Submit your post

Follow Us

जब वाजपेयी के समर्थन के लिए मुसलमानों ने बनाई 'अटल हिमायत कमिटी'

12.65 K
शेयर्स

भारतीय जनता पार्टी भले ही पूरे मुल्क से वोट बटोरकर सत्ता में हो लेकिन उसकी एक छवि हमेशा से बरकरार रही. यही कि उसे मुसलमान वोट नहीं देते. हालांकि हमारे मुल्क में मतदान गुप्त रखने की प्रथा है. इस वजह से ये पता लग पाना असंभव है कि किसने किसको वोट दिया. बहरहाल, पॉपुलर मत यही है कि मुसलमान भाजपा को वोट नहीं करते. भले ही फिर भाजपा का अपना अल्पसंख्यक मोर्चा हो.

हालांकि ऐसा भी नहीं है कि ये छवि बिल्कुल ही हवा-हवाई हो. भाजपा में ऐसा कोई नेता नज़र नहीं आता जो मुस्लिम समुदाय में काबिलेकबूल रहा हो. सिवाय अटल बिहारी वाजपेयी के.

अटल बिहारी इकलौते ऐसे भाजपाई थे जिन्हें मुस्लिम समुदाय में भी खासा पसंद किया जाता रहा. यही नहीं उनका समर्थन करने के लिए बाकायदा एक कमिटी भी बनी थी. नाम था ‘अटल बिहारी वाजपेयी हिमायत कमिटी’.

हिमायत कमिटी के मेंबर.
हिमायत कमिटी के मेंबर.

दिल्ली में हुई वो मीटींग

25 मार्च 2004 को दिल्ली के फिक्की ऑडिटोरियम में एक मीटिंग हुई. ये मीटिंग आने वाले चुनावों में अटल बिहारी वाजपेयी के लिए मुस्लिम समर्थन हासिल करने के एकमात्र एजेंडे से हुई थी. ‘अटल बिहारी वाजपेयी हिमायत कमिटी’ ने, जिसे शॉर्ट में ‘अटल हिमायत कमिटी’ भी कहा जाता था, ये स्पष्ट किया था कि वो किसी पार्टी के नहीं बल्कि व्यक्ति के समर्थन में थे. कमिटी के संयोजक ख्वाजा इफ्तिखार अहमद का बड़ा सीधा बयान था,

“किसी नेता को उसके किरदार की रोशनी में देखा जाना चाहिए. आज के राजनीतिक परिदृश्य में कोई भी नेता अटल जी के कद के बराबर नहीं नज़र आता. पंडित जवाहरलाल नेहरु के बाद सिर्फ अटल जी ही हैं, जिन्होंने मुसलमानों के दिल में जगह बनाई है.”

उन्होंने आगे ये भी कहा था कि सेक्युलर कहलाने वाली पार्टियां अपने राजनीतिक फायदे के लिए मुस्लिमों का शोषण करती रही हैं. उन्होंने हमेशा ये डर दिखाया कि भाजपा के सत्ता में आने पर मुसलमानों की पहचान को ख़तरा होगा, उनके धार्मिक हक़ छीन लिए जाएंगे वगैरह-वगैरह. जबकि पूरे छह साल तक वाजपेयी के शासन ने ये साबित किया कि ये सब मिथ्या बातें हैं.

सिर्फ ये कमिटी ही नहीं और भी धुरंधर थे वाजपेयी फैन

2004 में ये वो दौर था जब मुस्लिम समुदाय काँग्रेस के अलावा कोई और खूंटा तलाश रहा था. मौलाना वहीउद्दीन ख़ान जैसे इस्लामिक स्कॉलर मुसलमानों को ‘पॉलिटिकल यू-टर्न’ लेने की सलाह दे रहे थे. हालांकि उन्होंने सीधे तौर से भाजपा को समर्थन देने की बात नहीं की थी लेकिन ये ज़रूर कहा था कि ‘भाजपा को वोट देना ही नहीं है’ जैसे माइंडसेट को चेंज करना होगा.

यही वो समय था जब बॉम्बे मर्कंटाइल बैंक के तत्कालीन चेयरमैन और अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व वाइस चांसलर डॉक्टर महमुदुर रहमान ने कहा था कि एएमयू की ग्रांट 80 करोड़ से बढ़ाकर 200 करोड़ करने का क्रेडिट वाजपेयी को जाता था.

उधर ऑल इंडिया मुस्लिम ऑर्गेनाईजेशन के प्रेसिडेंट मौलाना जमील अहमद इलयासी ने दावा किया था कि वाजपेयी ही मुसलमानों के सच्चे हितचिंतक हैं.

हज कमिटी के तत्कालीन चेयरमैन तनवीर की भी कुछ-कुछ ऐसी ही राय थी. उन्होंने मुसलमानों से अपील की थी कि वो नकारात्मक सोच को छोड़कर पॉजिटिव रवैया अपनाएं. उन्होंने ये भी कहा था कि वाजपेयी शासन के दौरान हज यात्रियों की संख्या में इज़ाफा हुआ है.

Atal Bihari Vajpayee (4)

कहने की बात ये कि वाजपेयी के सक्रीय राजनीति से संन्यास लेने तक मुस्लिम समुदाय में उनकी पर्याप्त लोकप्रियता रही. लोग यहां तक कहते कि ‘नो टू भाजपा, यस टू वाजपेयी’. पार्टी लाइन से इतर किसी राजनेता को इतना सम्मान मिलना दिखाता है कि उसमें लोगों का किस हद तक विश्वास था. वाजपेयी डिज़र्व करते थे ये यकीन. उनके बाद भाजपा में कोई नहीं बचा है, जिससे मुस्लिम समुदाय कोई करीबियत महसूस करे.


ये भी पढ़ें:

जब केमिकल बम लिए हाईजैकर से 48 लोगों को बचाने प्लेन में घुस गए थे वाजपेयी

क्या इंदिरा गांधी को ‘दुर्गा’ कहकर पलट गए थे अटल बिहारी?

उमा भारती-गोविंदाचार्य प्रसंग और वाजपेयी की नाराजगी की पूरी कहानी

कुंभकरण के जागते ही वाजपेयी के गले लग गए आडवाणी

अटल बिहारी ने सुनाया मौलवी साब का अजीब किस्सा

नरसिम्हा राव और अटल के बीच ये बात न हुई होती, तो भारत परमाणु राष्ट्र न बन पाता

जब पोखरण में परमाणु बम फट रहे थे, तब अटल बिहारी वाजपेयी क्या कर रहे थे

क्यों एम्स में भर्ती किए गए अटल बिहारी वाजपेयी?

वीडियो में देखिए वो कहानी, जब अटल ने आडवाणी को प्रधानमंत्री नहीं बनने दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
When muslims backed Atal Bihari Vajpayee before 2004 elections by forming Atal Himayat Committee

कौन हो तुम

बजट के ऊपर ज्ञान बघारने का इससे चौंचक मौका और कहीं न मिलेगा!

Quiz खेलो, यहां बजट की स्पेलिंग में 'J' आता है या 'Z' जैसे सवाल नहीं हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान और टॉलरेंस लेवल

अनुपम खेर को ट्विटर और व्हाट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो.

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

आजादी का फायदा उठाओ, रिपब्लिक इंडिया के बारे में बताओ

रिपब्लिक डे से लेकर 15 अगस्त तक. कई सवाल हैं, क्या आपको जवाब मालूम हैं? आइए, दीजिए जरा..

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.