Submit your post

Follow Us

उस सीट का नतीजा जहां से अमित शाह ने बूथ लेवल कार्यकर्ता के तौर पर शुरुआत की थी

38
शेयर्स

विधानसभा : नारानपुरा (अहमदाबाद)

बीजेपी 66,215 वोटों से जीती.

बीजेपी के कौशिकभाई पटेल को: 1,06,458 वोट

कांग्रेस के नितिन भाई पटेल को: 40,243 वोट मिले.

गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस के उस वक्त उपाध्यक्ष रहे राहुल गांधी आक्रामक अंदाज में प्रचार कर रहे थे. हर रोज इनकी चुनावी सभा होती थी, लेकिन अपने कद के हिसाब से जो शख्स सबसे कम दिखा उनका नाम है अमित शाह. वो चुनावी सभाओं में कम और बूथ लेवल मैनेजमेंट पर ज्यादा ध्यान दे रहे थे. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शाह 2017 तक अहमदाबाद की नारानपुरा सीट से विधायक थे. उसके बाद अमित शाह राज्यसभा चले गए और ये सीट खाली हो गई थी. 2008 में जब परिसीमन हुआ था, तो ये सीट बनी थी. इससे पहले सीट का नाम सांखरेज था, जहां से अमित शाह ने लगातार 1997 से ही चुनाव जीता है.

Kaushik Patel Amit Shah
अमित शाह ने अपनी सीट के लिए कौशिक पटेल के नाम को चुना था, जो दरियापुर से तीन बार विधायक रह चुके हैं.

लगातार चार चुनाव जीतकर अमित शाह ने इस सीट को बीजेपी की पारंपरिक सीट के रूप में बदल दिया है. इस बार बीजेपी ने कौशिकभाई पटेल को उम्मीदवार बनाया था, जो दरियापुर से 1995, 1998 और 2002 में तीन बार विधायक रहे थे. वो राज्य सरकार में राजस्व मंत्री का भी जिम्मा संभाल चुके थे. अमित शाह की विरासत संभालने का जिम्मा बीजेपी ने इन्हीं को सौंपा था. कांग्रेस ने मुकाबले के लिए नितिन पटेल को चुनावी मैदान में उतारा है, जो पहले भी अमित शाह से मुकाबला करके हार चुके थे.

पिछला नतीजा : अमित शाह ने कांग्रेस के जीतू पटेल को 63,000 वोटों से हराया था.

इस बार का नतीजा : बीजेपी के कौशिकभाई पटेल ने कांग्रेस के नितिन पटेल को 66,215 वोटों से हराया है.

Amit Shah Campaign
गुजरात में खुद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने डोर-टू-डोर कैंपेन की शुरुआत की थी.

वो तीन वजहें जिनकी वजह से बीजेपी को जीत मिली

1. ये सीट बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने खाली की थी, जो यहां से चार बार विधायक रहे थे.

2. अमित शाह ने इसी क्षेत्र से बूथ लेवल के पार्टी कार्यकर्ता के तौर पर राजनीतिक करियर शुरू किया था, इसलिए पूरे इलाके में अमित शाह की अच्छी पकड़ है.

3. सीट शहरी है, जहां जैन, ब्राह्मण और पटेल समुदाय के वोटर बड़ी तादाद में हैं. पाटीदार आंदोलन को छोड़ दिया जाए, तो तीनों ही समुदाय गुजरात में बीजेपी के पारंपरिक वोटर हैं.


Also Read:
गुजरात चुनाव रिजल्ट: कांग्रेस या बीजेपी किसकी सरकार बन रही है
गुजरात चुनाव 2017 नतीजेः हार्दिक पटेल के घर में भाजपा आगे चल रही है
पॉलिटिक्स फॉर बिगनर्स अध्याय 1- हार्दिक पटेल

Video: गुजरात के उस शहर की कहानी जहां चुनाव में मुद्दा पाकिस्तान था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Gujarat election result 2017 : Amit Shah was MLA from Naranpura and now battle between Kaushik Patel from BJP and Nitin Patel from Congress

चुनाव 2018

कमल नाथ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री, कैबिनेट में ये नाम हो सकते हैं शामिल

कमल नाथ पहली बार दिल्ली से भोपाल की राजनीति में आए हैं.

राजस्थान: हो गया शपथ ग्रहण, CM बने गहलोत और पायलट बने उनके डेप्युटी

राहुल गांधी, मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस के ज्यादातर बड़े नेता जयपुर के अल्बर्ट हॉल पहुंचे हैं.

मायावती-अजित जोगी के ये 11 कैंडिडेट न होते, तो छत्तीसगढ़ में भाजपा की 5 सीटें भी नहीं आती

कांग्रेस के कुछ वोट बंट गए, भाजपा की इज़्ज़त बच गई.

2019 पर कितना असर डालेंगे पांच राज्यों के चुनावी नतीजे?

क्या मोदी के लिए परेशानी खड़ी कर पाएंगे राहुल गांधी?

क्या अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए अपनी गोटी सेट कर ली है

लेकिन सचिन पायलट का एक दाव अशोक गहलोत को चित्त कर सकता है.

मोदी सरकार के लिए खतरे की घंटी क्यों हैं ये नतीजे?

आज लोकसभा चुनाव हो जाएं तो पांच राज्यों में भाजपा को क्यों लगेगा जोर का झटका?

भंवरी देवी सेक्स सीडी कांड से चर्चित हुई सीटों पर क्या हुआ?

इस केस में विधायक और मंत्री जेल में गए.

क्या शिवराज के कहने पर कलेक्टरों ने परिणाम लेट किए?

सोशल मीडिया का दावा है. जानिए कि परिणामों में देरी किस तरह हो जाती है.

राजस्थान चुनाव 2018 का नतीजा : ये कांग्रेस की हार है

फिनिश लाइन को पार करने की इस लड़ाई में कांग्रेस ने एक बड़ा मौका गंवा दिया.

बीजेपी को वोट न देने पर गद्दार और देशद्रोही कहने वाले कौन हैं?

जनता ने मूड बदला तो इनके तेवर बदल गए और गालियां देने लगे.