Submit your post

Follow Us

Assam Election Result: बीजेपी छोड़ निर्दलीय लड़ने वाले दिलीप पॉल का सिलचर में बुरा हाल हो गया

सीट का नाम: सिलचर (Silchar) (कछार जिला) 

असम के कछार जिले की सिलचर सीट सबसे महत्वपूर्ण कही जा सकती है. यहां की हार-जीत का असम में हार-जीत पर प्रभाव देखने को मिलता है. ये असम के 126 विधानसभा क्षेत्रों में से एक है. यहां एक मई को चुनाव हुआ था. और ये मुकाबला इस बार दिलचस्प रहा. इस बार यहां भारतीय जनता पार्टी ने दीपायन चक्रबर्ती (Deepayan Chakraborty) को उतारा है. जिनका मुकाबला कांग्रेस कैंडिडेट तमल बानिक (Tamal Banik) से है. तमल बानिक को अब तक 11047 वोट मिले हैं. जबकि दीपायन चक्रबर्ती को 15039 वोट ही मिले हैं. वहीं निर्दलीय उम्मीदवार दिलीप कुमार पॉल (Dilip Paul) को 1821 वोट मिले हैं.

कौन आगे?

दीपायन चक्रबर्ती (BJP)
कितने वोट मिले: 15039

कौन पीछे?

तमल बानिक (कांग्रेस)
कितने वोट मिलेः 11047

ये इंटरेस्टिंग है कि इस सीट पर दिलीप कुमार पॉल इस बार निर्दलीय उम्मीदवार की तरह लड़ रहे हैं. असम विधानसभा चुनाव में जब इन्हें बीजेपी ने टिकट नहीं मिला तो दिलीप ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. उनके साथ शिलादित्य देव ने भी इस्तीफा दिया. इसी के बाद बीजेपी ने ये टिकट दीपायन को दे दिया.

पिछले चुनाव के नतीजे:
– साल 2016 में 15 उम्मीदवारों ने सिलचर से नामांकन भरा था. जहां बीजेपी ने अपना परचम लहराया था. पिछले साल बीजेपी की तरफ से दिलीप कुमार पॉल उम्मीदवार थे. जिन्होंने कांग्रेस के बिथिका देव को 39,920 वोटों की मार्जिन से हराया था.

– 2011 के इलेक्शन में यहां सुष्मिता देव की जीत हुई थी. जो क्रांगेस की उम्मीदवार थीं. उनके सामने थे बीजेपी के राजदीप रॉय. सुष्मिता को 56,377 वोट मिले थे. जबकि राजदीप को 42,366. सिलचर सीट पर हमेशा ही उलट-फेर होता रहा है. इस बार का मुकाबला भी दिलचस्प रहा.

सीट ट्रिविया
# अब तक यहां 16 चुनाव हुए हैं, जिनमें से 6 में कांग्रेस ने जीत दर्ज की है. वहीं बीजेपी ने 5 बार जीत हासिल की है.
# सिलचर सीट सबसे अहम मानी जाती है. सिलचर की सीट पर हार-जीत को असम की हार-जीत से जोड़ा जा सकता है. सिलचर दक्षिण असम में है. ये कछार जिले का मुख्यालय है.
# अमस के कछार जिले में स्थित एक प्रमुख शहर है जिसे राज्य का दूसरा सबसे बड़ा शहर कहा जाता है.
# यह जगह पूर्वोत्तर के शेष क्षेत्रों की अपेक्षा बहुत शांत है, इसीलिए भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी ने इस शहर को ‘शांति का द्वीप’ नाम दिया था.


वीडियो: असम चुनाव: सिलचर स्टेशन का नया नाम आपको असम में भाषा की राजनीति समझा देगा!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.