Submit your post

Follow Us

फतवा, फतवा... आखिर ये फतवा क्या है?

तू फतवा फतवा करती है, फतवे से क्यों डरती है. गाने की लाइन क्यों जोड़ दी, ये सोचके भावनाएं आहत न करना. ये महज़ तुकबंदी है. मीडिया से सवाल है. सवाल इसलिए है कि इधर मौलवी ने कुछ कहा, उधर फतवा बदनाम हो गया. हद ये हो गई है कि मौलवी साहब ने जंभाई लेना चाही. मीडिया ने समझा फतवा आ गया. और इस चक्कर में फ़ोकट में मौलवी साहब बदनामी तो छोड़िए मशहूर हो गए और दुकान चल पड़ी.

फतवे को लेकर इतना शोर मचा दिया जाता है. जैसे वो फतवा नहीं बल्कि कोई तुगलकी फरमान आ गया है. अब वो सारे अधिकार छीन लेगा. वो सांस नहीं लेने देगा. वो सिर कलम कर देगा. ये शोर मचाने का नतीजा है. ये नासमझी का नतीजा है. इस हल्ले गुल्ले में फतवे का मतलब गायब हो जाता है. जिस तरह से असम की सिंगर नाहिद आफरीन के साथ हुआ. मतलब मौलवी लोगों ने लेटर में लिखकर भेजा कुछ और हल्ला मच गया कि फतवा जारी कर दिया गया. पहले ये जान लेना ज़रूरी है ये फतवा क्या है?

फतवा अरबी का लफ्ज़ है. जिसका मतलब होता है मुस्लिम लॉ के मुताबिक किसी निर्णय पर नोटिफिकेशन जारी करना. ओह थोड़ा मुश्किल हो गया. इसको ऐसे समझिए फतवा यानी राय, जो किसी को तब दी जाती है जब कोई अपना निजी मसला लेकर मुफ़्ती साहब के पास पहुंचे. और कहे मुफ़्ती साहब मेरे साथ ऐसा ऐसा है. इस सिचुएशन में बताइए इस्लाम के मुताबिक मुझे क्या करना चाहिए. अब मुफ़्ती साहब या तो इस्लामिक इतिहास खंगालेंगे कि अगर ऐसी सिचुएशन मोहम्मद साहब या किसी खलीफा, या इमाम या फिर आलिमे दीन के सामने आई तो उन्होंने क्या प्रावधान दिया. क्या सुझाव दिया. अगर कोई उदाहरण मिल जाता है तो वो बता देंगे. या फिर कुरान में कुछ ऐसा है तो वो बता दिया जाएगा. और अगर ऐसी सिचुएशन कहीं नहीं मिली तो फिर शरिया क़ानून को पढ़कर समझकर मुफ़्ती साहब अपनी राय दे देंगे. और ये ही जो अपनी तरफ से राय कायम करने वाला पॉइंट है ये ही थोड़ा गड़बड़ा जाता है. जिसकी वजह से कुछ ज्यादा हो हल्ला मच जाता है. लेकिन इसका मतलब ये कतई नहीं कि ये मैंने राय दे दी है और अब इसको माना ही जाएगा.

ये महज़ राय है. जिसको मानना या न मानना उसके हाथ में है जो फतवे के लिए मौलवी साहब के पास गया था. पैगंबर मुहम्मद साहब ने अपनी राय दीं, लेकिन कहीं ऐसा नहीं मिलता कि उन्होंने अपनी राय को मानने के लिए किसी पर दबाव डाला हो. ज़ोर ज़बरदस्ती दिखाई हो. बल्कि इन मुफ़्ती साहब की किताबों में ही ये मिलता है कि मुहम्मद साहब इस्लाम की पैरोकारी करते गए. और लोग उनकी शख्सियत से प्रभावित होकर मुसलमान बनते गए.

फतवा, कोई कानून नहीं है. जिससे डरना चाहिए. फतवा एक राय है उसको वैसे ही देखना चाहिए. और कोई भी फतवा नहीं दे सकता. जब तक उसे इस्लाम की पूरी जानकारी नहीं है. फतवा देने के लिए एक अथॉरिटी होती है जो पूरी तरह सोच विचार करती है.

ज्यादातर फतवों में परिस्थिति और संदर्भ ही जुड़ा होता है. ऐसे में ये फतवे सब पर लागू नहीं हो सकते. फतवा किसी सवाल का जवाब होता है. और जब सवाल ही न हो तो फतवा कहां से आएगा. और अगर कोई अपनी राय ज़ाहिर कर रहा है तो इसका मतलब ये नहीं है कि वैसा करना अब अनिवार्य है. राय है. उस राय को कोई दूसरा मौलवी अपने फतवे में इस्लामिक तर्क से नकार सकता है. हां जो शरिया कानून में उसे फॉलो करना होता है. लेकिन ये भी समाज विशेष की परिस्थितियों पर निर्भर करता है कि किस तरह उसका पालन करना है.

हां अगर फतवा या राय को ज़बरदस्ती लागू कराया जाता है. वो गलत है. क्योंकि इस्लाम जोर ज़बरदस्ती की इजाज़त खुद ही नहीं देता. ये फतवे का समर्थन करने वालों को भी समझ लेना चाहिए. जो ये समझ बैठते हैं कि मौलवी साहब ने कहा है तो मानना ही पड़ेगा. और हम उसे मनवाकर रहेंगे.

मीडिया को भी ये ऐसे ही समझना चाहिए जैसे पैनल डिस्कशन में बैठे नेताओं की राय अलग-अलग होती है. मानना या न मानना एंकर के विवेक की बात है. मेरी भी अपनी राय है मेरे तर्कों के हिसाब से. आपकी भी होगी. न आप मुझपर थोप सकते हैं और न ही मैं आप पर. सिर्फ राय है जो दी जा सकती है. मानना न मानना एक दूसरे के हाथ में. और अगर मनवाने की जोर जबरी होती है तो वो अधिकारों का उल्लंघन है.


 

ये भी पढ़िए :

इस लड़की के गाने पर 46 मौलानाओं को ऐतराज़ क्यों?

मुसलमान लड़की ने हिंदू भजन गाया, लोगों को मिर्ची लग गई

‘मुस्लिम बहुल’ देवबंद में भाजपा की जीत का सच!

“इन्हीं आंखों से जहन्नुम देखा है, खुदा वो वक़्त फिर कभी न दिखाएं”

अपने फेवरेट गानों को स्टूडियो में रिकॉर्ड होते देखो, बमबम हो जाओगे

NU छात्र की मौत पर विरोध लाज़मी है, लेकिन तथ्यों पर तो हो!

श्रेया घोषाल के जन्मदिन पर सुनिए नशा भर देने वाले गाने

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.