Submit your post

Follow Us

केजरीवाल और राहुल गांधी तो हो आए, लेकिन आप ‘विपश्यना’ पर जाने से पहले ये बातें जान लेना

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल गए हैं जयपुर. हवा महल घूमने नहीं, विपश्यना करने. केजरीवाल 2016 में भी विपश्यना करने जा चुके हैं. ख़बर सुनते ही दिमाग में आता है कि ये विपश्यना है क्या कि कभी राहुल गांधी करने पहुंच जाते हैं, कभी केजरीवाल. इसलिए हम लेकर आए हैं ‘विपश्यना की संपूर्ण कुंजी’. माने Complete Guide to Vipassana.

बुद्ध की री-डिस्कवर की हुई कला

विपश्यना एक ‘ध्यान विधि’ है. भारत में ये करीब ढाई हज़ार साल पुरानी मानी जाती है, जब गौतम बुद्ध ने इसको री-डिस्कवर किया था. री-डिस्कवर बताना ज़रूरी है. माने ये कला उससे भी पहले से मौजूद रही है, लेकिन कहीं गुम हो गई थी. फिर बुद्ध ने इसे वापस ज़िंदा किया. उन्होंने खुद इसकी प्रैक्टिस की और दूसरों को भी कराई. नेक्स्ट लेवल मेडिटेशन. भारत से विपश्यना पहुंची बर्मा, थाइलैंड जैसे देशों में. बुद्ध गए तो 500 साल बाद विपश्यना वैसी नहीं रह गई जैसी ये थी, धीरे-धीरे भारत से ही गायब होने लगी. लेकिन बर्मा जैसी जगहों के लोगों ने इसे बचाए रखा. और अब एक बार फिर विपश्यना बड़े स्तर पर लोगों के बीच पहुंच रही है.

विपश्यना का मकसद

इसका मकसद होता है कि दिमाग में जो कुछ चल रहा है और उससे जो दिक्कत हो रही है, उससे पिंड छुड़ाना. केवल बॉडी ही नहीं, दिल-दिमाग के भी दुखों को, ओवरथिंकिंग को दूर करना. इसमें आदमी खुद को चेक करता है और खुद को भीतर से शुद्ध करने की कोशिश करता है. जो कुछ भी घट रहा हो, उसको आदमी तटस्थ होकर देखता है और अपने चित्त को साफ करने की कोशिश करता है. कम शब्दों में बताएं तो दिन में कई-कई बार बैठे-बैठे ध्यान करना होता है. 10 घंटे बैठे रहो, और ध्यान करो. दस दिन तक मौन रखना होता है. इशारों में भी बात नहीं कर सकते. विपश्यना में कोई दिक्कत हो तो जो आचार्य हों वहां पे, उनसे पूछ सकते हैं.

Buddha
विपश्यना को भगवान बुद्ध ने री-डिस्कवर किया था. (फोटो- India Today)

सयाजी ऊ बा खिन

फिर हुए सयाजी ऊ बा खिन. ये नाम है. बर्मा के थे. 6 मार्च, 1899 को बर्मा की राजधानी रंगून में पैदा हुए. पहले पहल क्लर्क हुआ करते थे. एकाउंटेंट जनरल के ऑफिस में. जब बर्मा, भारत से अलग हुआ, उस वक्त रंगून नदी के किनारे एक गांव के किसान से उन्होंने ‘आनापान’ का कोर्स किया. इसमें दिमाग और चित्त को एकाग्र करना सिखाया जाता है. सीख-सिखाकर 1950 में इन्होंने अपने ऑफिस में विपश्यना केंद्र बनाया, तब तक ये स्पेशल ऑफिस सुपरिटेंडेंट बन गए थे. 1952 में सयाजी ने ही रंगून में अंतरराष्ट्रीय विपश्यना ध्यान केंद्र की स्थापना की.

31 साल का एक आदमी एक बार उनके पास आया. सयाजी ने उसे विपश्यना सिखाया. उस आदमी का नाम सत्यनारायण गोयनका था.  वो मारवाड़ी समूह के व्यापारी थे. मांडले में पैदा हुए थे. 14 साल तक उन्होंने सयाजी से ट्रेनिंग ली. 1969 में सत्यनारायण गोयनका विपश्यना को एक बार फिर भारत लेकर आए. 1969 में शिविर लगाने शुरू किए. 120 असिस्टेंट्स को इस काम के लिए ट्रेंड किया. और विपश्यना एक बार फिर भारत में ज़िंदा हो गई. बाद में 2012 में उनको इस काम के लिए पद्मभूषण भी मिला.

Sayaji
सयाजी. (फोटो- sayagyi-u-ba-khin.net

विपश्यना के 3 स्टेज

पहला स्टेज – जो साधक होता है, वो उन सब चीजों से दूर रहता है, जिससे उसको नुकसान हो. इसके लिए पंचशील का पालन करना पड़ता है. मतलब जीव-हिंसा से दूर रहना, चोरी से बचना, झूठ न बोलना, ब्रह्मचर्य का पालन करना और नशे से दूर रहना.

दूसरा स्टेज – इसमें साढ़े 3 दिन लगते हैं. अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करना और मन एकाग्र करना होता है. इसको ‘आनापान’ कहते हैं. ‘आनापान’ आन और अपान से बना है. आन माने आने वाली सांस, अपान माने जाने वाली सांस. इससे मेमोरी बढ़ती है.

तीसरा स्टेज – इसमें बॉडी के अंदर हर पल घट रही संवेदनाओं को एक दर्शक जैसे देखना सिखाया जाता है. ऐसे में अपने अंदर जो कुछ भी वेदना-संवेदना चल रही हो, उसका पैटर्न समझ आने लगता है. ऐसे में ये समझ आता है कि अच्छा हो या बुरा, सब बदलता ही रहता है. हम चाहें तब भी उसका बदलना रोक नहीं सकते.

विपश्यना का रुटीन

विपश्यना के बारे में तमाम ज़रूरी बातें जानने के लिए हमने बात की राजेश मित्तल से, जो खुद भी विपश्यना कर चुके हैं. बड़े पत्रकार हैं. उन्होंने विपश्यना का पूरा रुटीन बताया –

“तड़के 4 बजे उठो. फ्रेश होने के बाद 4:30 बजे ध्यान कक्ष पहुंच जाओ. वहां 6:30 तक ध्यान करो. 6:30 से 7:15 के बीच नाश्ता, फिर 8 बजे तक का वक्त नहाने-धोने के लिए दिया जाता है. 8 से 9 और 9 से 11 ध्यान के दो सेशन. 11 बजे लंच. उसके बाद 1 बजे तक का वक्त आराम का. 1 से 2:30, 2:30 से 3:30 और 3:30 से 5 – ध्यान के तीन सेशन. 5 से 5:30 स्नैक्स. 6 बजे तक आराम. 6 से 7 ध्यान, 7 से 8:30 गोयनका जी का वीडियो पर प्रवचन, 8:30 से 9 बजे तक ध्यान. ध्यान के हर घंटे, दो घंटे बाद 5-10 मिनट का बायो ब्रेक दिया जाता है.”

विपश्यना के मेन सेंटर का पूरा पता है: विपश्यना इंटरनैशनल अकैडमी, धम्मगिरि, इगतपुरी, जिला नासिक, महाराष्ट्र. सीखने के लिए इगतपुरी जाना जरूरी नहीं. देश में इसके करीब 70 सेंटर हैं और पूरी दुनिया में कुल 161 सेंटर. www.vridhamma.org विपश्यना के इगतपुरी सेंटर की वेबसाइट है. www.dhamma.org पर ऑनलाइन बुकिंग भी है.

कितनी कठिन है विपश्यना?

राजेश मित्तल ने बताया –

“10 दिन तक एक कमरे में कैद रहने जैसा होता है. पढ़ना, लिखना, टीवी, इंटरनेट, ईमेल सब बंद. ध्यान के सेशंस शुरुआत में काटे नहीं कटते थे. ब्रेक का इंतज़ार करता था. टांगें, गर्दन बुरी तरह दर्द होने लगते थे. शुरू के 3 दिन तो ऐसा लग रहा था कि कहां आकर फंस गया हूं. लेकिन फिर धीरे-धीरे चीजें अभ्यास में आने लगीं. लगा कि शरीर और मन की सीमाओं के पार जाने को मिल रहा है. ये अनुभव कितना काम आता है, ये इस पर निर्भर करता है कि आप विपश्यना से वापस आकर ध्यान लगाना जारी रखते हैं या नहीं. लेकिन ये 10 दिन का अनुभव अद्भुत था.”

चलते-चलते बता दें कि विपश्यना के कोर्स पूरी तरह फ्री होते हैं. रहने, खाने का भी पैसा नहीं लिया जाता. शिविर का सारा खर्च पुराने साधकों के दिए दान से चलता है. शिविर खत्म होने पर कोई चाहे तो भविष्य के शिविरों के लिए दान दे सकता है.


संबित पात्रा ने बताया राहुल गांधी मेडिटेशन के लिए बैंकॉक क्यों जाते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.