Submit your post

Follow Us

बिहार की वो सीट, जहां एक बाग़ी ने बीजेपी का पूरा खेल ख़राब कर दिया

बिहार चुनाव के नतीजे सामने हैं. NDA की सरकार बनती दिख रही है. लेकिन कुछ सीटें ऐसी भी हैं, जहां पर बीजेपी बुरी तरह हारी है. किनकी वजह से हारी है? अपने बाग़ियों की वजह से. टिकट नहीं मिला तो अपनी ही पार्टी के सालों साल के नेता दूसरा घाट पकड़ लिए. और ऐसा डेंट मारा कि सीट ही हाथ से छीन ली. और इस कड़ी में पटना ज़िले और पाटलीपुत्र लोकसभा में लगने वाली बिक्रम विधानसभा का ज़िक्र ज़रूरी हो जाता है.

बिक्रम विधानसभा का समीकरण दिलचस्प है. महागठबंधन बना तो सीट गयी कांग्रेस के खाते में. प्रत्याशी आए सिटिंग MLA सिद्धार्थ सौरव. पटना के मशहूर डॉक्टर उत्पल कांत के बेटे. कई सारे आपराधिक मामलों की फ़ाइल में नामज़द हैं. सबसे पहले 2010 में लोजपा के टिकट पर लड़कर हारे थे. 2015 में लोजपा और भाजपा साथ हुए, तो टिकट का मामला बैठा नहीं. कांग्रेस ने टिकट पकड़ा दिया. जीत गए. और इस साल के चुनाव में कांग्रेस ने फिर से भरोसा दिखाया. 86 हज़ार 1 वोट पाकर सीट निकाल ले गए. 

Siddharth Saurav Bikram
बिक्रम के नए विजेता सिद्धार्थ

अब बाग़ियों के गेम बिगाड़ने वाली बात. इस सीट पर भाजपा ने टिकट दिया अतुल कुमार को. चांपकर कैम्पेन किया लेकिन भाजपा के बाग़ी ने गेम कर दिया. बाग़ी का नाम अनिल सिंह. अनिल सिंह इस सीट पर भाजपा के ही टिकट पर विधायक रह चुके हैं. राजनीति शुरू की कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष. कांग्रेस के युवा कांग्रेस अध्यक्ष बनते हैं पटना से. फिर आता है समय 2005. अनिल सिंह के भी अंदर भी वही ख़्वाहिश, जो हर नेता की होती है. टिकट की. कांग्रेस में दो बार कट गया. लोजपा ने टिकट दिया 2005 में. अनिल सिंह चुनाव जीत गए. फिर से चुनाव हुए तो भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा. फिर से जीत गए. साल 2010 के चुनाव में अनिल सिंह ने ही सिद्धार्थ सौरव को इसी सीट पर महज़ 2 हज़ार वोटों से हराकर जीत दर्ज की थी. और फिर उन्हीं से 2015 में हारे. 

Anil Singh Bikram
बाग़ी अनिल सिंह

इस बार भी लगा कि पार्टी भरोसा करेगी. क्यों ऐसा लगा? क्योंकि लोग कहते हैं कि ज़मीन से जुड़े हुए नेता है. जनसम्पर्क बहुत बढ़िया है. घर-द्वार ज़रूर आते हैं. और राजनीति में विधायक काम करे न करे, दुआरे पर अगर चाय-भोज-भात-तेरही तोड़ ले, तो भी बहुत बड़ी बात है. 

Bikram Seat
बिक्रम विधानसभा सीट पर बीजेपी का हाल.

लेकिन बीजेपी ने अपना मैनेजमेंट बदला तो टिकट वितरण का तरीक़ा भी. अनिल सिंह का टिकट कट गया. और किंचित नए चेहरे अतुल कुमार को बीजेपी ने टिकट दे दिया. अनिल सिंह बाग़ी. निर्दलीय लड़ने के लिए कमर कस ली. चौचक जनसम्पर्क किया. और इस चुनाव में 50 हज़ार से ज़्यादा वोट निकाल ले गए. भले ही जीत नहीं पाए, लेकिन अपना हिसाब बराबर कर लिया. बीजेपी के अतुल 14 हज़ार कुछ वोट पाकर ही संतोष कर सके. 


लल्लनटॉप वीडियो : बिहार चुनाव: लोगों ने कहा- बीजेपी JDU का वोट कटवाने के लिए चोरी-छिपे LJP को सपोर्ट कर रही है

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.