Submit your post

Follow Us

बिहार चुनावः दूसरी बार VRS लेकर गच्चा खाने के बाद गुप्तेश्वर पांडे ने फेसबुक पर क्या लिखा?

गुप्तेश्वर पांडे. बिहार के पूर्व डीजीपी. हाल ही में उन्होंने वॉलंटरी रिटायरमेंट लिया था. ये दूसरी बार था जब वो इस तरह से सेवामुक्त हुए हैं. इससे पहले साल 2009 में लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए वो रिटायर हुए थे. बक्सर से टिकट की उम्मीद में थे, लेकिन बीजेपी ने टिकट नहीं दिया. करीब नौ महीने बाद उन्होंने फिर से पुलिस सेवा जॉइन कर ली थी. इस बार फिर चुनाव से पहले चर्चा में आए, सुशांत केस के दौरान नीतीश सरकार तारीफ करते दिखे. रिया चक्रवर्ती पर ‘औकात’ वाली टिप्पणी की. फिर उन्होंने रिटायरमेंट लेने का ऐलान किया और 27 सितंबर को जेडीयू में शामिल हो गए.

इस बार लगा था कि जेडीयू से टिकट तो मिल ही जाएगा. 7 अक्टूबर को जेडीयू ने अपने 115 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की तो उसमें गुप्तेश्वर पांडेय का नाम नहीं था. 2009 की तरह इस बार भी गुप्तेश्वर पांडे खाली हाथ ही रह गए. अब गच्चा मिला तो लोग सवाल पूछने लगे कि भैया क्या हुआ? कैसे हुआ, क्यों हुआ? फोन पर फोन. ऐसे में पांडे जी ने फेसबुक पर लिखना पड़ा कि फोन न करें, वो बिहार और बक्सर की जनता के लिए काम करते रहेंगे. पांडे जी ने लिखा,

अपने अनेक शुभचिंतकों के फ़ोन से परेशान हूं. मैं उनकी चिंता और परेशानी भी समझता हूं. मेरे सेवामुक्त होने के बाद सबको उम्मीद थी कि मैं चुनाव लड़ूंगा लेकिन मैं इस बार विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ रहा. हताश निराश होने की कोई बात नहीं है. धीरज रखें. मेरा जीवन संघर्ष में ही बीता है. मैं जीवन भर जनता की सेवा में रहूंगा. कृपया धीरज रखें और मुझे फ़ोन नहीं करें. बिहार की जनता को मेरा जीवन समर्पित है. अपनी जन्मभूमि बक्सर की धरती और वहां के सभी जाति मज़हब के सभी बड़े-छोटे भाई-बहनों माताओं और नौजवानों को मेरा पैर छू कर प्रणाम! अपना प्यार और आशीर्वाद बनाए रखें!

Gupteshwar Pandey

पांडेय के जेडीयू में शामिल होने के बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चा थी कि वो बक्सर सीट से चुनाव लड़ सकते हैं. बक्सर, गुप्तेश्वर पांडेय का होम टाउन है. लेकिन सीट शेयरिंग में सीट बीजेपी के खाते में चली गई. हालांकि पहली लिस्ट में बीजेपी ने बाकी उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की लेकिन बक्सर सीट को खाली छोड़ दिया था. इससे इस चर्चा ने जोर पकड़ा कि हो सकता है कि बीजेपी अपने खाते से उन्हें बक्सर से चुनाव लड़वाए. लेकिन देर रात बीजेपी ने बक्सर से भी अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया. बीजेपी ने बक्सर सीट से परशुराम चतुर्वेदी को टिकट दिया है.

बिहार में 28 अक्टूबर को पहले चरण का चुनाव है. 71 सीटों पर चुनाव होने हैं. 8 अक्टूबर नामांकन की आखिरी तारीख है.


‘लल्लनटॉप’ से बातचीत में गुप्तेश्वर पांडेय ने चुनाव लड़ने पर पहले ही बोल दिया था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.