Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

खुल्ला चैलेंज, PVR की ये वाली सीटें ऑनलाइन बुक करके दिखाओ

3.08 K
शेयर्स

पिक्चर देखने जाते हैं? बिलकुल जाते होंगे. क्यूं नहीं जाते होंगे? क्या मजा आती है पिक्चर देखने में. पाइरेटेड फ़िल्में देखना तो बेवकूफों का काम है. हॉल में जब तक सलमान भाई की एंट्री पर सीटी नहीं बजाई तब तक क्या मजा? हमारा दैत्य तो वूल्वरीन की एंट्री पर जोर से चीख दिया था, “बड़े पापा आ गए…!!!”

खैर, किसको क्या चिल्लाना है, सब अपने हिसाब से तय कर लें. लेकिन ये मालूम है कि अगर पहले ही फ़िल्म का टिकस बुक कर रहे हो तो पीवीआर में एक झोल सा होता है. उस झोल में होता ये है कि कुछ तय सीटें आप बुक नहीं कर सकते.

देखिये. 13 अक्टूबर को एमएस धोनी फिल्म का शो अगर हम एमजीएफ़ गुड़गांव में बुक करवाना चाहें तो तीसरी रो खाली मिलती है. इसे बुक नहीं किया जा सकता.

Fullscreen capture 13-10-2016 144128.bmp

इसके बाद तूतक तूतक तूतिया का टिकट इसी थियेटर में 13 अक्टूबर की तारीख में बुक करवाने की कोशिश की. फिर से तीसरी रो में सीट अवेलेबल नहीं मिली.

Fullscreen capture 13-10-2016 144140.bmp

थियेटर बदलते हैं. अब आते हैं पीवीआर लॉजिक्स, नोएडा पर. यहां भी एमएस धोनी फिल्म का टिकस बुक करने चले तो मिला कि पीछे से तीसरी सीट नहीं मिल सकती.

Fullscreen capture 13-10-2016 144936.bmp

1. ऐसा इसलिए है क्यूंकि पीवीआर ने अपने कस्टमर्स का खास ख्याल रखते हुए उनके लिए कुछ रिज़र्व सीटें रखी हुई हैं. ऐसी हालत में जब किसी कस्टमर को उसकी सीट पर बैठने में कोई दिक्कत आ रही हो तो उसे उस तीसरी रो में बिठाया जाता है.

2. इसके साथ ही अगर कोई प्रेग्नेंट महिला, सीनियर सिटिज़न, विकलांग व्यक्ति जो विंडो से टिकट लेता है और जल्दी में है, उसे इस रो में सीटें मिलती हैं.

3. कोई भी वीआईपी, सरकारी अफ़सर अगर बिना बताये फिल्म देखने चला आये तो वो इसी रो में विराजमान होता है.

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

देशों और उनकी राजधानी के ऊपर ये क्विज़ आसान तो है मगर थोड़ा ट्रिकी भी है!

सारे सुने हुए देश और शहर हैं मगर उत्तर देते वक्त माइंड कन्फ्यूज़ हो जाता है

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो डुगना लगान देना परेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

रजनीकांत के फैन हो तो साबित करो, ये क्विज खेल के

और आज तो मौका भी है, थलैवा नेता जो बन गए हैं.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

रानी पद्मावती के पति का पूरा नाम क्या था?

पद्मावती फिल्म के समर्थक हो या विरोधी, हिम्मत हो तभी ये क्विज़ खेलना.

आम आदमी पार्टी पर ये क्विज खेलो, खास फीलिंग आएगी

आज भौकाल है आम आदमी (पार्टी) का. इसके बारे में व्हाट्सऐप से अलग कुछ पता है तो ही क्विज खेलना.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का 25वां बर्थडे है.

RSS पर सब कुछ था बस क्विज नहीं थी, हमने बना दी है...खेल ल्यो

आज विजयदशमी के दिन संघ अपना स्थापना दिवस मनाता है.

न्यू मॉन्क

इंसानों का पहला नायक, जिसके आगे धरती ने किया सरेंडर

और इसी तरह पहली बार हुआ इंसानों के खाने का ठोस इंतजाम. किस्सा है ब्रह्म पुराण का.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

भारत के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है नवरात्रि?

गुजरात में पूजे जाते हैं मिट्टी के बर्तन. उत्तर भारत में होती है रामलीला.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.