Submit your post

Follow Us

पीएम मोदी से जुड़ी एक चीज, जो अमित शाह को नापसंद है!

5
शेयर्स

पीएम मोदी के ‘मन की बात’ से तो अब शायद ही कोई अनजान है. अगर कोई अनजान रहा भी होगा तो 26 नवंबर को जान गया होगा. प्रधानमंत्री ने 26 नवंबर को एक बार फिर से ‘मन की बात’ की थी. प्रधानमंत्री बनने के बाद ये 38वीं बार था, जब मोदी ने देश से अपने ‘मन की बात’ की थी. कार्यक्रम पूरे देश के लिए था, लेकिन गुजरात में चुनाव हैं तो इसे स्वाभाविक तौर पर उसे चुनावी रंग दे दिया गया.

Amit Shah tea 1
अमित शाह ने बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ मन की बात सुनी.

बीजेपी ने इस चर्चा को ‘मन की बात-चाय के साथ’ के रूप में तब्दील कर दिया. गुजरात के 50 हजार से ज्यादा बूथों पर बीजेपी ने इस कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, धर्मेंद्र प्रधान, स्मृति ईरानी, उमा भारती, जुएल ओराव, पुरुषोत्तम रूपाला, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष जीतू वघानी, मुख्यमंत्री विजय रुपानी, सांसद परेश रावल के साथ ही गुजरात के कई मंत्री, विधायक और सांसद शामिल थे.

अब ऐसे बड़े कार्यक्रम में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह शामिल हों और उसकी चर्चा न हो, ऐसा तो मुमकिन ही नहीं है. तो साहेबान अमित शाह इस कार्यक्रम में भी चर्चा में रहे, लेकिन उसकी वजह उनका कांग्रेस पर हमला या बीजेपी की तारीफ नहीं, वो खुद ही हैं. दरअसल अमित शाह अहमदाबाद के दरियापुर इलाके के तंबु चौकी पर बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ बैठकर ‘मन की बात’ सुन रहे थे. ये ‘मन की बात’, चाय के साथ थी तो सुनने वालों को चाय भी परोसी गई. ये चाय 100 साल पुरानी दुकान अम्बिका टी स्टाल से बनवाई गई थी. बीजेपी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने तो चाय पी, लेकिन वहां मौजूद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने चाय नहीं पी.

Amit Shah 123
एक अखबार का दावा है कि अमित शाह के हाथ में जो कप था, उसमें चाय नहीं कॉफी थी.

अहमदाबाद मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी अध्यक्ष ने चाय पीने से मना कर दिया था. उनके लिए चाय की जगह पर ब्लैक कॉफी मंगवाई गई थी. यह ब्लैक कॉफी स्थानीय बीजेपी कार्यकर्ता के घर तैयार करवाई गई थी. जब बीजेपी अध्यक्ष ने खुद ही चाय नहीं पी तो और लोगों ने कितनी चाय पी होगी और पीएम मोदी की कितनी बात सुनी होगी, ये भी एक जुमला ही है. मन की बात के साथ चाय जोड़ने का आइडिया बीजेपी को कांग्रेस से ही मिला है. यूथ कांग्रेस की ऑनलाइन मैगजीन ने पीएम मोदी का चाय बेचने को लेकर एक ट्वीट जारी किया था.

modi meme
यूथ कांग्रेस की ऑनलाइन मैगजीन ने पीएम मोदी पर यही फोटो ट्वीट की थी.

बीजेपी ने जब इस ट्वीट को लेकर कांग्रेस पर हमला बोला, ट्वीट तुरंत डिलीट कर दिया गया. बीजेपी ने इसका राजनीतिक फायदा तुरंत ही उठाया और कांग्रेस को गरीब विरोधी बता डाला. बीजेपी के गुजरात प्रभारी भूपेंद्र यादव ने इस ट्वीट का जवाब देने के लिए ही मन की बात चाय के साथ कार्यक्रम की घोषणा कर दी. कार्यक्रम का आयोजन भी हुआ, लेकिन इससे एक चीज़ साफ हो गई कि अमित शाह को चाय पसंद नहीं है. इसीलिए उन्होंने कार्यक्रम में भी चाय की जगह ब्लैक कॉफी को ही तरजीह दी है. मामला सिर्फ पसंद का है या कुछ और, इसका जवाब तो बस एक ही आदमी दे सकता है और वो हैं अमित शाह. यहां ये याद रखना जरूरी है कि प्रधानमंत्री मोदी के हर आदमी के खाते में 15 लाख रुपए आने के वादे को जुमला करार देने वाले भी अमित शाह ही थे.


वीडियो में देखें, पीएम मोदी को उनका पांच साल पुराना वादा याद दिला रहे हैं लोग

ये भी पढ़ें:

गुजरात में चुनाव लड़ रहे दलितों के नेता जिग्नेश को किससे खतरा है?

टीचर से गुजरात की सीएम बनी ये पॉलिटिशियन कैसे एक 23 साल के लड़के से हार गईं

गुजरात का ये मुसलमान क्यों पिछले 15 साल से वोट नहीं डाल रहा है?

नरेंद्र मोदी 16 जनवरी 2012 की सुबह 11.35 पर किए वादे से मुकर गए

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Gujarat : BJP president Amit Shah had taken black coffee instead of tea during Man ki Bat Chai ke Sath of PM Modi in Ahmadabad

चुनाव 2018

कमल नाथ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री, कैबिनेट में ये नाम हो सकते हैं शामिल

कमल नाथ पहली बार दिल्ली से भोपाल की राजनीति में आए हैं.

राजस्थान: हो गया शपथ ग्रहण, CM बने गहलोत और पायलट बने उनके डेप्युटी

राहुल गांधी, मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस के ज्यादातर बड़े नेता जयपुर के अल्बर्ट हॉल पहुंचे हैं.

मायावती-अजित जोगी के ये 11 कैंडिडेट न होते, तो छत्तीसगढ़ में भाजपा की 5 सीटें भी नहीं आती

कांग्रेस के कुछ वोट बंट गए, भाजपा की इज़्ज़त बच गई.

2019 पर कितना असर डालेंगे पांच राज्यों के चुनावी नतीजे?

क्या मोदी के लिए परेशानी खड़ी कर पाएंगे राहुल गांधी?

क्या अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए अपनी गोटी सेट कर ली है

लेकिन सचिन पायलट का एक दाव अशोक गहलोत को चित्त कर सकता है.

मोदी सरकार के लिए खतरे की घंटी क्यों हैं ये नतीजे?

आज लोकसभा चुनाव हो जाएं तो पांच राज्यों में भाजपा को क्यों लगेगा जोर का झटका?

भंवरी देवी सेक्स सीडी कांड से चर्चित हुई सीटों पर क्या हुआ?

इस केस में विधायक और मंत्री जेल में गए.

क्या शिवराज के कहने पर कलेक्टरों ने परिणाम लेट किए?

सोशल मीडिया का दावा है. जानिए कि परिणामों में देरी किस तरह हो जाती है.

राजस्थान चुनाव 2018 का नतीजा : ये कांग्रेस की हार है

फिनिश लाइन को पार करने की इस लड़ाई में कांग्रेस ने एक बड़ा मौका गंवा दिया.

बीजेपी को वोट न देने पर गद्दार और देशद्रोही कहने वाले कौन हैं?

जनता ने मूड बदला तो इनके तेवर बदल गए और गालियां देने लगे.