Submit your post

Follow Us

चंद्रशेखर आजाद ने कहा- सपा के साथ गठबंधन नहीं, अखिलेश ने दलितों का अपमान किया

भीम आर्मी और आजाद समाज पार्टी के मुखिया चंद्रशेखर आजाद ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन की किसी भी संभावना को खारिज कर दिया है. शनिवार, 15 जनवरी को लखनऊ में उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. चंद्रशेखर ने आरोप लगाया कि अखिलेश यादव ने दलित समाज को अपमानित किया है. उन्हें दलितों के वोट चाहिए, लेकिन दलित लीडरशिप नहीं चाहिए.

चंद्रशेखर ने कहा,

छह महीने पहले हमने प्रयास किया कि बहुजन समाज इकट्ठा हो. अखिलेश यादव पर हमने भरोसा किया. छह महीने से लगातार हमारी मुलाकातें हुईं. साकारात्मक बातें हुईं. हमारे जो मुद्दे थे, जैसे प्रमोशन में रिजर्वेशन का मामला, समाजिक न्याय का मामला, सब पर बात हुई. मुस्लिम साथियों को आरक्षण देने की बात कही थी उन्होंने. हमने बीजेपी के रोकने के लिए प्रयास किया. कदम बढ़ाया. लेकिन अंत समय में मुझे लगा कि अखिलेश को दलितों की जरूरत नहीं है. वह इस गठबंधन में दलित लीडरशिप को नहीं चाहते. वो चाहते हैं कि उनको दलित वोट करें.

‘अखिलेश ने अपमानित किया’

चंद्रशेखर आजाद ने अखिलेश यादव पर अपमानित करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा,

चंद्रशेखर ने कहा कि वह कांशीराम को अपना नेता मानते हैं. उन्होंने भरोसा करके मुलायम सिंह को नेता बनाया. लेकिन क्या हुआ. ये हर कोई जानता है.  एक महीना, 10 दिन के बाद कल उन्होंने (अखिलेश)अपमानित किया. बहुजन समाज के लोगों का उन्होंने अपमान किया है. उन्होंने कहा था कि मैं शाम तक बताता हूं, लेकिन उनका जवाब अभी तक नहीं आया. मैं समझता हूं कि इस गठबंधन में वो दलित समाज को नहीं चाहते. जबकि बड़े पैमाने पर हमारे साथी जो बैठे हैं, उनका मन था कि बीजेपी को रोकने के लिए इस गठबंधन का हिस्सा बनें. मुझे लगता है कि अखिलेश जी अभी सामाजिक न्याय का मतलब नहीं समझ पाए हैं. सामाजिक न्याय कहने से नहीं होता.

चंद्रेशेखर ने आगे कहा कि उन्होंने अखिलेश यादव से कह दिया था कि वो बड़े भाई हैं. अखिलेश यादव को उन्हें बुलाना चाहिए था.चंद्रशेखर ने आरोप लगाया कि अखिलेश की चुप्पी बताती है कि वो बीजेपी की तरह व्यवहार कर रहे हैं.

चंद्रशेखर आजाद ने ये भी कहा कि वो विपक्ष को एकजुट करने का प्रयास करेंगे. अगर बात नहीं बनी तो अकेले चुनाव लड़ेंगे. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि आप अखिलेश से पूछिए कि गठबंधन क्यों नहीं हो पाया.

चंद्रशेखर ने बसपा प्रमुख मायावती के जन्मदिन पर उन्हें बधाई दी और उनकी लंबी उम्र की कामना की. चंद्रशेखर ने कहा कि सबसे पहले उन्होंने मायावती से गठबंधन की बात की थी लेकिन उन्होंने सहमति नहीं दी. इसके बाद वह अखिलेश यादव के पास गए. ताकि किसी भी हालत में बीजेपी को सरकार बनाने से रोका जा सके.


BJP के मंत्रियों-विधायकों के पार्टी छोड़ने से अखिलेश को क्या फायदा हो गया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.