Submit your post

Follow Us

महान दार्शनिक मोहनीश बहल: एक लड़का और एक लड़की कभी दोस्त नहीं हो सकते

5
शेयर्स

1983 में अमिताभ बच्चन की तबीयत ख़राब हो गई थी. डॉक्टरों की बात सुन के सब लोग घबरा जाते थे. अमिताभ सबके दिलों के राजा थे. लोग बड़े पशोपेश में थे कि क्या होगा. ‘विजय’ फ़िल्में छोड़ देगा क्या. वही हुआ. अमिताभ ने फ़िल्मी करियर को अलविदा कहा और लोकसभा चुनाव में इलाहाबाद से हेमवती नन्दन बहुगुणा के खिलाफ परचा भर दिया.

उस वक़्त बड़ी बातें होती थीं कि अमिताभ के बाद कौन होगा सुपरस्टार. कोई होगा भी या ये आखिरी सुपरस्टार थे? इस दौड़ में कई चेहरे थे. इनमें स्टार-पुत्र सबसे आगे थे. सनी देओल, कुमार गौरव, संजय दत्त तो थे ही. मिथुन थे. जितेन्द्र भी थे, पर बूढ़े हो चुके थे. राजकपूर के बेटे चिंटू, फिर जैकी श्रॉफ भी थे जिनको सुभाष घई ने स्टार बना दिया था. इन सबके साथ एक और नाम लिया जाता था. मोहनीश बहल. ये भी स्टार-पुत्र ही थे. नूतन के बेटे. काजोल के कजिन. आवाज शानदार थी. उस दौर के लिहाज से एक्टिंग भी ठीक-ठाक करते थे. अच्छा दिखते थे. संभावनाएं थीं कि ये भी कप्तान बन सकते हैं.

1984 में हॉलीवुड फिल्म The Blue Lagoon पर बनी ‘तेरी बांहों में’ के हीरो भी थे ये. उसमें हीरोइन जैकी श्रॉफ की बीवी आयशा थीं.

CKtYfQDUYAQwoGS

मोहनीश बहल ने जनता को दिया ज्ञान

वक़्त गुजरा. उस दशक में बॉलीवुड क्या कर रहा था, किसी को नहीं पता. शायद इन्तजार हो रहा था. अचानक से नए लड़के धमक गए. शाहरुख़, सलमान, आमिर, अजय, अक्षय . एकदम कब्ज़ा कर लिए. आज भी इन्हीं का कब्ज़ा है. इन सारे चेहरों के बीच मोहनीश बहल कहीं खो गए थे. पर इनका वक़्त भी आया. ‘मैंने प्यार किया’ में जो इन्होंने दर्शन शास्त्र समझाया वो लोगों की जबान पर चढ़ गया:

एक लड़का और लड़की कभी दोस्त नहीं हो सकते.

लोग तो यहां तक कहते हैं कि ओशो के बाद भारत से सबसे बड़ा दार्शनिक मोहनीश बहल ही निकले हैं! इस लाइन ने उस वक़्त के आशिकों को लाइसेंस दे दिया था, प्यार करने का. ‘फ्रेंड-जोन’ होने की आशंका ही नहीं थी. क्योंकि सब मान बैठे थे कि ‘दोस्त’ जैसा तो कुछ होता ही नहीं है. हम कह सकते हैं कि मोहनीश ने एक पूरी पीढ़ी को बहका दिया था.

मोहनीश को क्राइम करते देख भरोसा नहीं होता, लगता किसी ने बहका दिया है

Jai-Ho-Mobile-Scene

पर जिंदगी कहां एक जैसी रहती है. इस दर्शन के बाद लोगों ने इनको हर फिल्म में अपनी ‘दमित इच्छाओं’ को पूरा करते देखा. रेप सीन में खूब नजर आने लगे. विलेन बनते रहे. इन्होंने अक्षय से लेकर शाहरुख़ तक की मार खाई है. बॉलीवुड के सारे बड़े खिलाड़ियों के साथ फ़िल्में की हैं मोहनीश ने. एक तरफ कहा जाता है कि किसी हीरो या हीरोइन को सफल होने के लिए किसी एक खान या कुमार, देवगन के साथ फिल्म तो करनी ही चाहिए. हमारा कहना है कि वैसे लोगों को मोहनीश से ज्ञान लेना चाहिए. मोहनीश ने सबके साथ काम किया है.

पर कभी विश्वास नहीं होता था कि ये लड़का क्रिमिनल भी हो सकता है. हमेशा यही लगता कि मनबढ़ू लड़का है. जरूर इसको प्रेम चोपड़ा या किरण कुमार ने बहकाया है. कम से कम गोविंदा की फिल्म में तो यही होता था. मोहनीश को चढ़ाकर मार खिलवाते थे लोग. मोहनीश को परदे पर क्राइम करते देख लगता था कि पढ़ा-लिखा लगता है, समझदार लगता है, फिर क्यों कर रहा है ऐसा? 

‘संस्कारी’ बड़े भाई की पोजीशन तो मोहनीश के पास ही है

Twitterati-trolls-‘Bade-Bhaiyya’-Mohnish-Behl-and-it-is-hilarious-660x400
संस्कारी मोहनीश संस्कारी आलोकनाथ के साथ

बाद में मोहनीश का दर्शन एक बार फिर जागा. जनता ने उन्हें एक नए रूप में देखा. ‘हम आपके हैं कौन’ और ‘हम साथ-साथ हैं’ में उन्होंने ‘बड़े भाई’ का जो किरदार निभाया, कि भगवान राम के बाद के सबसे ज्यादा फेमस बड़े भाई बन गए. ऐसे बड़े कि सलमान खान भी इनके कंधे से लग के रोते थे.

tumblr_n3qftyzl871rggbw6o1_400

फिर जनता ने इनको ‘छोटे भाई’ के रूप में देखा ही नहीं. सोशल मीडिया पर तो ये अफवाह भी उड़ती है कि सनी देओल की फिल्म ‘बिग ब्रदर’ मोहनीश के ‘बड़े भाई’ वाले रोल को ट्रिब्यूट है. (मजाक है, सीरियसली नहीं लेना है.)

CKuI5KzUEAAiisU


ये स्टोरी ‘दी लल्लनटॉप’ के लिए ऋषभ ने की है.


ये भी पढ़ें:

तिलिस्मी सीरियल ‘चंद्रकांता’, जिसके ये 7 किरदार भुलाए नहीं भूलते

भगवान दादा की 34 बातें: जिन्हें देख अमिताभ, गोविंदा, ऋषि कपूर नाचना सीखे!

मनोज कुमार के इस एक सीन पर अवॉर्ड्स की बारिश होनी चाहिए थी!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

इस क्विज़ में परफेक्ट हो गए, तो कभी चालान नहीं कटेगा

बस 15 सवाल हैं मित्रों!