Submit your post

Follow Us

क्या है IS का खोरासान मॉड्यूल, जिसका जिक्र हदीस में कयामत के दिन के लिए किया गया है

सेंट्रल एशिया की पहाड़ियां. पहाड़ियां, जो ईरान से लेकर पाकिस्तान, अफगानिस्तान और तुर्कमेनिस्तान को छूती हैं. इन्हीं पहाड़ियों के पास है एक इलाका- खोरासान. जो तीन देशों में फैला है- उत्तर-पूर्वी ईरान, दक्षिणी तुर्कमेनिस्तान और उत्तरी अफगानिस्तान. खोरासान को सासानी एंपायर ने बसाया था. सासानी कौन थे? सासानी थे ईरान के अंतिम शासक, उनके बाद सेंट्रल एशिया में इस्लाम शासन शुरू हो गया था.

इस पूरे रीज़न में खोरासान की लोकेशन पूर्वी है. इसी वजह से खोरासान को ‘सूरज की धरती’ कहते हैं..The Land of Sun. हदीस में भी खोरासान का ज़िक्र है. हदीस यानी इस्लाम के पुरखों के जीवन, उनके रहन-सहन और सोच के हिसाब से इस्लाम का तौर-तरीका बताने वाली धारा. कहते हैं, हदीस में लिखा है- जिस रोज़ खोरासान से काले परचम निकलेंगे, वही कयामत का दिन होगा.

Khorasan 22
खोरासान रीज़न का मैप. खोरासान की सीमाएं तीन देशों को छूती हैं.

खोरासान की बात अब क्यों उठी है?

खोरासान फिर खबरों में है. वजह- दिल्ली से दो गिरफ्तारियां हुई हैं. इन पर आरोप है एंटी-CAA प्रोटेस्ट को भड़काने का और शक है ISIS के खोरासान मॉड्यूल से जुड़े होने का. अभी ऊपर हमने बताया खोरासान इलाके के बारे में. अब बात करते हैं खोरासान टेररिस्ट मॉड्यूल के बारे में.

पहले अल-कायदा, फिर IS

खोरासान इलाके के कुछ लड़ाकों ने मिलकर मार्च-2012 में खोरासान लड़ाकों की छोटी सी फौज तैयार की थी. शुरुआत में खोरासान लड़ाके आतंकवादी संगठन अल-कायदा के एक सर्पोटिंग यूनिट के तौर पर काम करते थे. 2014 से जैसे-जैसे सीरिया और आस-पास के इलाकों में IS का असर बढ़ा, खोरासान का इसके प्रति झुकाव बढ़ा.

नतीजा- 2014 के अंत तक खोरासान लड़ाके ISIS के मॉड्यूल यानी इसका हिस्सा बन चुके थे. ISIS के खोरासान मॉड्यूल यानी ISIS-K.

ISIS के 20 मॉड्यूल में सबसे खतरनाक

रसेल ट्रैवर्स अमेरिका की नेशनल काउंटर टेररिज़्म सेंटर के पूर्व डायरेक्टर हैं. रसेल बताते हैं-

“ISIS के करीब 20 मॉड्यूल हैं. लेकिन इनमें से सबसे खतरनाक है ISIS-K. अमेरिका के लिए भी खोरासान सबसे बड़ी चिंताओं में से एक है. साउथ एशिया में खोरासान से मजबूत नेटवर्क किसी का नहीं है. ISIS-K के पास करीब चार हजार लड़ाके हैं. साथ ही इन्हें आस-पास के इलाकों से भी पूरा सहयोग मिलता है.”

रसेल ने ये जानकारी पिछले साल ही अमेरिका की सीनेट में दी थी, जब उनके भारतीय मूल की सीनेटर मैगी हसन ने ISIS-K से जुड़ा सवाल किया था.

Khorasan 33
खोरासान मॉड्यूल के पास कई 5-6 साल उम्र तक के भी बच्चे हैं, जिनका कुछ साल ब्रेनवॉश करने के बाद फिर हथियार भी थमा दिए जाते हैं. (फोटो- Al Jazeera)

अलग-अलग जगह, अलग-अलग पहचान

खोरासान की पूरी दुनिया में पहचान ISIS-K की है. लेकिन सीरिया और आस-पास के इलाकों में ये पहचान कुछ अलग है. सीरिया के लोग खोरासान मॉड्यूल को न तो किसी खास मिलिटेंट ग्रुप का हिस्सा मानते हैं, न ही सीरिया में इनकी मौजूदगी को खुली ज़ुबान कबूल करते हैं. वो ISIS-K को भी नहीं जानते. सीरिया के लोगों के लिए खोरासान मॉड्यूल की एक ही पहचान है- पाकिस्तान और अफगानिस्तान वाले लड़ाके.

आखिरी बात..ISIS-K चाहता क्या है?

जिहादी मूवमेंट को फॉलो करने वाले ब्लॉगर पीटर वान बताते हैं-

“खोरासान के बारे में कभी कोई बात खुलकर आ ही नहीं पाती है. अलग-अलग हिस्सों में इनकी अलग-अलग पहचान है. साथ ही आज तक ये भी साफ नहीं हो सका है कि क्या खोरासान का अल-कायदा से पूरी तरह रास्ता जुदा हो गया है या अभी भी दोनों संपर्क में हैं.”

दरअसल सीरिया में एक जबात-उल-नुस्रा नाम का मिलिटेंट ग्रुप एक्टिव है. इस ग्रुप में ज्यादातर आतंकी ऐसे हैं, जो पहले अल-कायदा से भी जुड़े रहे हैं. और यही ग्रुप खोरासान मॉड्यूल के भी जबरदस्त कॉन्टैक्ट में है. अब यहीं से शक गहराता है कि जब एक ही ग्रुप अल-कायदा और खोरासान, दोनों से कॉन्टैक्ट में है. तो कैसे ये मान लिया जाए कि खोरासान और अल-कायदा आपस में कॉन्टैक्ट में नहीं हैं?

और यहीं से ज़ाहिर होते हैं ISIS-K या खोरासान मॉड्यूल के इरादे. IS के संपर्क में रहकर वो सीरिया में तो पकड़ बना ही चुका है. अल-कायदा के संपर्क में रहकर इंडियन सबकॉन्टिनेंट में भी दाख़िल होना चाहता है.

इसीलिए दिल्ली से हुई गिरफ्तारियों को गंभीरता से लिया जा रहा है. लिया जाना चाहिए. फिलवक्त दिल्ली में जिन दो लोगों पर शक था, उनकी गिरफ्तारी हो चुकी है. पूछताछ चल रही है. पुलिस को भी उम्मीद है कि जानकारियां अभी और निकलेंगी.


जानिए उनके बारे में जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन को खत्म करने के लिए नियुक्त किया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.