Submit your post

Follow Us

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

5
शेयर्स

विधानसभाः कापड़वंज (खेड़ा)

कांग्रेस 27,226 वोट से जीती.

कांग्रेस के कालूभाई डाभी कोः 85195

बीजेपी से कानूभाई भूलाभाई डाभी कोः 57969

निर्दलीय विमल शाह कोः 46928

गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 में भाजपा का रथ खींचा प्रधानमंत्री मोदी ने. ये रथ विधानसभा न पहुंचे, इसलिए ज़ोर लगाया कांग्रेस के सर्वेसर्वा राहुल गांधी ने. राहुल को कुछ मदद मिली हार्दिक, जिग्नेश और अल्पेश ठाकोर से. लेकिन गुजरात में एक सीट ऐसी भी थी जहां एक निर्दलीय प्रत्याशी का भौकाल सबसे अधिक था. नाम उनका विमल शाह है. विमल का भौकाल इतना था कि उसके समर्थन में कांग्रेस के लिए नए-नए पराए हुए शंकर सिंह वाघेला ने तो यहां से कैंडिडेट ही नहीं उतारा. जबकि ये उन्हीं की सीट थी. 2012 में वाघेला कापड़वंज से ही जीते थे, कांग्रेस के टिकट पर.

क्रमशः भाजपा के कानुभाई डाभी, कभी भाजपा के रहे और अब निर्दलीय विमल पटेल और कांग्रेस के कानूभाई पटेल
क्रमशः भाजपा के कानुभाई डाभी, कभी भाजपा के रहे और अब निर्दलीय विमल पटेल और कांग्रेस के कानूभाई पटेल

विमल पहले भाजपा में थे. भाजपा सरकार में मंत्री तक रहे हैं लेकिन जब कानू डाभी को टिकट मिला तो बगावत कर के निर्दलीय पर्चा भर दिया. ये 2012 में भी बीजेपी छोड़कर केशुभाई पटेल की गुजरात परिवर्तन पार्टी में शामिल हो गए थे. उनके ही वफादार भी माने जाते हैं. लेकिन फिर मार्च 2014 में वापस बीजेपी में आ गए.

ये जो भाजपा के कानू भाई हैं, उनको वाघेला ने पिछले चुनाव में हराया था. वाघेला ने इस बार उन्हें टिकट मिलने से खार खाए विमल को जितवाने के लिए अपना उम्मीदवार खड़ा नहीं किया यहां. वैसे इस साल अगस्त में हुए राज्यसभा चुनाव से पहले जो भी कांग्रेस विधायक बीजेपी में शामिल हुआ और उसे इस चुनाव में बीजेपी ने टिकट दिया, उन सबके खिलाफ वाघेला ने अपने प्रत्याशी नहीं उतारे हैं. उनका कहना है कि कुछ उम्मीदवारों के साथ निजी तौर पर उनके अच्छे संबंध हैं, सो उनके खिलाफ नहीं लड़ सकते वो.

Video: यहां अपने कैंडीडेट के सामने PM को कुछ नहीं समझते पुराने भाजपाई!

तीन चीज़ें जो कांग्रेस के हक में गईं :

1. खेड़ा के किसान अपेक्षाकृत संपन्न हैं. किसानों के बीच कांग्रेस खासी लोकप्रिय है. उनका कहना है कि कांग्रेस ने उनके लिए काम किया है.

2. ओबीसी वोट खूब हैं यहां. इलाके में अल्पेश ठाकोर की रैली हुई थी, जिसका फायदा कांग्रेस को मिला.

3. भाजपा के खिलाफ ये बात गई कि उसने एक हारे हुए कैंडिडेट को टिकट दिया. साथ ही एक पूर्व मंत्री को खो दिया जो अपने साथ अपना वोटर बेस ले गया.


गुजरात चुनाव पर हमारी कवरेज यहां पढ़ेंः

मोदी ने अपनी सबसे ताकतवर चीजों का इस्तेमाल गुजरात चुनाव में क्यों नहीं किया है?
मोदी जी, अगर आप सच बोल रहे हैं तो मनमोहन सिंह को गिरफ्तार क्यों नहीं कर लेते
हार्दिक पटेल Interview: परिवार जिस बीजेपी का कट्टर समर्थक था, उससे वो नफरत क्यों करते हैं
प्रस्तुत हैंः नरेंद्र मोदी और बीजेपी के नेताओं की बोलीं 20 ओछी बातें
ग्राउंड रिपोर्ट वलसाडः वो जगह जहां से जीतने वाली पार्टी की गुजरात में सरकार बनती है

Video: आनंदीबेन पटेल के इलाके में क्या लगे इल्ज़ाम

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

चुनाव 2018

कमल नाथ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री, कैबिनेट में ये नाम हो सकते हैं शामिल

कमल नाथ पहली बार दिल्ली से भोपाल की राजनीति में आए हैं.

राजस्थान: हो गया शपथ ग्रहण, CM बने गहलोत और पायलट बने उनके डेप्युटी

राहुल गांधी, मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस के ज्यादातर बड़े नेता जयपुर के अल्बर्ट हॉल पहुंचे हैं.

मायावती-अजित जोगी के ये 11 कैंडिडेट न होते, तो छत्तीसगढ़ में भाजपा की 5 सीटें भी नहीं आती

कांग्रेस के कुछ वोट बंट गए, भाजपा की इज़्ज़त बच गई.

2019 पर कितना असर डालेंगे पांच राज्यों के चुनावी नतीजे?

क्या मोदी के लिए परेशानी खड़ी कर पाएंगे राहुल गांधी?

क्या अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए अपनी गोटी सेट कर ली है

लेकिन सचिन पायलट का एक दाव अशोक गहलोत को चित्त कर सकता है.

मोदी सरकार के लिए खतरे की घंटी क्यों हैं ये नतीजे?

आज लोकसभा चुनाव हो जाएं तो पांच राज्यों में भाजपा को क्यों लगेगा जोर का झटका?

भंवरी देवी सेक्स सीडी कांड से चर्चित हुई सीटों पर क्या हुआ?

इस केस में विधायक और मंत्री जेल में गए.

क्या शिवराज के कहने पर कलेक्टरों ने परिणाम लेट किए?

सोशल मीडिया का दावा है. जानिए कि परिणामों में देरी किस तरह हो जाती है.

राजस्थान चुनाव 2018 का नतीजा : ये कांग्रेस की हार है

फिनिश लाइन को पार करने की इस लड़ाई में कांग्रेस ने एक बड़ा मौका गंवा दिया.

बीजेपी को वोट न देने पर गद्दार और देशद्रोही कहने वाले कौन हैं?

जनता ने मूड बदला तो इनके तेवर बदल गए और गालियां देने लगे.