Submit your post

Follow Us

पहली मुलाकात में ही ओशो ने गांधी को चुप करा दिया था

ओशो, दुनिया को संभोग से समाधि तक ले जाने का दावा करने वाला शख्स. दुनिया के एक हिस्से में उन्हें जहां लव गुरु के तौर पर जाना जाता है, वहीं नेपाल यूनिवर्सिटी में उनकी किताब दर्शनशास्त्र के कोर्स में शामिल की गई है. आचार्य रजनीश का जीवन तमाम विरोधाभासों से भरा है. तमाम तरह की बातें उनके बारे में कही जाती रही हैं. 11 दिसम्बर को पैदा हुए. 19 जनवरी को मौत हुई. इस शख्स की ज़िंदगी का एक किस्सा.

बात तब की है जब वो 93 रॉल्स रॉयस के मालिक ओशो नहीं थे. सागर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रजनीश भी नहीं थे. स्कूल में पढ़ने वाले चंद्रमोहन थे. 1940-41 की बात है. लगभग 10 साल के चंद्रमोहन के शहर के स्टेशन से होकर गांधी गुज़रने वाले थे. ओशो गांधी बाबा से मिलने पहुंचे. ओशो को उनकी नानी ने 3 रुपए दिये थे. जोकि उस समय के हिसाब से बहुत बड़ी रकम थी.

गांधी जी तीसरे दर्जे के डिब्बे में यात्रा कर रहे थे. इस डिब्बे में गांधी, कस्तूरबा और उनके सचिव के अलावा कोई नहीं था. जब ट्रेन 13 घंटे देरी से स्टेशन पहुंची, रजनीश के अलावा सभी वापस जा चुके थे. 10 साल के इस बच्चे ने बापू से मिलने की ज़िद में 1 दिन से कुछ नहीं खाया था. स्टेशन मास्टर ने चंद्रमोहन को गांधी से मिलवाया और काफी तारीफ भी की.

गांधी मुस्कुराए, बालक से पूछा कि जेब में क्या है?
तीन रुपए, ओशो का जवाब था.
इसे दान कर दो. गांधी ने कहा.

उनके पास एक बक्सा था जिसमें वे दान जमा कर रहे थे.
ओशो ने कहा, हिम्मत हो तो ले लो. या फिर ये बताओ कि किस लिए दान करूं.
गांधी ने कहा, ये रुपए गरीबों के लिए दान कर दो.
ओशो ने 3 रुपए बक्से में डाले और पूरा बक्सा उठाकर चल दिये.
चकित गांधी ने पूछा कि ये क्या कर रहे हो.
ओशो ने कहा पैसा गरीबों के लिए है, मेरे गांव में कई गरीब हैं, मैं पैसा उन्हें दूंगा. आप चाबी और दे दो.

कस्तूरबा हंसने लगीं, कहा,

“आज पहली बार आपको कोई टक्कर का मिला. ये बक्सा मुझे अपनी सौतन लगने लगा था. बढ़िया है बेटा ले जा इसे.”

ओशो ने कस्तूरबा की बात सुनकर वो बक्सा वहीं छोड़ दिया और स्टेशन से भाग गए.

ओशो के दस्तख़त

इस घटना के कुछ साल बाद  बिहार में भूकम्प को महात्मा गांधी के उसे भगवान का पापियों को दिया दंड कहने वाली बात पर रजनीश ने गांधी को खत लिखा और पूछा भगवान ने दुनिया भर में कहीं और के पापियों को क्यों दंड नहीं दिया. गांधी ने इस खत का कोई जवाब नहीं दिया. ओशो इस घटना के बाद से तमाम जगहों पर गांधी की आलोचना ही करते रहे.


ये भी पढ़िए:

दुनिया को मौत सिखाने वाले ओशो मरे थे या मारे गए थे?

जब ओशो को मिला 48 घंटे में पुणे छोड़ने का हुक्म

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.