Submit your post

Follow Us

क्या बच्चों में कोरोना के अलावा एक और दुर्लभ रोग ने जगह बना ली है?

कोरोना. तोड़ तो निकला नहीं है, उस पर से ये वायरस अब रूप बदल रहा है. म्यूटेट कर रहा है. मतलब अपने इंफ़ेक्ट करने के तरीक़े और उससे उभरने वाले लक्षणों में भी बदलाव. और बच्चों में अब जो कोरोना के लक्षण मिलने शुरू हुए हैं, वो 60 साल पुरानी बीमारी ‘कावासाकी’ डिज़ीज के लक्षण हैं. डॉक्टर परेशान हैं. कन्फ़्यूज़ हैं कि बच्चे को कोरोना है या कावासाकी? इलाज का तरीक़ा खोजने में माथापच्ची करनी पड़ रही है. 

तो मामला क्या है? क्या है कावासाकी डिज़ीज? इसकी कहानी क्या है? लक्षण क्या हैं? और पूरा तामझाम. सब जानिए आसान भाषा में.

क्या है कावासाकी रोग और उसके लक्षण?

कावासाकी रोग अमूमन पांच साल से कम उम्र के बच्चों में पाया जाता है. साल 1961 में जापान के एक बच्चों के डॉक्टर टोमिसाकू कावासाकी ने चार साल के एक बच्चे में इसका पहला मामला पकड़ा. फिर उन्हें कुछ और केस मिले. तब से इस बीमारी का नाम डॉक्टर साहब के नाम पर पड़ गया. इसी साल 5 जून को डॉक्टर कावासाकी की 95 वर्ष की आयु में मृत्यु हो गयी. 

कावासाकी रोग किस वजह से होता है, इसका पता आज तक नहीं चल सका है. ये बीमारी शरीर में खून पहुंचाने वाली नसों को प्रभावित करती है. ऐसा वैज्ञानिक और डॉक्टर मानते हैं कि किसी इंफ़ेक्शन से लड़ने के लिए शरीर रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करता है. और इसके बाद ही शरीर में कावासाकी रोग जैसे लक्षण पैदा होते हैं. और वे लक्षण क्या होते हैं?

# तेज़ बुखार

# सीने, पैर और जननांगों के इलाक़े में चमड़ी का रूखा होना, छोटे-छोटे दाने आना या चकत्ते निकलना

# हथेलियों और तलवों का लाल होना और सूज जाना

# आंखें लाल होना

# गले में गिल्टियां निकलना

# गले में, मुंह में और होंठ पर खुजली होना

# जीभ का सुर्ख़ लाल होना

# और कुछ केसों में दिल की धमनियों में ग़ुब्बारे जैसी संरचना बन जाना, जिसे मेडिकल साइंस में ऐन्यरिज़म (Aneurysm) कहते हैं. 

क्या है नए लक्षणों वाला मामला?

अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम में बहुत सारे बच्चों के ऐसे मामले मिले, जो कोरोना पॉज़िटिव थे और उनमें कावासाकी रोग के कुछ लक्षण मिले थे. गहराई से जानने के लिए मुंबई का रुख करते हैं. यहां पर बच्चों में जो कोरोना के मामले आ रहे हैं, उनमें कावासाकी बीमारी जैसे सिम्प्टम हैं. ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की ख़बर की मानें, तो यहां के कोकिलाबेन धीरूभाई अम्बानी अस्पताल में 14 साल की एक लड़की का केस आया. लड़की को बुखार था और शरीर पर चकत्ते निकले हुए थे. टेस्ट हुआ. कोरोना पॉज़िटिव. लड़की की हालत गड़बड़ होने लगी. 26 जून को उसे ICU में शिफ़्ट कर दिया गया. आख़िरकार 4 जुलाई को उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी. बच्ची का इलाज करने वाली डॉक्टर तनु सिंघल ने बताया है कि लड़की को कावासाकी रोग के सिम्प्टम हैं. उन्होंने कहा,

“उसे कावासाकी के दूसरे लक्षण, जैसे लाल आंखें, लाल जीभ प्रेज़ेंट नहीं थे. लेकिन उस लड़की के दिल में सूजन ज़रूर मौजूद थी.”

लेकिन कनफ़्यूजन है. डॉक्टर ने ये भी बताया है कि इसके बाद इन्हीं लक्षणों से मिलते-जुलते दो और केस इसी अस्पताल में आए. लेकिन वो दोनों बच्चे कोरोना निगेटिव थे. इसके अलावा मुंबई के कुछ और अस्पतालों से ऐसी ही ख़बरें सामने आयीं. बाई जेरबाई वाडिया अस्पताल में चार बच्चे आए. चारों कोरोना निगेटिव. लेकिन उनमें कावासाकी रोग के सिम्प्टम मौजूद थे. डॉक्टर एंटीबॉडी टेस्ट से अभी इस बात की तस्दीक़ करने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या वे पहले कभी कोरोना पॉज़िटिव हुए थे? यानी कोरोना निगेटिव हो या पॉज़िटिव, कावासाकी के लक्षण सभी में मिल रहे हैं.

तो क्या भारत में कोरोना के साथ-साथ एक नया रोग भी आ गया है?

नहीं. ऐसा नहीं कह सकते हैं. क्योंकि कावासाकी रोग किस वजह से होता है, ये नहीं पता है. लेकिन जो लक्षण पैदा होते हैं, वो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता के तहत पैदा होते हैं. ऐसे में जिन बच्चों में कोरोना नहीं मिला है, लेकिन कावासाकी के लक्षण मिले हैं, तो ऐसा माना जा रहा है कि कोरोना के इंफ़ेक्शन से लड़ने के दौरान ये लक्षण मिले हैं. 

यूके के Royal College of Paediatricians and Child Health (RCPCH) ने कहा है कि मुमकिन है कि ये बच्चों में पाया जाने वाला मल्टीसिस्टम इन्फ़्लेमटॉरी सिंड्रोम (MIS) है. मतलब शरीर के भिन्न-भिन्न अंगों में दर्द रहता है, तकलीफ़ होती है. हो सकता है कि इस वजह से बच्चों में कावासाकी रोग के लक्षण पाए जा रहे हैं. उनका कोरोना पॉज़िटिव पाया जाना या न पाया जाना एक अलग बात है. साथ ही WHO ने भी कहा है कि सम्भव है कि जिनमें MIS पाया जा रहा है, वो पहले किसी कोरोना पॉज़िटिव व्यक्ति के सम्पर्क में आए होंगे. फिर भी पुष्टि करने के लिए मामले की जांच जारी है. 


लल्लनटॉप वीडियो : कोरोना की जांच के लिए रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट की जगह शुरू हुआ रैपिड एंटीजन टेस्ट कैसे काम करेगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

चीन और जापान जिस द्वीप के लिए भिड़ रहे हैं, उसकी पूरी कहानी

आइए जानते हैं कि मामला अभी क्यों बढ़ा है.

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.