Submit your post

Follow Us

दिल्ली में इस नेता ने बहुत तगड़े अंतर से चुनाव जीत लिया

दिल्ली विधानसभा चुनाव. आम आदमी पार्टी (AAP) की बड़ी जीत. अरविंद केजरीवाल तीसरी बार मुख्यमंत्री बनेंगे. 70 सीटों पर 11 फरवरी को आए नतीजों में AAP को 62 सीट और BJP को 8 सीटें मिलीं. कांग्रेस का खाता भी नहीं खुल सका. इस चुनाव में बुराड़ी विधानसभा सीट पर जीत का अंतर सबसे बड़ा रहा. दूसरे नंबर पर जीत का बड़ा अंतर ओखला सीट पर दिखा. वहीं, बिजवासन विधानसभा सीट पर जीत का अंतर सबसे कम रहा.

सबसे बड़ा जीत का अंतर

जीते: संजीव झा (AAP)

विधानसभा सीट: बुराड़ी

जीत का अंतर: 88,158

आम आदमी पार्टी के संजीव झा ने जनता दल (यू) के शैलेंद्र कुमार को 88,158 वोट के अंतर से हराया. संजीव झा को 1,39,368 वोट मिले, जबकि शैलेंद्र कुमार को 50,941 वोट मिले. तीसरे नंबर पर 18,022 वोट के साथ शिवसेना के धरमवीर रहे.

2015 में यहां से संजीव झा ने बीजेपी के गोपाल झा को हराया था. तब जीत का अंतर 67,950 वोट था. 2013 के चुनाव में संजीव झा ने बीजेपी के श्रीकृष्ण को हराया था. तब से संजीव झा इस सीट पर बरकरार हैं. इससे पहले 2008 में इस सीट पर श्रीकृष्ण जीते थे.

सबसे कम जीत का अंतर

जीते: भूपिंदर सिंह जून (AAP)

विधानसभा: बिजवासन

जीत का अंतर: 753

सबसे कम जीत का अंतर बिजवासन सीट पर रहा. यहां AAP के भूपिंदर सिंह जून ने 753 वोट के अंतर से बीजेपी के सत प्रकाश राणा को हराया. भूपिंदर जून को 57,271 वोट मिले, जबकि राणा को 56,518 वोट मिले. तीसरे नंबर पर कांग्रेस के प्रवीण राणा रहे. उन्हें 5893 वोट मिले. 26 राउंड तक यहां कांटे की टक्कर रही. 2015 में यहां से AAP के विधायक कर्नल देवेंद्र सहरावत ने जीत दर्ज की थी.

दूसरा सबसे बड़ा और सबसे कम अंतर

दिल्ली में जीत का दूसरा सबसे बड़ा अंतर ओखला सीट पर रहा. यहां AAP के अमानतुल्लाह खान ने 71,827 वोट से जीत दर्ज की. उन्होंने बीजेपी के ब्रह्म सिंह को हराया. जीत का दूसरा सबसे कम अंतर लक्ष्मी नगर सीट पर देखा गया. यहां BJP के अभय वर्मा ने AAP के नितिन त्यागी को 880 वोट से हराया.


दिल्ली चुनाव: पुरानी दिल्ली की संकरी गलियों में कैसे होता है काम, कैसे चलती है जिंदगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.