Submit your post

Follow Us

बिहार चुनाव: शिवहर सीट के प्रत्याशी की गोली मारकर हत्या, एक समर्थक की भी मौत

बिहार विधानसभा चुनाव: शिवहर विधानसभा क्षेत्र के एक उम्मीदवार की हत्या कर दी गई है. उनके एक समर्थक की भी मौत हो गई है. जबकि एक घायल है. हमला करने वालों में से एक को भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला, वहीं एक दूसरा आरोपी पुलिस की हिरासत में है.

क्या है पूरा मामला? 

शनिवार 24 अक्टूबर को जनता दल राष्ट्रवादी के प्रत्याशी श्रीनारायण सिंह अपने समर्थकों के साथ प्रचार कर रहे थे. जिस वक्त वह पुरनहिया प्रखंड के हथसार गांव के पास जनसंपर्क कर रहे थे, उसी वक्त बाइक पर बैठे दो लोग वहां पहुंचे जो जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे. अचानक इन लोगों ने श्रीनारायण सिंह पर फायरिंग शुरू कर दी.

अचानक हुई इस फायरिंग से मौके पर भगदड़ मच गई और सीने में गोली लगने से घायल हुए श्रीनारायण सिंह खून से लथपथ जमीन पर गिर पड़े. उनके समर्थकों ने उन्हें बचाने का प्रयास किया, लेकिन उन्हें भी गोली लग गई. श्रीनारायण सिंह के अलावा संतोष कुमार और अभय कुमार भी घायल हो गए.

ये सब देख कर भीड़ और उम्मीदवार के समर्थक गुस्से से भर गए. भीड़ ने गोली चलाकर भाग रहे बदमाशों को दबोच लिया और पीटना शुरू कर दिया. इस बीच पुलिस को भी सूचना दे दी गई. जब तक पुलिस मौके पर पहुंची. एक बदमाश की मौत हो चुकी थी और एक घायल था जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

सीतामढ़ी रेफर किया गया था

जानकारी के मुताबिक श्रीनारायण सिंह को इलाज के लिए तुरंत ही शिवहर के सदर अस्पताल ले जाया गया जहां से डॉक्टरों ने उनकी स्थिति को देखते हुए उन्हें सीतामढ़ी रेफर कर दिया. लेकिन रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दिया. इलाज के दौरान उनके समर्थक संतोष कुमार की भी मौत हो गई. अभय कुमार के हाथ में गोली लगी थी. उनका इलाज जारी है. अभय कुमार ने मीडिया को बताया कि चुनाव प्रचार के दौरान करीब 8 से 10 लोग समर्थकों के बीच घुस आए थे. भीड़ में गोली चली तो भगदड़ मच गई. मुखिया जी (श्रीनारायण सिंह) को बचाने की हम लोगों ने कोशिश की थी लेकिन फिर भी गोली लग गई.

स्थानीय लोगों के मुताबिक चार लोग इस गोलीकांड में जख्मी हुए थे. प्रत्याशी और संतोष की मौत हो गई वहीं अभय के अलावा आलोक नाम का भी एक शख्स घायल है. श्रीनारायण सिंह को चार गोलियां लगी थीं और संतोष को एक गोली लगी थी. अभय के हाथ में और आलोक के पेट में गोली लगी है. स्थानीय लोगों ने मीडिया को बताया कि करीब 20 से अधिक गोलियां चली थीं.

पुलिस कर रही मामले की जांच

शिवहर के एसपी संतोष कुमार घटनास्थल पर पहुंचे और मौका मुआयना किया. उन्होंने बताया कि हत्या के कारणों की जांच की जा रही है और शवों का पोस्टमॉर्टम मैजिस्ट्रेट की निगरानी में सीतामढ़ी के सदर हॉस्पिटल में हो रहा है. सीतामढ़ी अस्पताल में पुलिस को भी तैनात किया गया है. पुलिस ने बताया कि एक आरोपी भीड़ के गुस्से का शिकार बन गया है और दूसरा पुलिस हिरासत में है जिससे पता किया जा रहा है कि आखिर क्यों उन्होंने प्रत्याशी पर फायरिंग की थी.

श्रीनारायण सिंह का भी रहा है आपराधिक इतिहास

श्रीनारायण सिंह पर 6 मामले दर्ज हैं और अवैध हथियार रखने के मामले में उन्हें दो साल की सजा भी हो चुकी है. वो शिवहर के ही नयागांव के रहने वाले थे और पंचायत के मुखिया भी रह चुके थे. वो डुमरी कटसरी से जिला परिषद के सदस्य भी रह चुके थे. सिंह आरजेडी के जिला उपाध्यक्ष भी थे और टिकट के दावेदार भी थे, लेकिन जातीय समीकरण उनके पक्ष में नहीं था लिहाजा उनको टिकट नहीं मिला जिसके बाद वो जनता दल राष्ट्रवादी के टिकट पर चुनाव मैदान में उतर गए थे. नामांकन के वक्त उन्होंने जो शपथपत्र दिया था उसमें आधा दर्जन मामलों की जानकारी दी थी.

चुनावों पर क्या होगा असर?

हत्याकांड की इस घटना की जांच के लिए तिरहुत प्रक्षेत्र के आईजी गणेश कुमार भी सीतामढ़ी पहुंचे और पूरे मामले की जानकारी ली. फिलहाल देखने वाली बात ये होगी कि क्या चुनाव को स्थगित किया जाएगा? इससे पहले देखा गया है कि उम्मीदवार की मृत्यु होने पर चुनाव को स्थगित किया जाता रहा है. स्थानीय मीडिया के मुताबिक शिवहर के जिलाधिकारी अवनीश कुमार सिंह ने कहा है कि तीन नवंबर को होने वाले मतदान पर घटना का असर नहीं होगा.


वीडियो- बिहार चुनाव: कोशी कॉलेज के इन छात्रों की बातें सुनकर सोच में पड़ जाएंगे कि वोट किसे दें

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.