Submit your post

Follow Us

वो गेंदबाज़ जिसने लगातार चार गेंदों पर सचिन, द्रविड़, मांजरेकर, राठौड़ को आउट कर दिया!

5 मई, 1996 को मोहम्मद अज़हरुद्दीन की कप्तानी में भारतीय टीम 65 दिन लंबे दौरे के लिए इंग्लैंड रवाना हुई. इस दौरे में तीन ऑफिशियल टेस्ट और तीन वनडे मैचों के अलावा 12 मुकाबले और खेलने थे. इससे ठीक पहले भारतीय टीम विश्वकप सेमीफाइनल में श्रीलंका से हारकर बाहर हुई थी. इस हार के बाद प्रेस और फैंस दोनों की नज़रें टीम और कप्तान पर गड़ी हुई थीं.

6 जून से शुरू हुई टेस्ट सीरीज़ के पहले दोनों मुकाबले 24 जून तक खत्म हो चले थे. भारतीय टीम पहला टेस्ट हारकर सीरीज़ में 1-0 से पीछे थी. कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन और भारत के सीनियर खिलाड़ी नवजोत सिंह सिद्धू के बीच झगड़ा हो गया. सिद्धू सीरीज़ शुरू होने से पहले टीम को छोड़कर वतन लौट आए. दूसरे मैच में सिद्धू के नहीं होने पर दो युवा खिलाड़ियों का डेब्यू हुआ. यानी सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़. दोनों ने उस मैच में शानदार बल्लेबाज़ी की.

टूर मैच, इंडियंस vs हैम्पशर, 29 जून से 01 जुलाई 1996:

सीरीज़ का तीसरा मैच नॉटिंघम में 4 से 9 जुलाई के बीच खेला जाना था. लेकिन उससे पहले साउथैम्पटन के पुराने मैदान पर एक टूर मैच था. इंडियंस का ये मुकाबले हैम्पशर की टीम के खिलाफ था. हैम्पशर की टीम को देखकर ऐसा नहीं लग रहा था कि इस मुकाबले में वो इंडियंस के लिए कोई बड़ी मुश्किल पैदा करेगी.

कप्तान अज़हर के बिना खेल रही इस टीम की कप्तानी सचिन तेंडुलकर कर रहे थे. जबकि उनके साथ अजय जडेजा, विक्रम राठौड़, सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़, संजय मांजरेकर, अनिल कुंबले, वेंकटेश प्रसाद, सलिल अंकोला, नरेन्द्र हिरवानी और वेंकटपतिराजू मौजूद थे.

29 जून से मैच शुरू हुआ. हैम्पशर की टीम ने टॉस जीता और पहले फील्डिंग चुन ली. लेकिन पूरी सीरीज़ में रनों के लिए तरस रहे अजय जडेजा और विक्रम राठौड़ ने ऐसी बल्लेबाज़ी की कि हैम्पशर की टीम ने सिर पकड़ लिया. दोनों बल्लेबाज़ों ने पहले विकेट के लिए 192 रन जोड़ दिए.

इसके बाद उस मैच में एक हीरोइक स्पेल आने वाला था. ये स्पेल था 35 साल के लेफ्ट आर्म सीमिंग ऑल-राउंडर केवान जेम्स का. वो जेम्स जिन्होंने अपने करियर में एक बार भी इंग्लैंड की जर्सी नहीं पहनी. जबकि वो वक्त उनके करियर का आखिरी वक्त ही था. लेकिन किसे पता था कि इंटरनेशनल करियर का वो एक दिन उनकी ज़िंदगी का सबसे बड़ा दिन हो जाएगा.

कप्तान ने जेम्स को सौंपी गेंद:

हैम्पशर के कप्तान स्टीफनसन ने लंच के दौरान जेम्स से कहा,

‘लंच के बाद तुम गेंदबाज़ी करोगे, तुमने अभी कम गेंदबाज़ी की है.’

लंच के बाद मैच शुरू हुआ. अंपायर जॉन हेम्पशर ने गेंद जेम्स की तरफ फेंकी और कहा,

‘यहां टिकने के लिए तुम्हें अच्छी गेंदबाज़ी करनी होगी.’

जेम्स अपने कप्तान के भरोसे पर खरे उतर गए. उन्होंने टीम को पहला विकेट दिला दिया. अजय जडेजा स्लिप में कैच आउट हो गए. ये विकेट बिल्कुल ऐसा ही लग रहा था जैसे एक गेंदबाज़ के करामात का नहीं बल्कि बल्लेबाज़ की गलती का विकेट था.

Kevan James
Kevan James

जब जेम्स ने जडेजा को आउट कर दिया, तो उन्हें लगा कि बोनस के तौर पर ही एक विकेट तो मिल गया. लेकिन उसके बाद जेम्स क्या करने वाले थे ये खुद उन्हें भी नहीं पता था.

चार गेंदों पर चार विकेट का कमाल:

भारतीय टीम का पहला विकेट गिरने के बाद मैदान पर सौरव गांगुली उतरे. उन्होंने विक्रम राठौड़ ने टीम के स्कोर को 200 के पार पहुंचा दिया. लेकिन अगले कुछ रनों में कमाल ही हो गया.

पहला विकेट:

मैच में वैसे तो हैम्पशर के गेंदबाज़ों के लिए कुछ खास नहीं हो रहा था. लेकिन फिर भी उन्होंने दबाव बनाना शुरू किया. विकेटकीपर एडी ऐम्स विकेटों पर आगे आकर खड़े हो गए. अब जेम्स गेंद फेंकते हैं, 95 पर खेल रहे विक्रम राठौड़ ने अपना बैलेंस खोया और गेंद तक पहुंचने की कोशिश की लेकिन एडी ने बेल्स उड़ा दी.

दूसरा विकेट:

अब जेम्स दो विकेट चटका चुके थे. लिटिल मास्टर और उस मैच में टीम के कप्तान सचिन तेंडुलकर मैदान पर थे. मैदान पूरी तरह से भरा हुआ था. मैदान पर सभी दर्शक सिर्फ और सिर्फ सचिन को बैटिंग करते देखने आए थे.

सचिन के मैदान पर उतरने और दो विकेट मिलने के बाद हैम्पशर के कप्तान को लगा कि मैच में वापसी का रास्ता खुल सकता है. उन्होंने जेम्स से पूछा,

‘क्या तुम्हें शॉर्ट लेग फील्डर चाहिए.’

जेम्स ने इससे मना कर दिया. लेकिन कप्तान ने फिर ज़ोर डाला और कहा,

‘कम ऑन, कुछ नहीं पता, तुम बस कोशिश करो और गेम का मज़ा लो. हम ये ट्राई करते हैं, कुछ पता नहीं होता क्या हो जाए.’

इसके बाद हैम्पशर के कप्तान ने टीम के सबसे युवा खिलाड़ी जेसन लेनी को शॉर्ट लेग पर लगा दिया. और फिर वो हुआ जो हैम्पशर खिलाड़ियों की सोच से भी परे था.

जेम्स ने गेंद फेंकी, गेंद स्विंग हुई. बल्ले का किनारा लगा और सीधे गेंद शॉर्ट लेग के हाथों में आ गई. जेम्स ने उस वक्त सोचा ये क्या कैसे हो गया, इस पर हैम्पशर के किसी भी खिलाड़ी को यकीन नहीं हो पा रहा था, वो सिर्फ हंस रहे थे. उनके लिए ये सब बिल्कुल अजीब था.

सचिन पहली गेंद पर आउट होकर लौट चले थे. मैदान पर बुरी तरह से सन्नाटा था. लगातार दो गेंदों पर दो विकेट. हैम्पशर की पूरी टीम ये सोचकर हंस रही थी कि उस दिन उन्होंने मैदान पर आए हर फैन का दिन खराब कर दिया.

Rahul Sachin
फाइल फोटो

तीसरा विकेट और हैटट्रिक:

जेम्स को खुद नहीं पता था कि आखिर ये सब क्या हो रहा है. लेकिन अभी उनका दिन पूरा नहीं हुआ था. अब मैदान पर युवा बल्लेबाज़ और डेब्यू मैच में 95 रन बनाने वाले राहुल द्रविड़ क्रीज़ पर उतरे.

दो गेंदों पर दो विकेट के बाद अंपायर हैम्पशर ने जेम्स से कहा,

‘तुम्हें अंदाज़ा भी है, तुम हैटट्रिक पर हो.’

जेम्स हैट्रिक गेंद लेकर दौड़े. उन्होंने द्रविड़ को सीधी गेंद फेंकने की कोशिश की. लेकिन वो गेंद थोड़ी सी स्विंग हुई और द्रविड़ के पैड पर जाकर लग गई. जेम्स अपनी पूरी जान से चिल्लाए और अंपायर ने सीधे अपने उंगली उठा दी. और ये जेम्स के लिए हैटट्रिक थी….

35 की उम्र में पहली बार किसी ऑल-राउंडर ने क्रिकेट के मैदान पर हैटट्रिक ली थी. वो गेंदबाज़ जिसने ना कभी क्लब, ना स्कूल और ना ही कहीं भी हैटट्रिक के बारे में सोचा था. उसने इंडियंस के खिलाफ अपने करियर के आखिरी पड़ाव में ऐसा कर दिया. द्रविड़ के आउट होने के बाद जेम्स के पांव ज़मीन पर नहीं थे.

चौथा विकेट:

तीन गेंदों पर तीन विकेट के बाद अब मैदान पर उतरे संजय मांजरेकर. देखते ही देखते 207/1 से भारत का स्कोर 207/4 विकेट हो गया था. इस बार फिर से उन्होंने गेंद फेंकी. गेंद स्विंग नहीं हुई. लेकिन फिर भी मांजरेकर के बल्ले का किनारा लेकर पॉल टेरी के हाथों में चली गई.

ये सब किसी सपने जैसा था, चार गेंदों पर चार विकेट. वो भी एक ऐसी बैटिंग लाइनअप के खिलाफ जो वर्ल्ड क्रिकेट में फेमस है. ऐसा रिकॉर्ड जो फर्स्ट-क्लास क्रिकेट में फिर कभी नहीं हुआ.

पांचवीं गेंद पर भी हो जाता चमत्कार:

इसके बाद अगली गेंद पर भी एक ऐसा चमत्कार होने वाला था जो क्रिकेट में करना आसान नही है. यानी पांच गेंदों पर पांच विकेट. गांगुली के बल्ले का एक मोटा किनारा लगा और गेंद पॉल विटेकर के पास से गई. विटेकर ने डाइव मारकर कैच पकड़ने की कोशिश की. लेकिन वो मौका बहुत मुश्किल था.

क्रिकेट से संन्यास के बाद जेम्स BBC रेडियो के साथ काम करने लगे. केवान ने एक इंटरव्यू में बताया था कि

साल 2004 में जब सौरव गांगुली कप्तान बनकर लौटे तो एजिस बाउल में इंडिया और इंग्लैंड मैच से पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में केवान ने अपना इंट्रोडक्शन देते हुए कहा,

‘केवान जेम्स, BBC.’

जिसके जवाब में सौरव गांगुली ने तुरंत कहा,

‘केवान जेम्स? चार गेंदों में चार विकेट वाले?’

गांगुली का ये जवाब सुनकर कमरे में मौजूद सभी पत्रकारों ने घूमकर तुरंत जेम्स की तरफ देखा. प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद जेम्स ने दादा से पूछा कि आपको वो अब तक याद है. तो दादा ने जवाब दिया,

‘हां मैं ऐसी चीज़ें याद रखता हूं.’

इसके बाद जब जेम्स ने उनसे कहा,

‘गली पर आपका कैच भी छूटा था.’

दादा तुरंत बोल पड़े,

‘गली नहीं, कवर्स में.’

चार गेंदों पर चार विकेट के बाद शतक:

उस दिन के खेल के बाद आगे के खेल के लिए जेम्स बिल्कुल बेफ्रिक हो गए. उन्होंने सोच लिया था कि उन्होंने वो सब अचीव कर लिया है जो एक खिलाड़ी को करना चाहिए. उस रात के जश्न में जेम्स ने शराब पी थी. इसके बाद अगले दिन वो नंबर चार पर बल्लेबाज़ी के लिए भी उतरे.

Kevan James 1
Kevan James 1

उन्होंने शानदार बल्लेबाज़ी की और शतक के करीब पहुंच गए. लेकिन नाइंटीज़ में पहुंचते ही उन्होंने नरेन्द्र हिरवानी पर एक ऐसा खराब शॉट खेला कि वो बाल-बाल बचे. इसके बाद दूसरे एंड पर खड़े पॉल टेरी ने उनसे कहा,

‘मुझे लगता है कि तुम इस बात को समझते हो कि एक ही मैच में चार गेंदों पर चार विकेट और उसके साथ शतक के क्या मायने होते हैं.’

इसके बाद जेम्स ने अपना शतक और अगले आठ रन बनाने के लिए एक घंटा लिया. उन्होंने उस मैच में 103 रनों की पारी खेली और आखिर में वेंकटपति राजू के हाथों आउट हुए.

केवान जेम्स ने अपने 225 मैचों के करियर में कुल 8526 रन बनाए. जबकि 395 विकेट अपने नाम किए. लेकिन वैसा दिन उनके करियर में फिर कभी नहीं आया.


2007 के T20 वर्ल्डकप में धोनी की टीम इंडिया के लिए द्रविड़, सचिन, गांगुली ने ये बड़ा फैसला लिया था 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?