Submit your post

Follow Us

ये कीटो डाइट क्या होती है, जिसने कथित तौर पर एक्ट्रेस मिष्टी मुखर्जी की जान ले ली

बॉलीवुड और बंगाली सिनेमा की एक्ट्रेस मिष्टी मुखर्जी. 2 अक्टूबर, शुक्रवार को 27 साल की उम्र में उनका देहांत हो गया. बताया जा रहा है कि मिष्टी लम्बे समय से किडनी की परेशानी से जूझ रही थीं. किडनी फेल होने की वजह से उनकी मौत हुई. किडनी फेल होने की वजह कीटो डाइट बताई जा रही है. मगर क्या सच में इस तरह डाइट करने की वजह से किसी की मौत हो सकती है? अगर बिना डायटिशियन की सलाह के ये किया जाए, तो उसका बुरा असर पड़ता है? क्या होती है ये कीटो डाइट और क्या कुछ हैं इसके फायदे-नुकसान, सब बताएंगे आपको. डाइट की पूरी ए, बी, सी आप यहां जानिए.

डाइट क्या होती है

सबसे पहले तो ये जानिए कि ये डाइट किस चिड़िया का नाम है. डाइट मतलब सही वक्त पर ठीक खान-पान, जो आप अपने बॉडी के अकॉर्डिंग रखते हैं. आपकी हाइट, वेट और उम्र के हिसाब से चीजों को देखकर डाइटिशियन आपको बताते हैं कि आपको खाने में कैसे और क्या-क्या लेना है.

कितने तरह की होती है डाइट

‘हेल्थलाइन डॉट कॉम’ में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, डाइट कई तरह की हो सकती है. मगर नौ ऐसी डाइट हैं, जो लोगों के बीच काफी पॉपुलर है.

1. द पालेओ (Paleo) डाइट
2. द वीगन डाएट (जिसमें सिर्फ शाकाहारी चीजें खाई जाती हैं)
3. लो-कार्ब्स डाइट (इसमें कार्ब्स की मात्रा बहुत कम होती है)
4. द दुक्न डाइट
5. द अल्ट्रा- लो फैट डाइट (इस डाइट में फैट हद से ज़्यादा कम होता है)
6. द एटकिन्स डाइट
7. एचसीजी डाइट
8. द ज़ोन डाइट, और
9. इंटरमिटेंट फास्टिंग (इसमें 15-17 घंटे तक आपको भोजन नहीं लेना होता है)

क्या होती है कीटो डायट

कीटो डाइट जैसा शब्द भले ही ऊपर की लिस्ट में न मिला हो, मगर आज के समय में ये बेहद कॉमन डाइट प्लान है. इसमें कम कार्बोहाइड्रेट की डाइट दी जाती है. मतलब ऐसा खाना, जिसमें बहुत कम मात्रा में कार्बोहाइड्रेट होता है. इसी डाइट की वजह से लिवर में कीटोन पैदा होता है, जो वज़न कम करने के काम आता है. लोग अक्सर इस डाइट को वज़न कम करने के लिए फॉलो करते हैं. मगर इसका इतिहास कुछ और ही रहा है.

जो लोग जिम जाते हैं वो लोग अक्सर एक पर्टिकुलर डाइट को फॉलो कर सकते हैं.
जो लोग जिम जाते हैं, वो अक्सर एक पर्टिकुलर डाइट को फॉलो करते हैं.

क्या है कीटो डाइट का इतिहास

कीटो डाइट का अपना एक अलग इतिहास रहा है. ‘एएफपीए फिटनेस डॉट कॉम’ में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, ‘केटोजेनिक’ शब्द का प्रयोग 20वीं शताब्दी तक नहीं किया गया था. लेकिन हेल्थ के लिए डाइट करना या उपवास रखने की ये परंपरा लगभग दो हज़ार साल पुरानी है.

बताया जाता है कि कीटो डाइट का सबसे पहले इस्तेमाल ग्रीक में किया गया था. जहां मिर्गी का दौरा पड़ने वाले बच्चों को खाने की ऐसी डाइट दी गई थी.
बताया जाता है कि कीटो डाइट का सबसे पहले इस्तेमाल ग्रीक में किया गया था. वहां मिर्गी का दौरा पड़ने वाले बच्चों को ऐसी डाइट दी गई थी.

कीटो डाइट की बात करें, तो प्राचीन यूनानी चिकित्सकों ने मिर्गी और कुछ अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज के लिए कुछ फूड आइटम्स को खाने से मना किया था. धीरे-धीरे ये एक स्वस्थ जीवन शैली का अभिन्न अंग बन गया. वास्तव में देखा जाए, तो ये कीटो डाइट सिर्फ उन लोगों के लिए या उन बच्चों के लिए थी, जिन्हें मिर्गी का दौरा पड़ता था. इसी के इलाज के लिए कीटो डाइट की शुरुआत हुई थी.

डाइटिशियन साक्षी शर्मा ने बताया-

बेसिकली जो एपीलेप्सी यानी मिर्गी के पेशेंट होते हैं, जिन्हें दौरे पड़ते हैं, उन्हें कीटो डाइट दी जाती है. क्योंकि इस डाइट में फैट कंटेंट ज़्यादा होता है. कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन की तुलना में इस डाइट में फैट यानी वसा ज़्यादा दी जाती है. इसका कारण ये है कि बच्चे कार्बोडाइड्रेट ज़्यादा हज़म नहीं कर पाते. इसी के कारण इन्हें दौरे भी ज़्यादा पड़ते हैं.

किस हिसाब से तय होती है डाइट

साक्षी ने बताया-

पेशेंट की हाइट, वेट और उम्र के हिसाब से उनकी डाइट तय की जाती है. मगर जो सबसे ज़्यादा मेजर या बड़ा पोर्शन होता है, लगभग 70 से 80 प्रतिशत जो एनर्जी प्रोवाइड करते हैं, वो फैट के आधार पर दिया जाता है. इसके बाद तय किया जाता है कि कितना कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन दिया जाना है.

अक्सर लोगों को ये गलतफहमी भी हो जाती है कि वो कुछ नहीं खाएंगे या बहुत कम खाएंगे तो उनका वज़न कम हो जाएगा.
अक्सर लोगों को ये गलतफहमी भी हो जाती है कि अगर वो कुछ नहीं खाएंगे या बहुत कम खाएंगे, तो उनका वज़न कम हो जाएगा.

ज़्यादा कार्बोहाइड्रेट लेने से क्या होता है

दरअसल, ज़्यादा कार्बोहाइड्रेट लेने से शरीर में ग्लूकोज बनता है, जिससे बॉडी में फैट जमा होने लगता है. कीटो डाइट में कार्बोहाइड्रेट का सेवन कम करके फैट से ही एनर्जी प्रड्यूस की जाती है. इस प्रक्रिया को ‘कीटोसिस’ कहा जाता है. इसीलिए कीटो डाइट में फैट का सेवन ज़्यादा, प्रोटीन का मीडियम और कार्बोहाइड्रेट का सबसे कम सेवन किया जाता है.

कितने टाइम के लिए कीटो डाइट करना सही

ये सबसे ज़रूरी बात है कि आपको पता होना चाहिए कि आप कितने समय के लिए कौन-सी डाइट फॉलो कर रहे हैं. कीटो डाइट के बारे में साक्षी ने बताया-

आज के समय में लोग वज़न कम करने के लिए कीटो डाइट का इस्तेमाल करते हैं, जो असरदार भी होता है. मगर ये तब तक ही सही है, जब आप इसे ज़्यादा से ज़्यादा बस एक महीने फॉलो करें. इसका कारण ये है कि आपकी बॉडी में जो कीटोज़ बनते हैं, वो सब आपके लिवर में जमा होने लगते हैं. यही खतरे की बात हो जाती है. इससे लिवर फेलियर या किडनी फेलियर का खतरा बहुत ज़्यादा बढ़ जाता है.

एक महीने से ज़्यादा किया, तो क्या होगा

हमारी बॉडी में ग्लूकोज़ बहुत ज़रूरी होता है, जिसके सबसे अच्छे स्रोत कार्बोहाइड्रेट होते हैं. बॉडी के हर पार्ट को, यहां तक कि दिमाग को भी ग्लूकोज़ की जरूरत होती है. एनर्जी के लिए. अब जब सिर्फ कीटो डाइट में आप फैट लेंगे, कार्बोहाइड्रेट बहुत कम लेंगे, तो ग्लूकोज़ लेवल बहुत कम हो जाता है. लम्बे समय तक कीटो डाइट करने से ब्लड शुगर लेवल चेंज हो जाता है. बीपी लेवल बढ़ जाता है, ब्रेन सेल्स डी-जनरेट होने लग जाता है. इसलिए ये बहुत ज़रूरी है कि अगर आप कीटो डाइट करें, तो उसे एक महीने तक ही करें और किसी डाइटिशियन से पूछ कर ही करें.

क्या खाया जा सकता है

कीटो में अंडे, चिकन, मटन, मछली को अपनी डाइट में जगह दे सकते हैं. जो वेजिटेरियन हैं, वो पालक, मेथी या ब्रोकली और फूलगोभी को भी अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं. फैट के लिए पनीर, क्रीम और बटर को भी डाइट में शामिल कर सकते हैं.

कीटो डाइट चार्ट की बात करें तो वो कुछ इस तरह होता है. फोटो- सोशल मीडिया से ली गई है.
कीटो डाइट चार्ट की बात करें, तो वो कुछ इस तरह होता है. फोटो- सोशल मीडिया

क्या नहीं खाना

कीटो डाइट में चीनी, अनाज, सेब, केला और संतरा को डाइट चार्ट से बाहर निकाल दिया जाता है. सब्जियों में आलू और जिमीकंद का इस्तेमाल बिल्कुल न के बराबर का होता है. ये सभी चीजें कार्बोहाइड्रेट पैदा करती हैं.

खाएं नहीं, तो पतले हो जाएंगे

अक्सर लोगों के मन में ये भ्रम होता है कि वो खाना नहीं खाएं या सिर्फ लिक्विड डाइट पर रहें, तो वो पतले हो जाएंगे. डाइटिशियन साक्षी की मानें, तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. हम खाएं नहीं या लम्बे समय तक कुछ न खाएं (इंटीमिडेट फास्टिंग) तो पतले हो जाएंगे, ये जरूरी नहीं.

आज के समय में बॉडी की ये ज़रूरत होती है कि उसे हर दो या तीन घंटे पर कुछ न कुछ आहार मिलता रहे. ये फल या नट्स के रूप में भी हो सकते हैं. ये ज़रूरी है कि आप खुद को फिट रखें, मगर किसी और को देखकर जबरन पतले या स्लिम होना, फिगर मेंटेन करना सही नहीं. खासकर तब, जब आपकी बॉडी पर उसका गलत असर पड़े.

जिगर मुरादाबादी ने कहा है ना-

हम को मिटा सके, ये ज़माने में दम नहीं
हम से ज़माना ख़ुद है ज़माने से हम नहीं।

तो बस ज़माने को दिखाने के लिए खुद के अंदर बेतुका बदलाव करना सही नहीं. आपके हुनर और आत्मविश्वास की दुनिया कायल हो जाती है. बस आप जैसे हैं, खुद से वैसे ही प्यार करते रहिए.


वीडियो: सेहत: अगर मोतियाबिंद है, तो क्या इसका इलाज सिर्फ सर्जरी है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.