Submit your post

Follow Us

केजरीवाल सरकार में कई मंत्रालय संभाल रहे गोपाल राय एक बार फिर मंत्री बने

नाम- गोपाल राय

विधानसभा सीट- बाबरपुर

किसको हराया- नरेश गौड़( करीब 33 हजार वोटों से)

(2015 के चुनाव में भी नरेश गौड़ को लगभग 36 हजार वोट से हराया था.)

कहां के रहने वाले हैं- मऊ, उत्तर प्रदेश.

पिछले सरकार में क्या थे- पार्टी संयोजक

कौन-कौन से मंत्रालय संभाल रहे हैं- श्रम और रोजगार मंत्रालय.

क्यों शामिल किया जा रहा है- अरविंद केजरीवाल के सबसे विश्वसनीय. 2013, 2015 और 2020. केजरीवाल के साथ खड़े चेहरे बदलते रहे, लेकिन एक चेहरा हमेशा रहा. गोपाल राय का. AAP सरकार में गोपाल राय ने एक नहीं कई मंत्रालय संभाले. अनुभव है, तो शायद इसी में कोई मंत्रालय एक बार फिर मिल सकता है.

पिछली सरकार का काम- बाबरपुर विधानसभा में इन्होंने 16 मोहल्ला क्लीनिक खुलवाया. ड्रेनेज की सफाई, स्कूल के आधुनिकीकरण का काम किया. बाबरपुर विधानसभा को पहचान दिलाई. लोगों की जरूरत पूरी की.

इतिहास- इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से ग्रैजुएशन के बाद लखनऊ यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रैजुएशन किया. छात्र नेता के तौर पर राजनीति में कदम रखा. प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे थे. लखनऊ यूनिवर्सिटी में हो रहे छात्र आंदोलन में गुंडागर्दी काफी बढ़ गई थी. उसी के खिलाफ हॉस्टल के कई छात्रों ने क्रिमिनल्स को बाहर करने के लिए आंदोलन किया. गोपाल राय अनशन पर बैठे. आंदोलन तो जीत गए, लेकिन जो विपक्षी थे, उन्होंने गोपाल राय को गोली मार दी. वो गोली उनके रीढ़ की हड्डी में फंस गई. 4-5 साल वो गोली वहीं फंसी रहने के कारण पूर तरह से पैरलाइज्ड हो गए. और फिर सर्जरी होने के बाद वो मिशन में लग गए. गोपाल राय दिल्ली में हुए जन लोकपाल आंदोलन से जुड़े. पार्टी बनाई. चुनाव लड़ा. चुनाव जीता. सरकार बनी. काम किया. और फिर एक बार चुनाव जीतकर काम करने जा रहे हैं.


वीडियो देखें : बाबरपुर सीट पर आम आदमी पार्टी के गोपाल राय ने बीजेपी के दिग्गज को हराया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.