Submit your post

Follow Us

'कूल कॉलेज किड' को परिभाषित करने वाले 'मैं हूं ना' के ज़ायेद खान आज कल कहां हैं?

एक स्टार किड. जिसकी एक फिल्म खूब चली. लेकिन दुर्भाग्यवश वो उस फिल्म जैसी कामयाबी फिर नहीं दोहरा पाया. संघर्ष करता रहा. बात हो रही है ज़ायेद खान की. ‘मैं हूं ना’ वाले ज़ायेद खान की. जानेंगे कि क्यों कई बड़े प्रोजेक्ट्स का हिस्सा होने के बावजूद ज़ायेद का करियर उड़ान नहीं भर पाया.

Kaha Gaye Ye Log (1)


  # उदय चोपड़ा, विवेक ओबेरॉय की छोड़ी हुई फिल्म से किया डेब्यू

1997 में दूरदर्शन पर एक शो प्रसारित होता था. ‘जय हनुमान’. साल 2000 तक चला. दर्शकों के बीच खूब पॉपुलर रहा. इसे डायरेक्ट किया था एक्टर और डायरेक्टर संजय खान ने. जो इससे पहले ‘द स्वोर्ड ऑफ टीपू सुल्तान’ भी बना चुके थे. बतौर एक्टर, करीब 30 हिंदी फिल्मों में काम कर चुके संजय खान ज़ायेद के पिता हैं. लंदन फिल्म अकैडमी से फिल्म मेकिंग पढ़कर लौटे ज़ायेद बॉलीवुड जॉइन करने को बेताब थे. संजय खान खुद भी अपने बेटे का डेब्यू प्लान रहे थे. 2001 में प्लान की गई फिल्म ‘जन्म जन्म’ के जरिए. अनाउंसमेंट भी किया गया. लेकिन फिल्म पर काम कभी शुरू नहीं हो पाया.

Zayed In Chura Liya Hai Tumne 1
‘चुरा लिया है तुमने’ का स्टिल. फोटो – यूट्यूब

खैर, ज़ायेद अपने एंड पर भी स्क्रिप्ट पढ़ रहे थे. लेकिन जितनी कहानियां उनकी ओर आ रही थीं, उनमें से एक भी ज़ायेद को पसंद नहीं आई. फिर उनके हिस्से आई 2003 में रिलीज़ हुई ‘चुरा लिया है तुमने’. लीड रोल था. उनके बचपन की दोस्त ईशा देओल यहां उनकी लिडिंग लेडी थी. फिल्म एक थ्रिलर ड्रामा थी. कहानी ठीक वैसी, जैसी ज़ायेद को अपने परफेक्ट डेब्यू के लिए चाहिए थी. उन्होंने हां भर दी. फिल्म रिलीज़ हुई. लेकिन एवरेज रिव्यूज़ मिले. ज़ायेद के काम की तारीफ हुई. जिसकी बदौलत उन्हें फिल्मफेयर अवॉर्ड और ज़ी सिने अवॉर्ड में बेस्ट मेल डेब्यू का नॉमिनेशन भी मिला. फिल्म के लीड में भले ही ज़ायेद और ईशा थे. मगर इस फिल्म के लिए ये दोनों ही पहली चॉइस नहीं थे. ईशा वाला रोल पहले तारा शर्मा को ऑफर हुआ था. उन्होंने फिल्म साइन भी कर ली थी. लेकिन किसी वजह से बाद में फिल्म छोड़ दी.

वहीं, ज़ायेद वाला रोल पहले उदय चोपड़ा करने वाले थे. उन्होंने भी फिल्म साइन कर ली थी. लेकिन बाद में प्रोजेक्ट ड्रॉप कर दिया. फिर मेकर्स पहुंचे विवेक ओबेरॉय के पास. वहां भी बात नहीं बनी. इसके बाद फिल्म घूम फिर कर आई ज़ायेद के पास.


# ‘किसका है ये तुमको इंतज़ार, मैं हूं ना’

‘चुरा लिया है तुमने’ के बाद ज़ायेद की अगली रिलीज़ थी 2004 में आई ‘मैं हूं ना’. काफी लोगों को लगता है कि ज़ायेद को ये फिल्म अपनी डेब्यू फिल्म की बदौलत मिली. लेकिन ऐसा नहीं है. दरअसल, ‘मैं हूं ना’ पर काम 2001 में शुरू होना था. बतौर डायरेक्टर, ये फराह खान की पहली फिल्म थी. फिल्म के लिए शाहरुख पहले ही फाइनल हो चुके थे. फराह और शाहरुख चाह रहे थे कि 2001 में ही शूटिंग शुरू हो जाए. शाहरुख उन दिनों अपनी आने वाली फिल्म ‘शक्ति: द पावर’ की भी शूटिंग कर रहे थे. एक दिन ‘शक्ति’ के सेट पर एक्शन सीन शूट करने के दौरान वो बुरी तरह चोटिल हो गए. इलाज के लिए उन्हें इंग्लैंड जाना पड़ा. नतीजतन, ‘मैं हूं ना’ की शूटिंग शुरू नहीं हो पाई. कुछ समय बाद शाहरुख रिकवर हुए. और 2003 में जाकर फिल्म पर काम शुरू हो पाया.

Main Hoon Na 1
फिल्म पर 2001 में काम शुरू होना था लेकिन शाह रुख की इंजरी की वजह से ऐसा नहीं हो पाया.

इतने लंबे डिले के बाद आखिरकार 30 अप्रैल 2004 को फिल्म रिलीज़ की गई. शाहरुख खान, सुष्मिता सेन, ज़ायेद खान और अमृता राव स्टारर इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर गदर मचा दिया. करीब 84 करोड़ रुपए का वर्ल्डवाइड कलेक्शन किया. उस साल की दूसरी सबसे ज़्यादा कमाई करने वाली फिल्म साबित हुई. पहले स्पॉट पर शाहरुख की ही फिल्म थी. ‘वीर ज़ारा’. जिसने करीब 97 करोड़ रुपए का बिज़नेस किया था. ज़ायेद के किरदार को ऑडियंस ने खूब पसंद किया. उनके किरदार लकी का अपने बालों पर हाथ फेरने वाला स्टाइल कॉपी किया जाने लगा. खैर, ‘मैं हूं ना’ सिर्फ ऑडियंस की ही फेवरेट बनकर नहीं उभरी. बल्कि, अवॉर्ड्स में भी खूब धूम मचाई. फिल्मफेयर अवॉर्ड्स में ‘मैं हूं ना’ को 12 श्रेणियों में नॉमिनेट किया गया. ज़ायेद को बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर की श्रेणी में नॉमिनेशन मिला. लेकिन अवॉर्ड नहीं जीत पाए. उस श्रेणी में अवॉर्ड जीता अभिषेक बच्चन ने. अपनी फिल्म ‘युवा’ के लिए.


# एक साल में बैक-टू-बैक चार फिल्में दे डाली

साल 2005. ज़ायेद खान की चार फिल्में रिलीज़ हुई. बैक-टू-बैक. पहली थी ‘वादा’. एक मिस्ट्री थ्रिलर. जहां अर्जुन रामपाल और अमीषा पटेल भी ज़ायेद के साथ थे. ‘तेरे नाम’ वाले सतीश कौशिक फिल्म के डायरेक्टर थे. 07 जनवरी को रिलीज़ हुई ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई. ज़ायेद लंबे समय से ऐश्वर्या राय के साथ काम करना चाहते थे. उनकी ये इच्छा पूरी हुई. जब ‘वादा’ के बाद उनकी अगली फिल्म ‘शब्द’ रिलीज़ हुई. ऐश्वर्या राय और संजय दत्त भी कास्ट का हिस्सा थे. फिल्म अच्छे रिव्यूज़ के साथ खुली. बावजूद इसके, ‘शब्द’ का बॉक्स ऑफिस कलेक्शन एवरेज ही रहा.

फिर आई ज़ायेद खान के करियर की पहली मल्टी-स्टारर फिल्म. ‘दस’. अनुभव सिंहा के डायरेक्शन में बनी इस फिल्म में ज़ायेद समेत संजय दत्त, सुनील शेट्टी, अभिषेक बच्चन, शिल्पा शेट्टी, ईशा देओल, दिया मिर्ज़ा और राइमा सेन भी कास्ट में शामिल थे. बड़े बजट में बनी ये फिल्म एक कामयाब इंवेस्टमेंट साबित हुई. बॉक्स ऑफिस इंडिया के मुताबिक फिल्म ने करीब 38 करोड़ रुपए का कलेक्शन किया. फिल्म के गानों को भी तगड़ा रिस्पॉन्स मिला. खासतौर पर टाइटल सॉन्ग ‘दस बहाने कर के ले गई दिल’ को. एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक फिल्म का टाइटल सॉन्ग उस साल का सबसे पॉपुलर गाना था. सबसे ज़्यादा सुना गया हिंदी गाना.

Dus 4
‘दस बहाने कर के ले गए दिल’ को कौन भूल सकता है भला. फोटो – यूट्यूब

‘दस’ के बाद रिलीज़ हुई ‘शादी नं. 1’. ज़ायेद की एक और मल्टी-स्टारर फिल्म. ‘दस’ की टीम से ईशा देओल और संजय दत्त भी फिल्म का पार्ट थे. लेकिन ये फिल्म ‘दस’ जैसा इफेक्ट रिक्रिएट करने में नाकाम रही. यहां तक कि ये पहली और आखिरी फिल्म थी जब ज़ायेद ने अपने कज़िन फरदीन खान के साथ स्क्रीन शेयर की. फिल्म की कहानी 2004 में आई ‘मस्ती’ से काफी मिलती-जुलती थी. ‘मस्ती’ को अच्छा रिस्पॉन्स मिला था. लेकिन ऐसा ‘शादी नं. 1’ के केस में नहीं हो पाया. फिल्म पर फ्लॉप का ठप्पा लग गया.


# मल्टी-स्टारर फिल्में भी करियर नहीं बचा सकी

ज़ायेद खान की फिल्मोग्राफी देखेंगे तो आपको करीब 15 फिल्में दिखाई देंगी. उन में से कई बड़े बजट की, लंबी-चौड़ी स्टारकास्ट वाली फिल्में भी शामिल हैं. लेकिन आज भी उन्हें ‘मैं हूं ना’ वाले लकी के तौर पर ही पहचाना जाता है. ऐसा नहीं है कि उन्होंने इसके अलावा किसी और बड़ी फिल्म में काम नहीं किया. बॉलीवुड में मल्टी-स्टारर फिल्मों का चलन बहुत पुराना है. ‘शोले’ से लेकर ‘चुपके चुपके’ और ‘हम साथ साथ हैं’ से लेकर ‘कांटे’, ऐसी मल्टी-स्टारर फिल्में जिन्हें जनता ने दिल खोल के प्यार दिया. ज़ायेद ने भी अपने करियर में कई बड़ी मल्टी-स्टारर फिल्मों में काम किया. लेकिन बदकिस्मती से अपना मार्क नहीं बना पाए.

जैसे 2006 में आई ‘फाइट क्लब: मेंबर्स ओनली’. लोग मानते हैं कि फिल्म इसी नाम से बनी हॉलीवुड फिल्म से प्रेरित थी. कास्ट में ज़ायेद समेत नाम था सोहेल खान, रितेश देशमुख, सुनील शेट्टी, दिया मिर्ज़ा और डिनो मोरेया का. लेकिन इतने सारे एक्टर्स मिलकर भी इस फिल्म को नहीं बचा पाए. इसके बाद आई ‘कैश’. बनाया था अनुभव सिन्हा ने. ‘दस’ जैसी कामयाबी को भुनाना चाहते थे. फिल्म की स्टारकास्ट में ज़ायेद के अलावा अजय देवगन, सुनील शेट्टी और दिया मिर्ज़ा जैसे एक्टर्स थे. लेकिन फिल्म थिएटर में ऑडियंस नहीं भर पाई. फ्लॉप डिकलेयर की गई. ‘कैश’ के बाद उनकी अगली रिलीज़ थी ‘स्पीड’. एक और मल्टी-स्टारर फिल्म. जिसका बॉक्स ऑफिस पर बुरा हश्र हुआ.

Yuvvraaj 1
सुभाष घई की ‘युवराज’ हॉलीवुड फिल्म ‘रेन मैन’ से प्रेरित थी. फोटो – यूट्यूब

बॉलीवुड के ‘भाईजान’ सलमान खान के साथ भी काम किया. 2008 में आई ‘युवराज’ में. जो हॉलीवुड फिल्म ‘रेन मैन’ से प्रेरित थी. सलमान और ज़ायेद के साथ-साथ अनिल कपूर और कैटरीना कैफ भी मुख्य भूमिकाओं में थे. डायरेक्टर की चेयर पर विराजमान थे सुभाष घई. पूरी उम्मीद थी कि ये फिल्म कुछ बड़ा कमाल कर के दिखाएगी. लेकिन हुआ ठीक उलटा. जनता ने फिल्म को सिरे से नकार दिया. बॉक्स ऑफिस पर बड़ी फ्लॉप साबित हुई.

‘युवराज’ के बाद ज़ायेद की अगली फिल्म भी मल्टी-स्टारर ही थी. और कोई आम फिल्म नहीं, उस समय के हिसाब से हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में बनी सबसे महंगी फिल्म. नाम था ‘ब्लू’. अक्षय कुमार, संजय दत्त और लारा दत्ता जैसी स्ट्रॉन्ग कास्ट थी. दिवाली वीकेंड पर रिलीज़ हुई फिल्म को अच्छी ओपनिंग भी मिली. लेकिन बॉक्स ऑफिस पर शानदार परफॉरमेंस का ये कारवां सिर्फ ओपनिंग वीक तक ही सिमट कर रह गया. ‘ब्लू’ अपनी लागत तक रिकवर करने को स्ट्रगल करती दिखी. और फ्लॉप फिल्मों की कैटेगरी में जाकर जुड़ गई.


# आज कल कहां हैं Zayed Khan?

फिल्में फ्लॉप होने के बाद ज़ायेद ने प्रॉडक्शन में हाथ आजमाने की सोची. उनकी दोस्त और एक्ट्रेस दिया मिर्जा और उनके एक्स हज़बैंड साहिल सांघा की एक प्रॉडक्शन कंपनी है. ‘बॉर्न फ्री इंटरटेनमेंट’. उसी के साथ ज़ायेद ने बतौर प्रड्यूसर अपनी पारी की शुरुआत की. अपने प्रॉडक्शन में पहली फिल्म रिलीज़ की. नाम था ‘लव ब्रेकअप्स ज़िंदगी’. फिल्म की लीड में खुद ज़ायेद और दिया मिर्जा थे. 2011 में रिलीज़ हुई फिल्म को बड़ा एवरेज सा रिस्पॉन्स मिला. फिल्म एक ही वजह से लोगों को याद रही. यहां गोविंदा के क्लासिक गाने ‘आप के आ जाने से’ को रिक्रिएट किया गया. जिसकी ऑडियंस ने खूब आलोचना की.

ज़ायेद एक्टिंग ऑफर्स को मना नहीं करना चाहते थे. फिर चाहे वो लीड रोल हो या कैमिओ. 2010 में रणबीर कपूर और प्रियंका चोपड़ा ‘अनजाना अनजानी’ में भी उन्होंने कैमिओ किया था. ठीक उसी तरह, अजय देवगन की फिल्म ‘तेज़’ में भी सपोर्टिंग रोल अदा किया. 2014 में अमीषा पटेल के साथ ‘देसी मैजिक’ पर काम किया. 2014 में ही फिल्म का टीज़र भी रिलीज़ किया गया था. बताया गया था कि फिल्म 2015 में थिएटर्स पर रिलीज़ की जाएगी. लेकिन किसी वजह से आज तक रिलीज़ नहीं हो पाई है. फिल्मों में मनपसंद काम न मिलता देख ज़ायेद ने टीवी के साथ एक्सपेरिमेंट करने की सोची. और साइन किया सोनी टीवी का शो ‘हासिल’. यहां उनके साथ लीड में ‘टार्जन: द वंडर कार’ वाले वत्सल सेठ और ‘बिग बुल’ की एक्ट्रेस निकिता दत्ता भी थे. 30 अक्टूबर 2017 से शुरू हुआ ये शो 23 फ़रवरी 2018 तक चला.

Mohammad Usman
संजय खान शहीद ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान की बायोपिक पर काम कर रहे हैं. लीड रोल ज़ायेद अदा करेंगे. फोटो – मोहम्मद उस्मान फाइल फोटो

ज़ायेद टीवी पर भी प्रभावशाली इम्पैक्ट छोड़ने में नाकाम रहे. लेकिन अब वो तैयारी कर रहे हैं. अपने बिग स्क्रीन कमबैक की. ऐसा खुद उनके पिता संजय खान ने कंफर्म किया है. संजय 1947 भारत-पाकिस्तान युद्ध के हीरो ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान की बायोपिक पर काम कर रहे हैं. शहीद ब्रिगेडियर का रोल ज़ायेद निभाएंगे. मिड-डे को दिए एक इंटरव्यू में संजय ने बताया था,

मैं इस स्क्रिप्ट पर बहुत मेहनत कर रहा हूं ताकि इसे सच्चाई के करीब रख सकूं. इस मूवी के जरिए ऑडियंस ज़ायेद को फिर से डिस्कवर करेगी.

हालांकि, प्रोजेक्ट को लेकर बाकी डिटेल्स पर अभी कुछ नहीं कहा गया है. इस प्रोजेक्ट को लेकर जो भी अपडेट आएगा, हम आप तक जरुर पहुंचाएंगे.


वीडियो: मैटिनी शो: मोहनीश बहल को करियर की सबसे बड़ी फिल्म “मैंने प्यार किया” सलमान ने दिलवाई थी!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.