Submit your post

Follow Us

सीलमपुर: पांच बार के विधायक मतीन अहमद की सीट पर AAP ने मारी बाज़ी

सीट:सीलमपुर

प्रत्याशी:
अब्दुल रहमान, आम आदमी पार्टी

कौशल मिश्रा, भारतीय जनता पार्टी

चौधरी मतीन अहमद, कांग्रेस पार्टी


सीलमपुर सीट से आम आदमी पार्टी के अब्दुल रहमान ने बीजेपी के कौशल मिश्रा को 36920 वोटों से हराया.

Seelampur
सीलमपुर विधानसभा सीट के नतीजे. फोटो: ECI

सीलमपुर विधानसभा सीट, जमुनापार की वो विधानसभा सीट है. जिस पर सीएए और एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन देखे गए. इस सीट पर ही सीएए के विरोध के दौरान हिंसा भी भड़की थी. उत्तरी पूर्वी दिल्ली का सीलमपुर एक मिलीजुली आबादी वाला क्षेत्र है. यहां पर मुस्लिम वोटर बहुतायत है. जो कि किसी भी कैंडिडेट की हार-जीत का फैसला करते हैं.

1993 से लेकर 2015 तक इस सीट पर सिर्फ एक ही नेता का दबदबा रहा. नाम है चौधरी मतीन अहमद. साल 1993 में जनता दल के टिकट पर चौधरी मतीन पहली बार चुनाव लड़े. और जीत गए. इसके बाद उन्होंने पीछे पलटकर नहीं देखा. साल 1998 में वो निर्दलीय जीते. इसके बाद 2003, 2008 और 2013 में वो कांग्रेस के टिकट पर तीन बार चुनकर आए. दिल्ली में ऐसा बहुत ही कम विधायक रहे. जिन्होंने लगातार पांच बार एक ही सीट से जीत का स्वाद चखा.

लेकिन साल 2015 में आम आदमी पार्टी की आंधी में चौधरी मतीन का अजेय किला भी ढह गया. 2015 में ‘आप’ के हाजी इशराक खान ने चौधरी मतीन को हरा दिया.

लेकिन साल 2020 में फिर से कांग्रेस ने चौधरी मतीन पर ही दांव खेला. जबकि आम आदमी पार्टी ने हाजी इशराक का टिकट काट दिया. उनकी जगह युवा नेता अब्दुल रहमान को टिकट दिया. वहीं इस सीट पर हिन्दू वोटों पर नज़र बनाए बैठी बीजेपी ने 2013 के अपने उम्मीदवार कौशल मिश्रा को फिर से टिकट दे दिया.

सीलमपुर विधानसभा क्षेत्र में सीलमपुर, ज़ाफराबाद, चौहान बांगर, शास्त्री पार्क, ब्रहमपुरी, गौतम पुरी और पुस्ता रोड के भी कई इलाके आते हैं. इस इलाके में रिहायश के अलावा बड़ी संख्या में फैक्ट्रियां भी हैं. सीलमपुर और ज़ाफरबाद एक बड़ी मार्किट है. जहां पर जैकेट से लेकर जींस, कूलर, पतंग, धागे और अगरबत्ती का कारोबार होता है.


दिल्ली चुनावः सीलमपुर से कांग्रेस उम्मीदवार चौधरी मतीन अहमद ने CAA-NRC पर क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.