Submit your post

Follow Us

गुलाम रसूल गलवान: वो आदमी, जिसकी वजह से घाटी का नाम 'गलवान' पड़ गया

15 जून, सोमवार की रात लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच झड़प हुई. तब से ही लगातार खबरें आ रही हैं. 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान भी इस घाटी में दोनों देशों की सेनाओं का आमना-सामना हुआ था. यही नहीं, उस युद्ध के दौरान चीन द्वारा कब्ज़ा किए जाने वाले सबसे शुरुआती क्षेत्रों में एक ये इलाका भी था. आखिर इसका नाम ‘गलवान घाटी’ कैसे पड़ा? और भारत की सीमा के लिए ये जगह महत्वपूर्ण क्यों है?

कैसे पड़ा ये नाम

पूर्वी लद्दाख से होते हुए श्योक नदी में मिलने वाली गलवान नदी बहती है यहां. इसका नाम गुलाम रसूल गलवान के नाम पर रखा गया है. इसी नदी की वजह से इस जगह को गलवान घाटी कहा जाता है.

Galwan Ghati
भारत के नक़्शे पर गलवान घाटी. (तस्वीर: इंडिया टुडे)

रसूल बैले ने ‘इकॉनमिक टाइम्स’ में लिखते हुए गुलाम रसूल गलवान के बारे में पूरी जानकारी दी है. रसूल बैले गुलाम रसूल गलवान के परिवार से हैं. गलवान उनकी मां के परनाना थे. उन्होंने वो घटना भी बताई है, जिसके बाद घाटी का नाम गलवान रखा गया. रसूल बताते हैं कि गलवान का जन्म साल 1878 के आस-पास हुआ था, ऐसा पढ़ने को मिलता है. उनकी मां ने उन्हें अकेले पाला-पोसा. वो एक सरकारी अधिकारी के यहां घर का काम वगैरह देखकर पैसे कमाती थीं. थोड़े बड़े होने पर गलवान भी उनकी मदद करने में लग गए.

35 साल तक यात्रा करने वाले गुलाम रसूल गलवान 

थोड़े बड़े होने पर वो उस इलाके में आने वाले यूरोपी यात्रियों के साथ गाइड के तौर पर जाने लगे. वो उस इलाके को समझने और वहां ट्रेवल करने में इन खोजियों और यात्रियों की मदद करते थे. रसूल बैले के अनुसार, गुलाम रसूल गलवान ने कई मशहूर लोगों के साथ काम किया. जैसे मेजर गॉडविन ऑस्टिन. वो व्यक्ति, जिसने काराकोरम पर्वत की ऊंचाई नापी थी. उनके नाम पर ही इसे माउंट गॉडविन ऑस्टिन भी कहा जाता है. 1890 से लेकर 1896 तक वो सर फ्रांसिस यंगहसबैंड नाम के डिप्लोमैट के साथ थे, जिन्होंने ब्रिटेन और तिब्बत के बीच 1904 का समझौता तैयार किया था. ये तिब्बती पठार, पामीर पहाड़ और मध्य एशिया के रेगिस्तानों की खोज में निकले थे. इसमें गलवान ने उनकी बहुत मदद की.

Gulam Galvan 2
गुलाम रसूल गलवान की चंद उपलब्ध तस्वीरों में से एक. (तस्वीर: ट्विटर)

इस तरह के कई हस्तियों के साथ घूमते हुए गुलाम रसूल गलवान ने अपनी पूरी जिंदगी बिता दी. 1925 में उनकी मौत हुई. लेकिन उससे पहले वो एक ऐसी किताब लिख गए, जिसमें उन्होंने अपने सभी यात्रा वृत्तांतों को सहेज दिया था. इस किताब का नाम है सर्वेन्ट ऑफ़ साहिब्स. इसकी भूमिका सर फ्रांसिस यंगहसबैंड ने लिखी है, जिनके साथ घूमते हुए गुलाम रसूल गलवान ने कई साल बिताए थे. इस किताब की खासियत ये है कि ये गुलाम रसूल की टूटी-फूटी अंग्रेजी में उनके यात्रा वृत्तांतों को बताती है. गुलाम रसूल गलवान ने अपनी 35 साल की यात्राओं में अंग्रेजी, लद्दाखी, उर्दू, और तुर्की भाषाओं का इस्तेमाल सीख लिया था. बाद में वो लेह में ब्रिटिश कमिश्नर के मुख्य सहायक के पद तक भी पहुंचे.

Servants Of Sahib
गुलाम रसूल गलवान की लिखी हुई किताब.

रसूल बताते हैं कि जब 1892 में चार्ल्स मरे वहां आए, तो गलवान उनके साथ यात्रा पर निकले थे. चार्ल्स डनमोर के सातवें अर्ल (राजा की बराबरी वाला पद) थे. डनमोर आयरलैंड में एक जगह का नाम है. इन्हीं के साथ जब गुलाम रसूल गलवान निकले, तब उनकी उम्र बमुश्किल 14 साल थी. इस यात्रा के दौरान उनका काफिला एक जगह अटक गया. वहां सिर्फ ऊंचे पहाड़ और खड़ी खाइयां थीं. उनके बीच से नदी बह रही थी. किसी को समझ नहीं आ रहा था कि यहां से कैसे निकला जाए. तब 14 साल के गलवान ने एक आसान रास्ता ढूंढ निकाला, और वहां से काफिले को निकाल ले गए.

लद्दाखी इतिहासकार अब्दुल गनी शेख के मुताबिक़, गलवान की ये चतुराई देखकर चार्ल्स बहुत प्रभावित हुए और उस जगह का नाम गलवान नाला रख दिया. गलवान के नाम पर. अब वही जगह ‘गलवान घाटी’ कहलाती है.

Galwan River Map Into
सैटेलाईट इमेज के ज़रिए ऐसी दिखती है गलवान नदी और घाटी. (तस्वीर: प्लैनेट लैब्स/इंडिया टुडे)

‘गलवान’ शब्द के पीछे की कहानी

गुलाम रसूल गलवान मूल रूप से कश्मीरी थे. गलवान वहीं की एक जनजाति है. अपनी किताब ‘सर्वेन्ट ऑफ साहिब्स’ में गुलाम रसूल बताते हैं कि गलवान नाम के पीछे की कहानी क्या है. कश्मीर की पहाड़ियों में महाराजा के कई घोड़े चराने जाया करते थे. कुछ लोग इनकी निगरानी करने के लिए रखे गये थे. इन्हीं में से एक लुटेरा बन गया, जिसका नाम था कर्रा गलवान. कर्रा का मतलब होता है काला और गलवान का मतलब लुटेरा. वो अमीरों के घर लूटता था और पैसे गरीबों में बांट देता था.

उसे महाराजा ने कैद करवा लिया था. इसके बाद उसके परिवार के लोग वो जगह छोड़कर चले गए. इस डर से कहीं महाराजा उन्हें भी कैद न कर ले.

‘कश्मीर ऑब्जर्वर’ के अनुसार, कश्मीरी भाषा में ‘गलवान’ शब्द का मतलब घोड़े रखने वाला होता है. सर वॉल्टर लौरेंस की किताब ‘द वैली ऑफ कश्मीर’ (कश्मीर घाटी) में वो लिखते हैं कि पहले गलवान घोड़े (टट्टू भी) चराकर आजीविका कमाते थे. लेकिन बाद में उन्होंने घोड़ों को चुराना शुरू कर दिया और उनकी पूरी जनजाति इसके लिए कुख्यात हो गई.


वीडियो: गलवान घाटी में भारत-चीन के सैनिकों की हिंसक झड़प पर PM मोदी ने क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

जो मोबाइल फोन हमारी ज़िंदगी का सबसे जरूरी हिस्सा बन गए हैं, उनमें चीन का कितना स्टेक है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020