Submit your post

Follow Us

जब मियांदाद ने किरन मोरे को चिढ़ाने के लिए बंदरों जैसा उछलना शुरू कर दिया था

साल 1992. बेंसन ऐंड हेजेज़ वर्ल्ड कप. ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड में खेला जा रहा था. 4 मार्च. सिडनी का मैदान. लम्बी बाउंड्रीज़, हरा मैदान और शाम होते होते लाल हो चुका आसमान. अगर लॉर्ड्स क्रिकेट का मक्का है तो सिडनी क्रिकेट ग्राउंड क्रिकेट खेलने के लिए जन्नत है. और इस जन्नत में मल्लयुद्ध होना था. भारत और पाकिस्तान.

ये वो वक़्त था जब सचिन तेंदुलकर पांचवें नम्बर पर बैटिंग करने आते थे. श्रीकांत ओपनिंग करते थे, सिद्धू के साथ. चूंकि इस टूर्नामेंट में सिद्धू नहीं थे इसलिए उनकी जगह लोग बदल रहे थे. पिछले मैच में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ रवि शास्त्री ने ओपन किया था. पाकिस्तान के ख़िलाफ़ अजय जडेजा को मौका मिला था.  जडेजा ने नई गेंद को पुराना किया लेकिन उस वक़्त के सहवाग श्रीकांत जल्दी चलते बने. अज़हर ने ठीक खेलना शुरू किया लेकिन जब तक तो बढ़िया खेलते तब तक निपट लिए. सचिन ने पचासा मारके मामला संभाला और नीचे कपिल देव ने बम फोड़ कर बाजा फाड़ दिया. सचिन ने 62 गेंद में 54 रन बनाये और कपिल ने 26 गेंद में 35 रन. इंडिया ने बोर्ड पर 7 विकेट के नुकसान पर 216 रन का एक ऐवरेज स्कोर बनाया.

पाकिस्तान की बैटिंग आई. उधर भी वही हाल. एक ओपनर खूंटा गाड़ के जम गया. आमिर सोहेल. 95 गेंद में 62 रन. इंज़माम-उल-हक़ और जाहिद फ़ज़ल 2-2 रन बनाकर निकल पड़े. जावेद मियांदाद और आमिर सोहेल के बीच बढ़िया पार्टनरशिप चल पड़ी. मियांदाद 1986 में चेतन शर्मा को आखिरी गेंद पर छक्का मारकर इंडिया को हमेशा के लिए एक नासूर दे चुके थे. इस चालू पार्टनरशिप में इंडिया को खतरे की तस्वीर दिखाई दे रही थी. मियांदाद खतरनाक दिखाई दे रहे थे. विकेट के पीछे किरन मोरे काफी एक्टिव हो रहे थे. तेंदुलकर का ओवर. उनकी काईयांपन से भरी मीडियम पेस गेंदें थोड़ा परेशान कर रही थीं. तेंदुलकर की लेग स्टम्प की ओर फेंकी गेंद को मियांदाद ने बल्ला लगाकर किनारे करना चाहा लेकिन गेंद मिस हुई और मोरे के हाथों में पहुंच गई. मोरे जितनी ताकत थी, सब झोंक कर चिल्ला पड़े. अम्पायर ने सर न में हिला दिया लेकिन मियांदाद का मुंह बन गया.

तेंदुलकर की अगली गेंद. अपने छोटे रन-अप के बीच में ही उन्हें रोक दिया गया. वजह थे खुद मियांदाद. उन्हें किरन मोरे की आवाज़ अभी भी आ रही थी. मियांदाद ने मोरे से पूछा, “दिक्कत क्या है?” उन दोनों की इसके बाद लगभग 15 सेकंड बात हुई. मियांदाद अम्पायर डेविड शेफ़र्ड की ओर पलटे और उनसे शिकायत की. किरन मोरे ने अम्पायर की ओर ऐसा इशारा किया जैसे उन्हें कुछ मालूम ही नहीं था.

तेंदुलकर फिर से दौड़े. मिड ऑफ की ओर गेंद मारी. मियांदाद ने रन लेने की सोची. दौड़े मगर तुरंत ही वापस आ गए. मोरे ने गेंद पकड़ी और गिल्लियां उड़ा दीं. मियांदाद ने फिर मुंह बनाया. और अब उन्होंने वो किया जो ताज़े-ताज़े रंगीन हुए क्रिकेट और ग्लोबल हुए क्रिकेट की महान क्लिप बन गई.

मियांदाद ने बल्ला दोनों हाथों में पकड़ा और उछाल मारने लगे. उनकी उछाल स्टंप्स की हाइट तक पहुंच रही थी. ओवर खतम हो चुका था और मोरे उनके ठीक बगल से निकल कर दूसरे एंड पर जा रहे थे. हालांकि मियांदाद ये जो भी कर रहे थे, मोरे की नकल उतारने की एक कोशिश थी लेकिन क्रिकेट की पिच के बीचों-बीच ऐसा सीन थोड़ा खराब टेस्ट में मालूम दे रहा था. इसके साथ ही मियांदाद की बहुत जल्दी फ्रस्ट्रेट हो जाने की आदत भी एक बार फिर खुलकर सामने आ गई थी.


वीडियो- क्रिकेट में मारे गए छक्कों का इतिहास कहां से शुरू होता है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.