदाय की इस सीट पर अच्छी पकड़ मानी जाती है. भाजपा ने इस सीट से सुनीता दुग्गल को अपना उम्मीदवार बनाया है.

हरियाणा में 10 सीटें हैं. 4 सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा होनी अभी बाकी है.
हरियाणा में 10 सीटें हैं. 4 सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा होनी अभी बाकी है.

4. भिवानी- महेंद्रगढ़- श्रुति चौधरी
भिवानी-महेंद्रगढ़ सीट पर पार्टी ने श्रुति चौधरी पर भरोसा जताया है. हालांकि वो पिछला चुनाव हार चुकी हैं. श्रुति राजनीतिक परिवार से आती हैं. उनके दादा बंसी लाल हरियाणा के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. उनके पिता दो बार इस सीट से सांसद रह चुके हैं. 2014 के चुनाव में श्रुति को 2.50 लाख से ज्यादा वोट मिले थे. बावजूद, वो तीसरे नंबर पर रही थीं. भाजपा के धर्मबीर ने उन्हें शिकस्त दी थी. इस बार भी मुकाबला धर्मबीर से ही होगा. इससे पहले 2009 से 2014 तक इसी सीट से सांसद रह चुकी हैं.

5. गुड़गाव- कै. अजय सिंह यादव
अजय सिंह यादव गुड़गांव सीट से पार्टी की नुमाइंदगी करेंगे. इससे पहले वो कई बार सांसद और विधायक रह चुके हैं. हरियाणा सरकार में वित्त मंत्री रह चुके अजय सिंह यादव को संगठन का आदमी बताया जाता है. हरियाणा राज्य के सबसे सीनियर मंत्रियों में से एक थे. गुड़गांव में इनका सामना मौजूदा केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत से होगा.

6. फरीदाबाद- ललित नागर
फरीदाबाद लोकसभा से ललित नागर को टिकट मिला है. ललित इस समय हरियाणा की तिगांव सीट से विधायक हैं. ललित का समना होगा मौजूदा सांसद कृष्ण पाल गुर्जर से. कृष्ण पार 2014 का चुनाव एक तरफा तरीके से जीते थे. उनकी जीत का अंतर था 4.66 लाख. इसलिए कृष्ण पाल के खिलाफ पार्टी ने नए चहरे को आज़माने का फैसला लिया है.


वीडियो- तीन तलाक का नाम लेते ही क्यों भड़क गई महिलाएं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.