Submit your post

Follow Us

शिवराज के समय का कौन सा 'टेंडर रैकेट' घोटाला कमलनाथ कार्यकाल में पकड़ाया

ED ने मध्य प्रदेश के एक मामले को लेकर राज्य और राज्य के बाहर कई जगहों पर हाल ही में छापेमारी की. मामला ई-टेंडर धांधली का है. इसमें कथित तौर पर 3000 करोड़ रुपये के करीब की मनी लॉन्ड्रिंग की गई है.

क्या है ई-टेंडर धांधली का पूरा मामला

आगे बढ़ने से पहले ये बता दें कि सारी चीज़ें ‘कथित’ तौर पर हैं. क्यूंकि आरोप अभी सिद्ध नहीं हुए हैं.

ये मामला पकड़ में आया कमलनाथ के कार्यकाल में. और मामला था शिवराज चौहान के पिछले कार्यकाल का. आपको पता ही होगा कि शिवराज चौहान से पहले कुछ दिनों के लिए कमलनाथ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे. लेकिन उनसे पहले भी शिवराज चौहान ही मुख्यमंत्री थे.

तो मामला ये था कि जनवरी से मार्च, 2018 के बीच राज्य की ई-टेंडर वेबसाइट (पोर्टल) को हेक करके टेंडर्स में हेरे फेर की गई और सरकारी कॉन्ट्रैक्ट्स हासिल कर लिए गए थे.

सांकेतिक तस्वीर (PTI)
सांकेतिक तस्वीर (PTI)

दिसंबर, 2018 में कमलनाथ की सरकार आई. इसके बाद ये मामला पकड़ में आया और फिर मध्य प्रदेश पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (EOW) ने केस दर्ज किया. EOW की इस FIR से क्यू लेकर बाद में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने ‘प्रिवेंशन ऑफ़ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट’ के अंतर्गत मामला अपने संज्ञान में ले लिया.

EOW ने सात कंपनियों के निदेशकों और अन्य अधिकारियों के खिलाफ धारा 420 (धोखाधड़ी), IT एक्ट और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामले दर्ज किए थे. साथ ही पांच राज्यों के सरकारी आधिकारियों और कुछ राजनेताओं के नाम भी EOW की FIR में थे.

दी हिंदू की एक खबर के अनुसार, रैकेट में शामिल सात निर्माण कंपनियां थीं-

# GVPR लिमिटेड
# मैसर्स मैक्स मेंटानिया
# ह्यूम पाइप लिमिटेड
# JMC लिमिटेड
# सोरठिया वेलजी लिमिटेड
# मैसर्स माधव मिश्रा प्रोजेक्ट्स
# राम कुमार नरवानी लिमिटेड

शिवराज सिंह चौहान. मध्य प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री. (तस्वीर: PTI)
शिवराज सिंह चौहान. मध्य प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री. (तस्वीर: PTI)

बाद में, उन सभी नौ निविदाओं को रद्द कर दिया गया था जिनमें हेरफेर की गई थी. 3,000 करोड़ मूल्य के प्रोजेक्ट की ये निविदाएं मध्य प्रदेश राज्य के निम्न डिपार्टमेंट्स की थीं-

# जल निगम
# लोक निर्माण विभाग
# एम.पी. सड़क विकास निगम
# जल संसाधन विकास

तो इसी पूरे केस के चलते ED पिछले एक हफ़्ते में भोपाल, बेंगलुरु और हैदराबाद सहित कई शहरों के एक दर्जन से अधिक जगहों की छानबीन कर चुकी है. इन जगहों में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव का ऑफ़िस और घर भी शामिल है.

# ई-टेंडरिंग क्या होते हैं?

कई साल हुए, कई सारी चीज़ों के साथ-साथ टेंडर की पूरी प्रक्रिया भी ऑनलाइन हो गई.

सरकारी मामलों में तो 2012 से सब कुछ ऑनलाइन होने लगा. इससे टाइम बचा. काग़ज़-कलम-दवात जैसे कई रिसोर्सेज़ बचे.

मध्यप्रदेश के ई-टेंडर पोर्टल का स्क्रीनग्रैब.
मध्यप्रदेश के ई-टेंडर पोर्टल का स्क्रीनग्रैब.

ऑनलाइन टेंडरिंग प्रोसेस ने इस पूरी प्रक्रिया को और भी पारदर्शी बना डाला है. मतलब इस एक इनसीडेंट या ऐसे कुछेक इनसीडेंट को छोड़कर, जिसे करने के लिए भी एक दो लोग नहीं पूरा रैकट की ज़रूरी हो गया. ई-टेंडरिंग के चलते ग़लतियां भी कम हुई हैं. ई-टेंडरिंग के लिए बना केंद्र का पोर्टल CPP (सेंट्रल पब्लिक प्रोक्यूरमेंट पोर्टल)-

https://eprocure.gov.in/eprocure/app

प्रोक्यूरमेंट मतलब हासिल करना. क्या हासिल करना? टेंडर हासिल करना. तो केंद्र सरकार के सारे ठेकों के टेंडर्स यहां पर ‘अंडर वन अम्ब्रेला’ मिल जाएंगे.

ऐसे ही कुछ राज्य स्तरीय पोर्टल्स भी हैं. जैसे उत्तर प्रदेश के लिए ये वाला-

https://etender.up.nic.in/nicgep/app

और अंत में मध्य प्रदेश वाला ये रहेगा-

https://mptenders.gov.in/nicgep/app


वीडियो देखें: पशु क्रूरता कानून का वो बदलाव, जिस पर सुप्रीम कोर्ट कसके गुस्साया-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

जानते हो ऋतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे ऋतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

किसान दिवस पर किसानी से जुड़े इन सवालों पर अपनी जनरल नॉलेज चेक कर लें

कितने नंबर आए, ये बताते हुए जाइएगा.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?