Submit your post

Follow Us

हिंदी फिल्मों की हीरोइन हमेशा टीचर, डॉक्टर या स्टूडेंट ही क्यों होती है?

93
शेयर्स

इमोशन्स से भरपूर, रंगीन और तकनीकी तौर पर तेजी से डेपलप होती हिंदी फिल्म इंडस्ट्री पुरुष प्रधान फिल्में बनाने के लिए फेमस है. फिल्म में डिस्क्लेमर और टाइटल के बाद हीरो की एंट्री होती है. मजबूत सी बॉडी और रफ लुक के साथ जो पुलिस की वर्दी में या फिर गैंगस्टर या बिजनेसमैन होता है. इसके बाद नजर आती है हीरोइन. नाजुक, आकर्षक और शर्मीली. वो टीचर या डॉक्टर होगी, या फिर फेमस बिजनेसमैन ‘मिस्टर ओबरॉय’, ‘सक्सेना’ या ‘चोपड़ा’ की बेटी.

100 साल से ज्यादा पुरानी हिंदी फिल्म इंडस्ट्री आज भी उसी दौर में है, जब हीरोइन की जरूरत फिल्म के मेन कैरेक्टर हीरो और दर्शकों को एंटरटेन करने के लिए होती है. महिलाओं के संघर्ष, यौन इच्छाओं और जिज्ञासाओं जैसे विषयों को उठाने वाली कुछेक फिल्मों को छोड़ दिया जाए, तो बॉलीवुड हीरोइनों को ग्लैमर और सेक्स सिंबल से इतर मजबूत रोल में पेश करने के लिए अब भी तैयार नहीं है.

हीरो और हीरोइन की फिल्म में एंट्री

फिल्मों में अमूमन तीन वजह से ही तालियां बजती है. जब हीरो की एंट्री होती है, या जब वो विलेन को पीट-पीटकर मार देता है, या फिर हीरोइन को जबरदस्ती चूमता है. इसके इर्दगिर्द ही पूरी फिल्म चलती है.

ये सिर्फ हम नहीं कह रहे. IBM डेटाशीट के ज़रिए 1970 से 2017 के बीच की 4000 हिंदी फिल्मों की रिसर्च की गई. उसमें ये डेटा सामने आया है.

रिसर्च में शामिल 4000 हिंदी फिल्मों में एक्टर-एक्ट्रेस के कैरेक्टर के पेशे इस तरह थे.
रिसर्च में शामिल 4000 हिंदी फिल्मों में एक्टर-एक्ट्रेस के कैरेक्टर के पेशे इस तरह थे.

फिल्म के शुरूआती 15 मिनट में हीरो और हीरोइन का इंट्रो दे दिया जाता है. अगर हीरो गुस्सैल, बागी या सेक्सुअल अग्रेसिव होगा, तो गुस्सा आने पर शर्ट फाड़ देगा, मुट्ठियां भींच लेगा या बाइक्स को उठाकर पटक देगा. चॉकलेटी हीरो होगा तो फिल्म में पहले कुछ मिनटों में फ्लर्ट और रोमांस वाले सीन्स के साथ इमेज क्रिएट की जाती है. लेकिन एक्ट्रेस की फिजिकल अपीरियंस इमोशनल, सॉफ्ट स्पोकन और ‘आइडियल विमेन’ की ही होती है, जिसे पूरी फिल्म में हीरो के थोड़ा पीछे खड़ा रखकर मेनटेन किया जाता है. अगर वो बेबाक है, जोर से बोलने वाली या ताकतवर है, तो वो नेगेटिव या फनी कैरेक्टर के तौर पर फिल्म में होगी.

फिल्मों में हीरो और हीरोइन का प्रोफेशन

हिंदी फिल्मों में हीरो ईमानदार पुलिस ऑफिसर, पैशनेट सिंगर, साइंटिस्ट या भारतीय सेना की सीक्रेट विंग में शामिल देशभक्त होता है. लेकिन हीरोइन का रोल सुंदर और शर्मीली लड़की, किसी फेमस बिजनेसमैन की बेटी, प्यार में धोखा खाई हुई लड़की का होता है.

IBM की रिपोर्ट के मुताबिक, 4000 फिल्मों में से 90 परसेंट में हीरो का कैरेक्टर पुलिस ऑफिसर का था. वहीं 10 परसेंट हीरोइन्स पुलिस के कैरेक्टर में होती हैं. हिंदी सिनेमा में सबसे ज्यादा करीब 42 परसेंट फिल्मों में एक्ट्रेस टीचर होती हैं. ‘मेरा नाम जोकर’ में ‘मैडम मेरी’ का रोल करने वाली सिमी ग्रेवाल से ‘मैं हूं न’ की सुष्मिता सेन और ‘देसी बॉयज’ की चित्रांगदा सिंह, ‘कुर्बान’ में करीना कपूर और ‘हिचकी’ में रानी मुखर्जी तक टीचर के रोल में हैं. डायरेक्टर जरूरत और फिल्म की स्टोरी लाइन के हिसाब से टीचर को कभी मादक और कभी केयरिंग बना देते हैं.

महिला प्रधान फिल्मों का दौर

साल में 400 से ज्यादा फिल्में बनाने वाले बॉलीवुड में तीन से चार महिला प्रधान फिल्में बनती हैं, जिनमें हीरोइनों के अहम रोल होते हैं. बॉलीवुड वो जगह है, जहां हीरो-हीरोइन्स की फीस से लेकर वैनिटी वैन तक में फर्क होता है. ऐसी फिल्म इंडस्ट्री में महिला प्रधान फिल्मों की बात सोचना आसान नहीं है. दरअसल फिल्म इंडस्ट्री एक्सपेरिमेंट के दौर में है. जहां तकनीक से लेकर फिल्मों की स्टोरी लाइन तक एक्सपेरिमेंट किया जा रहा है. महिला प्रधान फिल्में भी इसी का एक हिस्सा हैं.

फिल्में हमारे समाज को ही रिप्रजेंट करती हैं. सोसायटी में शर्मीली और सॉफ्ट स्पोकन लड़कियों को आदर्श माना जाता है. करियर ऑप्शन में डॉक्टर प्रोफेशन लड़कियों को बेस्ट माना जाता है. जब समाज में महिलाओं की स्थिति नहीं बदली तो परदे पर बदल जाने की कल्पना कैसे की जा सकती है.


वीडियो- ऋतिक-टाइगर की आने वाली फिल्म गदर काटने वाली है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Why in bollywood films actress’s profession is doctor teacher or singer

कौन हो तुम

बजट के ऊपर ज्ञान बघारने का इससे चौंचक मौका और कहीं न मिलेगा!

Quiz खेलो, यहां बजट की स्पेलिंग में 'J' आता है या 'Z' जैसे सवाल नहीं हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान और टॉलरेंस लेवल

अनुपम खेर को ट्विटर और व्हाट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो.

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

आजादी का फायदा उठाओ, रिपब्लिक इंडिया के बारे में बताओ

रिपब्लिक डे से लेकर 15 अगस्त तक. कई सवाल हैं, क्या आपको जवाब मालूम हैं? आइए, दीजिए जरा..

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.