Submit your post

Follow Us

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

आज हम उस सिंगर के किस्से लेकर आए हैं जिसके गाने ‘याद आएंगे ये पल’ के बिना हिंदुस्तान के कोई भी स्कूल/कॉलेज का फ़ेयरवेल फंक्शन कंप्लीट नहीं होता. वो सिंगर जिसका ‘यारों दोस्तों बड़ी ही हसीन है’ गाना दो दशक बाद भी ‘फ़्रेंडशिप एंथम’ बना हुआ है. जिन्हें लोग नए दौर का किशोर कुमार भी कहते हैं. हम बात कर रहे हैं के के की. महबूब के लिखे ‘यारों दोस्ती बड़ी ही हसीन है’ और ‘याद आएंगे ये पल’ जैसे खूबसूरत बोल थोड़े फ़ीके रह जाते, अगर इसमें के के की आवाज़ की चाशनी नहीं मिलती.

के के जिन्होंने बॉलीवुड के कई बड़े सितारों को आवाज़ दी. सलमान की जब पहली बार ‘तड़प-तड़प’ के दिल से आह निकली थी, उसके पीछे की आवाज़ के के ही थे. शाहरुख़ को जब आंखों में अजब सी अदाएं दिखी थीं, उस वक़्त भी के के की आवाज़ ही थी जो दिल पर असर कर रही थी. उस वक़्त पीक पर चल रहे इमरान हाशमी की तो के के ऑफिशियल वॉइस कहलाए जाने लगे थे.

के के के गाने मिलेनियल्स के पहले और ‘भाई सच्चे वाले’ प्यार के ‘हमसफ़र’ रहे हैं. आज भी सबके पुराने पीसी की हार्ड ड्राइव के ‘लव सांग्स’ वाले फ़ोल्डर में के के के ‘ज़िंदगी दो पल की’,’तू ही मेरी शब’, ‘अभी अभी’ जैसे दर्जनों गाने सेव हैं. इन्हीं गानों की वजह से के के आज मिलेनियल्स के फ़ेवरेट हैं. मॉडर्न टर्म्स में कहूं तो इंटरनेट डार्लिंग हैं.

एक लंबे वक़्त से के के गायब हैं. उनके साथ के सिंगर्स तो किसी ना किसी सिंगिंग रियलिटी शोज़ में जज बने नज़र आ जाते हैं. लेकिन के के कहीं नहीं दिखते. कहां हैं के के और क्या है के के की कहानी, आइये जानते हैं.

#जब शहर सोता है, तब सपना जन्म लेता है

दिल्ली के माउंट सेंट मैरी में पढने वाले कृष्णा कुमार कुन्नाथ बचपन में डॉक्टर बनना चाहते थे. इसलिए नहीं कि किताबी कीड़े थे. बल्कि इसलिए क्यूंकि उनके घर में आने वाले डॉक्टर अंकल उन्हें बहुत पसंद थे. के के बनना तो डॉक्टर चाहते थे, लेकिन घर का माहौल काफ़ी संगीतमय रहता था. के के की मम्मी अक्सर घर में मलयाली गाने गाया करती थीं. और उनके पिताजी उन्हें गाते हुए टेप पर रिकॉर्ड किया करते थे. के के ने कभी सिंगिंग की प्रोफेशनल ट्रेनिंग नहीं ली. उन्हें तो बस बचपन से गाने सुनने का और साथ में गुनगुनाने का शौक़ था. ‘शोले’ का ‘महबूबा महबूबा’ गाना उनका फेवरेट था. घंटो गाते रहते थे. कंठ सुरीला तो था ही. तो पापा-मम्मी के दोस्तों सहेलियों के आगे परफॉर्म करते हुए के के बड़े हो रहे थे. केके सेकंड क्लास में थे, जब उन्होंने पहली बार अपने स्कूल के स्टेज पर गाना गाया था. गाना था 1973 में रिलीज़ हुई राजेश खन्ना की ‘राजा रानी’ का ‘जब अंधेरा होता है’. इस नन्हीं उम्र में ही इस मुश्किल गाने को के के ने इतने बेहतरीन ढंग से गाया कि पूरा स्कूल मंत्रमुग्ध हो गया और फ़िर तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज गया. इसी ‘पल’ से के के के मन में सिंगर बनने के सपने ने जन्म ले लिया था.

#तू ही मेरी शब है

के के ने लव स्टोरीज़ में सिर्फ़ गाने गाए ही नहीं है बल्कि उनकी खुद की लव स्टोरी भी किसी फ़िल्म से कम नहीं है. के के सिक्स्थ क्लास में थे. उनकी एक सहपाठी थी ज्योति. दोनों की दोस्ती हुई और धीरे-धीरे प्रेम हो गया. उम्र और प्रेम दोनों संग-संग बढ़ने लगे और जवान हो गए. शादी की बात चली. ज्योति के घरवालों ने साफ़ कर दिया. कहा कि पहले के के कोई नौकरी ढूँढें, तब ही उनकी शादी के बारे में सोचेंगे. अब के के क्या करते! बियाह के खातिर तलाशने लगे नौकरी. मार्केटिंग की जॉब मिल गई. ज्योति के घरवालों ने देखा कि लड़का कमाऊ हो गया है तो ज्योति और के के की शादी को वो राज़ी हो गए. के के ने ज्योति से शादी करने के लिए नौकरी कर तो ली थी लेकिन छह महीने बाद वो नौकरी करते-करते पकने से लगे थे. वो म्यूजिक के लिए बने थे. यहां उनका दम घुटता था. लिहाज़ा एक दिन के के ने नौकरी छोड़ दी और सिंगिंग लाइन में ही करियर बनाने की ठान ली. उनके इस फ़ैसले में ज्योति समेत पूरी  फ़ैमिली ने उनका सपोर्ट किया.

केके और ज्योति के विवाह की तस्वीर.
केके और ज्योति के विवाह की तस्वीर.

#जिंगल्स का सफ़र

के के ने एक कीबोर्ड ख़रीद लिया औऱ विज्ञापनों के लिए जिंगल्स बनाने लगे. के के ने शंकर-अहसान-लॉय के लॉय मेंडोंसा के साथ हीरो होंडा के लिए एक बेहद फेमस जिंगल गाया था. इस जिंगल के म्यूजिक डायरेक्टर थे रंजीत बारोट. उन्होंने के के से पूछा कि वो जिंगल गाने का कितना पैसा लेंगे. अब के के को तो इंडस्ट्री के रेट कुछ पता नहीं थे. उन्होंने कहा जो सबको देते हों, वही दे दीजिए. रंजीत ने के के की बात सुनी और पांच उंगलियां उनकी ओर दिखाईं. के के को लगा रंजीत 500 रुपये कह रहे हैं. उन्हें लगा यही इंडस्ट्री का रेट होगा. वो मान गए. बाद में जब उनके पास चेक आया तो वो खुशी से उछल गए, क्योंकि चेक 500 का नहीं बल्कि 5000 का था.

थोड़े ही वक़्त में के के ने तीन हज़ार से ज़्यादा जिंगल्स बना दिए. इस काम से के के को पैसे तो अच्छे मिलने लगे थे. लेकिन संतुष्टि नहीं मिलती थी. सालों पहले के के से मशहूर गायक हरीहरन जी ने कहा था कि उन्हें ये सब छोड़ मुंबई जाना चाहिए. उनकी ये बात के के के ज़हन में थी. के के के मन में बचपन से अपना एक म्यूजिक अल्बम बनाने की तमन्ना थी. के के ने एक बार फ़िर हिम्मत दिखाई और मुंबई को रवाना हो गए.

#जब प्रीतम ने टॉयलेट के बाहर गाया ‘अलविदा’

सन 98 की बात है. उस वक़्त प्रीतम, के के, विशाल, शेखर जैसे कई सिंगर और संगीतकार दिल्ली एड एजेंसीज़ में काम किया करते थे. प्रीतम और के के आपस में अच्छे दोस्त थे. एक दिन ‘फेमस स्टूडियोज़’ के टॉयलेट में प्रीतम और के के मिल गए. प्रीतम ने टॉयलेट में ही मीटिंग शुरू कर दी. के के से बोले ‘भाई एक बढ़िया गाना बनाया है तेरे लिए’. के के बोले ‘भाई बाहर तो चल ले, यहीं सुनाएगा क्या’.जैसे ही टॉयलेट से बाहर निकले प्रीतम ने सामने कुर्सी पे रखा अपना गिटार उठाया और गाने लगे. के के को गाना बहुत पसंद आया. प्रीतम ने कहा ‘एक दिन ये गाना मैं तेरे साथ रिकॉर्ड करूंगा’. बात यहां खत्म हुई. सन 2006 आ गया. प्रीतम और के के दोनों अब एक फ़ेमस नाम बन चुके हैं. एक रात प्रीतम ने अचानक के के को कॉल किया. ‘भाई भाई तुझे वो गाना याद है जो मैंने तुझे टॉयलेट के बाहर सुनाया था’. आधी रात को नींद से जागे बेचारे के के को बहुत देर दिमाग के घोड़े दौडाने के बाद याद आया वो इंसिडेंट. प्रीतम ने कहा बस वही गाना रिकॉर्ड करना है ‘लाइफ़ इन ए मेट्रो’ फ़िल्म के लिए. के के ने हामी भरी. अगले दिन गाना रिकॉर्ड किया. गाना ब्लॉकबस्टर गया. वो गाना था वेरी फ़ेमस ट्रैक ‘अलविदा’.

# अकेले रिकॉर्ड किया ‘तू जो मिला’

सलमान की ‘बजरंगी भाईजान’ में के के का एक गाना था ‘तू जो मिला’. बहुत ही अद्भुत गाना. लेकिन इसके बनने की कहानी और भी ज़्यादा अद्भुत है. तो हुआ ये कि के के अपनी फ़ैमिली के साथ ऑस्ट्रेलिया गए हुए थे छुट्टी मनाने. ऑस्ट्रेलिया आए हुए दो दिन ही हुए थे कि उनके पास प्रीतम का फ़ोन पहुंचा. प्रीतम ने के के से कहा कि एक गाना अर्जेंटली रिकॉर्ड करना है. के के ने बताया वो तो सिडनी में हैं, एक महीने बाद इंडिया आएंगे. प्रीतम तो अपने स्वभावानुसार भड़भड़ाए हुए थे ही. उन्होंने कहा के के यार कैसे भी वहीं से रिकॉर्ड करके भेज दे. इतना कह कर प्रीतम ने लिरिक्स और ब्रीफ़ के के को मेल कर दी.

अब के के ने ये बात अपनी पत्नी ज्योति को बताई कि उन्हें गाना रिकॉर्ड करना हैं. ज्योति के के पर थोड़ी झुंझलाई. लेकिन के के ने समझाया प्रीतम का गाना है, वो भी कबीर की फ़िल्म के लिए. कबीर और के के बचपन के दोस्त थे और एक साथ स्कूल में पढ़े थे. ख़ैर, के के रिकॉर्डिंग करने स्टूडियो पहुंचे. ये पहली बार था जब के के विदेश में रिकॉर्डिंग कर रहे थे वो भी अकेले. ना म्यूजिक डायरेक्टर था, ना कोई और जो ये वेरीफाई करता कि गाना अच्छा जा रहा है या बेकार. के के ने आईडिया लगाया और गाने की चार लाइनें रिकॉर्ड कर-कर के प्रीतम को भेजने लगे. प्रीतम ने रिकॉर्डिंग सुनी, उन्हें पसंद आई. लेकिन उन्होंने के के से कहा कि भाई ऐसे बार-बार मुझे मत भेज. ये तेरा गाना है तू अपने हिसाब से गा, जैसे तूने पिछले गाने गाए हैं. के के ने ऐसा ही किया. दो-ढाई घंटे बाद रिकॉर्डिंग कंप्लीट हुई. के के ने प्रीतम को फाइनल प्रोडक्ट भेजा. प्रीतम को के के का गाना इतना पसंद आया कि उन्होंने बिना कोई एडिट किए जस का तस गाना सलमान खान और कबीर खान को फ़ॉरवर्ड कर दिया. दोनों को गाना इतना ज़्यादा पसंद आया कि उन्होंने प्रीतम से कहा इसमें एक अंतरा और जोड़ दो. गाने की लेंथ थोड़ी और बढ़ा दो. कुछ दिन बाद के के वापिस इंडिया आए और नई लाइनें में गाने जोड़ीं. औऱ ‘तू जो मिला’ तैयार हुआ जिसपर आज यूट्यूब पर तकरीबन 7 करोड़ व्यूज़ हैं.

केके को मॉडर्न एरा का किशोर कुमार भी कहा जाता है.
केके को मॉडर्न एरा का किशोर कुमार भी कहा जाता है.

#आजकल कहां हैं

केके हमेशा से मीडिया से दूरी बरतने वाले व्यक्ति रहे हैं. जहां उनके साथ के बाकी सिंगर्स टीवी चैनल्स के सिंगिंग रियलिटी शोज़ में बतौर जज नज़र आते रहते हैं. के के ने आजतक सिर्फ एक रियलिटी शो किया है. इतने सालों बाद आज भी के के बहुत कम नज़र आते हैं. लेकिन के के यहीं हैं. बतौर सिंगर पूरे तौर से एक्टिव नहीं है लेकिन हर साल उनके एकाध गाने आते रहते हैं. हाल में आलिया भट्ट, संजय दत्त की फ़िल्म ‘सड़क 2’ में आया उनका ‘शुक्रिया’ गाना खूब हिट हुआ था. इससे पहले कार्तिक आर्यन और सारा अली खान की ‘लव आजकल’ में उनके गाए ‘और तनहा’ ने भी खूब तारीफें बटोरी थीं. लेकिन ये बात भी है कि उनके ऐसे गाने अब इक्का-दुक्का ही आ रहे हैं. वो दौर ही अलग था जब पूरी अल्बम में के के छाए रहते थे और पूरी अल्बम ही हिट हुआ करती थी.

हम तो कहेंगे के के का वो दौर फिर से लौट आए. कमाल के सिंगर हैं के के भाई जान.


वीडियो: सलमान खान की ‘राधे’ ने सिनेमाघरों से कितना कलेक्शन किया?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

न्यू मॉन्क

'हसीन दिलरुबा' के डायरेक्टर ने आखिर बता ही दिया कौन है 'हसीन दिलरुबा' का दिनेश पंडित

'हसीन दिलरुबा' के डायरेक्टर ने आखिर बता ही दिया कौन है 'हसीन दिलरुबा' का दिनेश पंडित

लल्लनटॉप को दिए इंटरव्यू में फ़िल्म के डायरेक्टर और एक्टर्स ने खोले कई राज़.

कबीर बेदी ने बताया उनके बेटे ने महज़ 26 साल की उम्र में ख़ुदकुशी क्यों की?

कबीर बेदी ने बताया उनके बेटे ने महज़ 26 साल की उम्र में ख़ुदकुशी क्यों की?

अपनी ऑटोबायोग्राफी में कबीर बेदी ने इस किस्से को लिखा है.

कैसा है अमिताभ-इमरान की 'चेहरे' का ट्रेलर, जिसमें नैनो सेकंड के लिए रिया चक्रवर्ती दिखाई दी हैं?

कैसा है अमिताभ-इमरान की 'चेहरे' का ट्रेलर, जिसमें नैनो सेकंड के लिए रिया चक्रवर्ती दिखाई दी हैं?

क्या ट्रेलर की ये ख़ास बातें आपने नोट की?

मनोज बाजपेयी की नई फ़िल्म बहुत पुरानी क्यों लग रही है?

मनोज बाजपेयी की नई फ़िल्म बहुत पुरानी क्यों लग रही है?

कैसा है 'साइलेंस.. कैन यू हियर इट?' का ट्रेलर?

फ़रहान अख्तर की 'तूफ़ान' में क्या खटक रहा है?

फ़रहान अख्तर की 'तूफ़ान' में क्या खटक रहा है?

'तूफ़ान' की वेदर रिपोर्ट हमसे जानिए.

आमिर ख़ान दो साल बाद वापस आए हैं, वो भी आइटम सॉंग में

आमिर ख़ान दो साल बाद वापस आए हैं, वो भी आइटम सॉंग में

कैसा है आमिर का ये आइटम सॉंग, जो उन्होंने 'लगान' के बाघा से दोस्ती निभाने के लिए किया है?

'तुम्बाड' बनाने वाले इस बार एक बवाल सीरीज़ लेकर आए हैं

'तुम्बाड' बनाने वाले इस बार एक बवाल सीरीज़ लेकर आए हैं

ट्रेलर में ही मज़ा आ गया बॉस!

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

राजा इंद्रद्युम्न की कहानी, जिसने जगन्नाथ रथ यात्रा की स्थापना की थी.

दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

अनंत चतुर्दशी और गणेश विसर्जन के अवसर पर पढ़िए गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

यज्ञ में नहीं बुलाया गया तो शिव ने भस्म करवा दिया मंडप

यज्ञ में नहीं बुलाया गया तो शिव ने भस्म करवा दिया मंडप

शिव से बोलीं पार्वती- 'आप श्रेष्ठ हो, फिर भी होती है अनदेखी'.