Submit your post

Follow Us

ये इंटरिम डिविडेंड क्या होता है, जिसके नाम पर सरकार फिर RBI से पैसे मांग रही है?

हीरालाल एंड संस का होटल है. खूब चलता है. हीरालाल का मन हुआ कि होटल का बिजनेस और बढ़ाया जाए. इसके लिए उन्होंने तीन लोगों से कहा कि आप भी हमारे होटल में पैसा लगाइए. तीनों को भरोसा दिया कि बिजनेस में अगर प्रॉफिट हुआ तो आपको उसका भी एक हिस्सा दिया जाएगा. यही प्रॉफिट का हिस्सा बैंकिंग के टर्म में डिविडेंड कहलाता है. हिंदी में इसे लाभांश कहते हैं. लाभ का एक अंश.

केंद्र सरकार एक बार फिर रिज़र्व बैंक (RBI) के दरवाज़े पर है. 10 हज़ार करोड़ रुपए इंटरिम डिविडेंड या अंतरिम लाभांश के तौर पर मांगे हैं. बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बजट 2020 से पहले सरकार वित्तीय वर्ष 2019-20 में टैक्स वसूली के टारगेट से पीछे रह गई है. मतलब राजघोषीय घाटा बढ़ा हुआ है. हालांकि अभी RBI को इस पर मुहर लगानी है और 15 फरवरी को बैंक की सेंट्रल बोर्ड की बैठक में इस पर फैसला हो सकता है. बजट पेश होने के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सेंट्रल बोर्ड को संबोधित कर सकती हैं. ये लगातार तीसरा साल है जब राजकोषीय घाटे को पूरा करने के लिए सरकार ने इंटरिम डिविडेंड की मांग की है. वित्तीय वर्ष 2017-18 में RBI ने सरकार को 10 हज़ार करोड़ रुपए का इंटरिम डिविडेंड दिया. 2018-19 में 28,000 करोड़ और 2019-20 में 10 हज़ार करोड़ दिए गए.

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास. फोटो: India Today
RBI गवर्नर शक्तिकांत दास. फोटो: India Today

डिविडेंड और इंटरिम डिविडेंड

डिविडेंड का मतलब हीरालाल एंड संस के उदाहरण से समझा गया. बैंकिंग की भाषा में कहा जाए तो किसी कंपनी को अगर प्रॉफिट हुआ, उसका कुछ हिस्सा वो अपने शेयरहोल्डर्स के साथ शेयर करती है. इसे डिविडेंड कहते हैं.

यहां कंपनी जैसा काम RBI का है और शेयरहोल्डर के रूप में सरकार है.

लेकिन शेयरहोल्डर्स को डिविडेंड देना कंपनी के लिए अनिवार्य नहीं होता है. अगर कोई कंपनी डिविडेंड दे रही है तो गारंटी नहीं है कि आगे भी वो देगी ही. डिविडेंड देना है या नहीं कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स पर निर्भर करता है. इस मामले में भी फैसला RBI का सेंट्रल बोर्ड लेगा. लेकिन फिलहाल तीन सालों से बोर्ड पैसे दे देता है. इसे लेकर विवाद भी हुआ है.

कितना डिविडेंड देना है, ये कंपनी की सालाना मीटिंग में तय होता है. इसे फाइनल डिविडेंड कहते हैं. अगर कंपनी वित्तीय वर्ष के बीच में ही डिविडेंड दे तो उसे इंटरिम डिविडेंड या अंतरिम लाभांश कहा जाता है. इंटरिम डिविडेंड तब दिया जाता है, जब कंपनी किसी वित्तीय वर्ष की पहली छमाही में प्रॉफिट कमाती है.

सरकार अभी RBI से इंटरिम डिविडेंड क्यों मांग रही है?

RBI जुलाई से जून का वित्तीय वर्ष फॉलो करता है जबकि सरकार अप्रैल से मार्च का. दिसंबर में RBI की छमाही होती है. RBI की तरफ से छह महीने पर सरकार को इंटरिम डिविडेंड देने की शुरुआत वित्तीय वर्ष 2017-18 में हुई.

सरकार ने बैंक से इंटरिम डिवडेंड अपना राजघोषीय घाटा पूरा करने के लिए मांगना शुरू किया. फरवरी में बजट पेश होने के बाद सरकार की फाइनल बैलेंस शीट अगस्त तक तैयार होती है. तब तक इस पैसे से घाटा पूरा किया जाता है. इस स्थिति से निपटने के लिए RBI के पूर्व गवर्नर बिमल जालान ने सुझाव दिया था कि सरकार और RBI का वित्तीय वर्ष एक ही कर दिया जाए.


ऑक्सफैम रिपोर्ट 2020: महिलाओं की नौकरी के मामले में भारत नीचे से 10वें नंबर पर है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?