Submit your post

Follow Us

बस्तर के जंगल में होती हैं सबसे ज्यादा हत्याएं लेकिन असल जंगली शहरों में बसते हैं!

छत्तीसगढ़. इसका बस्तर जिला, जिसे सांस्कृतिक राजधानी भी कहा जाता रहा है. कभी पढ़ा था कि अपने प्रसार में ये बेल्जियम और स्विट्ज़रलैंड से भी बड़ा था. नक्सल प्रभावित इलाका. पुलिस और नक्सलियों में संघर्ष यहां जारी है. हिंसक घटनाओं में लोगों की जानें जाती रहती हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक इस इलाके में सबसे ज्यादा हत्याएं होती हैं. दावा कि बस्तर के कोड़ानेर थाने में सबसे ज्यादा हत्याओं के मामले दर्ज हैं. इसे एशिया का सबसे कुख्यात थाना तक कह दिया गया है. बताया गया है कि यहां कम-ज्यादा नमक, मुर्गे और बीड़ी जैसी चीजों के लिए क़त्ल हो जाते हैं. अंधविश्वास के नाम पर भी लोगों को मार दिया जाता है.

कोड़ानेर थाना बस्तर जिले के हेडक्वार्टर जगदलपुर से 40 किलोमीटर दूर स्थित है. 1982 में थाना बना था. तब से अब तक 500 से ज्यादा मर्डर यहां दर्ज किए जा चुके हैं. यहां के आईजी ऑफिस से मर्डर के रिकॉर्ड 1982 के आठ साल बाद 1990 से ही मिल पाते हैं. उस आंकड़े के हिसाब से 307 मर्डर हुए हैं. 2003 के बाद का जो रिकॉर्ड कोड़ानेर थाने में है, उसके आधार पर यहां 14 साल में 174 मर्डर के केस सामने आए हैं.

इस आदिवासी बहुल इलाके में अशिक्षा है. बताया गया है कि कभी-कभी तो मुर्गों की लड़ाई में ही कुल्हाड़ी चल जाती है. पुलिस का दावा है कि यहां कोई बीड़ी मांगे और दूसरा न दे तो इसी पर मार दिया जाता है. लेकिन बाद में जब अपनी गलती का अहसास होता है तो पश्चाताप में वो खुद थाने पहुंचकर सरेंडर कर देते हैं. हत्या के कुछ मामले ऐसे भी बताए जाते हैं जिनमें खाना बनने में देर हो गई तो पुरुषों ने मां या बीवी को मार दिया गया. कुछ मामलों में 25 रुपये के लिए किसी को मार दिया. किसी को इमली बेचने के लिए तो किसी को सिर्फ नमक के लिए मार दिया गया.

ये तो रही रिपोर्ट और पुलिस के हिसाब से कही बातें.

लेकिन क्या हम इन पर यकीन सिर्फ इसलिए आसानी से कर लेंगे क्योंकि ये लोग जंगल में रहते हैं, पढ़े-लिखे नहीं हैं, ‘सिविलाइज़्ड’ नहीं हैं या इसलिए कि ये नक्सलियों का इलाका है और वे तो ‘होते ही बुरे हैं.’

अभी ये ज्ञात नहीं है कि क्या सारे पांच सौ से ज्यादा मर्डर गुस्से के कारण हुए हैं? क्या हम ये नहीं जानते कि किस प्रकार पुलिस तय समय सीमा पर केस क्लोज़ करने के दबाव में लोगों को फंसाती है? नक्सली होने के शक में किसी को भी मार देना तो बड़ा आसान है. फिर हत्या के लिए किसी को भी फंसा दो. क्या हम ये नहीं जानते कि नक्सल प्रभावित इलाका होने के कारण वहां लोगों के नागरिक अधिकार न्यूनतम हैं और इस वजह से कानून-कायदे वाले अपने हिसाब से थ्योरीज़ बना लेते हैं और रजिस्टर में जो लिखना होता है लिख लेते हैं?

इस जंगल वाले इलाके में हत्याएं होती है तो हम सोच लेते हैं कि जंगली लोग हैं और भला क्या करेंगे लेकिन सही मायनों में असल जंगली कंक्रीट की बहुमंजिला इमारतों में बसते हैं. जंगल की घटनाओं को शर्म आ जाए एेसी बातें मुंबई, बेंगलुरु जैसी आधुनिक सभ्यताओं में होती हैं. ग्रामीण इलाके को गुस्सा आता होगा लेकिन शहरी लोगों का गुस्सा तो बेजां ही है. वे तो शिक्षित, सभ्य हैं भला फिर उन्हें गुस्सा क्यों आता है? 

दिल्ली जैसे शहर में कुछ रोज़ पहले एक आदमी ने दूसरे को सिर्फ इस बात के लिए मना किया कि वो उसके घर के सामने शराब न पिए. बदले में शराब पी रहे आदमी ने उसे और उसके दो बच्चों पर तेज़ाब फेंक दिया. साउथ के महानगर में एक औरत ने एक कुतिया के बच्चों को जहर दे दिया क्योंकि उसे पसंद नहीं था कि वो उसके इलाके में पले-बढ़ें. एक एेसी ही सोसायटी में एक आदमी ने एक मां-बेटी को इसलिए बुरी तरह पीटा क्योंकि वो सोसायटी के गेट के पास कुत्ते को खाना खिला रही थीं.

मुंबई में भी ये आम है.

करोड़ रुपए की गाड़ी में बैठे लोग सबसे सभ्य होते होंगे लेकिन रोड़ रेज़ के मामले में उनका बर्ताव देख लें तो मानवता के ऊपर से विश्वास उठ जाए. गाड़ी के गलती से मामूली स्क्रैच लग जाए तो सामने वालों को पीट-पीट कर अधमरा कर देते हैं.

मेट्रो में धक्का लग जाए तो खैर मना लीजिएगा. शहरों में छोटी सी बात गालियां से गोलियों तक कब पहुंच जाती है पता भी नहीं चलता.

इतने सब के बाद अब एंगर मैनेजमेंट की क्लास हम शहर में बैठे लोगों को लेने की जरूरत है कि जंगल में बैठे आदिवासी को, ये समझ पाना इतना भी मुश्किल नहीं है.


ये भी पढ़ेंः

इस बार अमित शाह ने अमेठी की इमोशनल नस पकड़ ली है

इस बार अमित शाह ने अमेठी की इमोशनल नस पकड़ ली है

फेसबुक लाइव में कपल ने पुलिस से पूछा, ‘क्या आपने हमें किस करते हुए देखा’

महात्मा गांधी की अहिंसा, प्रेम ने ली थी कस्तूरबा की जान

मायावती ने सच में अपने वोट बीजेपी को ट्रांसफर करा दिए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

धान खरीद के मुद्दे पर बीजेपी की नाक में दम करने वाले KCR की कहानी

धान खरीद के मुद्दे पर बीजेपी की नाक में दम करने वाले KCR की कहानी

KCR की बीजेपी से खुन्नस की वजह क्या है?

कौन हैं सीवान के खान ब्रदर्स, जिनसे शहाबुद्दीन की पत्नी को डर लगता है?

कौन हैं सीवान के खान ब्रदर्स, जिनसे शहाबुद्दीन की पत्नी को डर लगता है?

सीवान के खान बंधुओं की कहानी, जिन्हें शहाबुद्दीन जैसा दबदबा चाहिए था.

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.