Submit your post

Follow Us

सुना था कि सायनाइड का टेस्ट किसी को नहीं पता, हम बताते हैं न!

15.27 K
शेयर्स

# लिटरेचर

वो कहानियां जो बचपन से सुनते आए हैं

कहानी # 1 –

सायनाइड इतना खतरनाक ज़हर है कि इसका टेस्ट किसी को पता नहीं चलता. क्यूंकि टेस्ट को बताने से पहले से ही बताने वाले की मृत्यु हो जाती है.

कहानी # 2 –

एक बंदे ने सायनाइड का टेस्ट पूरी दुनिया को बताने के लिए अपनी जान की कुर्बानी देने की सोची. पेन कॉपी लेकर बैठ गया. एक हाथ में पेन दूसरे में सायनाइड. एक हाथ से सायनाइड मुंह में डाला दूसरे से लिखना शुरू किया – S…

बस अंग्रेजीं का अक्षर एस(s) ही लिख पाया और मर गया. अब अंग्रेजी के एस अक्षर से कितने ही टेस्ट आते हैं –

Sweet – मीठा
Sour – खट्टा
Salt – नमकीन

तो आज तक पता नहीं चल पाया कि सायनाइड का टेस्ट कैसा है. बस यही पता चल पाया कि सायनाइड का टेस्ट अंग्रेजी के एस(s) अक्षर से शुरू होता है.


# जर्नलिज्म

कहानियों का सच

आपने भी कभी न कभी बचपन में या बड़े होकर ये दो कहानियां सुनी ही होंगी. लेकिन क्या ये सच हैं?

देखिए यदि मुझसे निजी तौर पर कहा जाए तो मुझे लगता है कि ये कहानियां अक्षरशः झूठ हैं. जो भी हो, लेकिन ये शायद हमारे बचपन का सबसे उलझा और रहस्यमयी सवाल था. हमने इस सवाल का उत्तर ढूंढने की कोशिश की है जो आपके साथ शेयर करते हैं.


# केमिस्ट्री

साइनाइड क्या है

‘साइनाइड’ को एक अम्ब्रेला टर्म कहा जा सकता है. अंब्रेला टर्म मतलब ‘साइनाइड’ उन पदार्थों का ग्रुप है जिनमें कार्बन-नाइट्रोजन (सीएन) बॉन्ड होता है.

जिस तरह सभी सांप लीथल या घातक नहीं होते, वैसे ही सभी तरह के साइनाइड भी ज़हर नहीं होते.

सोडियम साइनाइड (NaCN), पोटेशियम साइनाइड (KCN), हाइड्रोजन साइनाइड (HCN), और साइनोजेन क्लोराइड (CNCl) घातक हैं, लेकिन नाइट्राईल्स नाम के ढेरों यौगिक साइनाइड होते हुए भी ज़हर नहीं होते. बल्कि कई नाइट्राईल्स तो दवाइयों में यूज़ होते हैं. नाइट्राईल्स के खतरनाक न होने का कारण केमिस्ट्री में छुपा हुआ है, लेकिन अभी हमें केमिस्ट्री नहीं सालों, इन फैक्ट सदियों, से चली आ रही मिस्ट्री को सॉल्व करना है.


# बायोलॉजी

नाइट्राईल्स को छोड़कर बाकी साइनाइड जहर क्यूं होते हैं

दरअसल साइनाइड, हमारे शरीर की कोशिकाओं और ऑक्सीजन के बीच दीवार का काम करता है. और हमारे शरीर की कोशिकाओं को ऑक्सीजन नहीं मिलेगी तो कोशिकाएं ज़्यादा देर तक जीवित नहीं रह पाएंगी. और कोशिकाएं, जिनसे मिलकर हमारा शरीर बना है, जीवित नहीं रहीं तो शरीर भी मृत.

अगर साइनाइड अपने प्योरेस्ट फॉर्म में अंदर ले लिया जाए तो सेकेंडों में व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है. मिर्गी के दौरे, कार्डिएक अरेस्ट, कोमा वगैरह के बाद, के साथ या उस सबसे पहले ही. और अगर इसकी कम मात्रा ली जाए या प्योर फॉर्म के बजाय किसी में डायल्यूट होकर आए बेहोशी, कमजोरी, चक्कर आना, सिरदर्द, भ्रम की स्थिति और सांस लेने में कठिनाई हो सकती है.

अब कम मात्रा, अधिक मात्रा एबस्ट्रेक्ट टर्म हैं, इसलिए स्पेसिफिकली बात करें तो 0.5–1 mg प्रति लीटर माइल्ड, 1–2 प्रति लीटर मोडरेट, 2–3 mg प्रति लीटर गंभीर और 3 mg प्रति लीटर से अधिक सायनाइड जानलेवा साबित होता है.

यानी ये बात कि जीभ से साइनाइड का संपर्क होते ही मृत्यु हो जाती है बेशक ग़लत है लेकिन यदि एक लिमिट से अधिक और अपने प्योर फॉर्म में ये ली जाए तो, जैसा कि ऊपर कहा, बस चंद सेकेंड लगते हैं, ‘है’ से ‘था’ होने में.


#मैथ्स

डेटा क्या कहता है

पहले तो हमें ये समझना होगा कि साइनाइड किसी की हत्या करने के लिए या आत्महत्या के कम यूज़ किया जाता है. एक रिपोर्ट के अनुसार 2013 में पूरी दुनिया में केवल आठ लोगों का मर्डर सायनायड के थ्रू हुआ था.

लेकिन फिर भी उस वर्ष कुल तीन सौ लोग सायनायड से मर गए थे. क्यूं? क्यूंकि हमारी रोजमर्रा की इस्तेमाल की जाने वाली चीज़ों में, खाने पीने वाली चीज़ों में भी सायनायड होता है और हम एक्सीडेंटली उसका सेवन कर लेते हैं या सांसों के माध्यम से उसे इन्हेल कर लेते हैं. सेब के बीज में सायनायड होता है, ये तो उन सभी को पता होगा जिन्होंने श्रीदेवी की मूवी मॉम देखी होगी.

श्रीदेवी की मूवी 'मॉम' का एक सीन
श्रीदेवी की मूवी ‘मॉम’ का एक सीन

फिर भी हम सेब के बीजों से नहीं मरते क्यूंकि यदि गलती से हम बीजों को निगल भी लें तो भी बीजों की बाहरी लेयर इतनी ठोस होती है कि अंदर का सायनाइड बाहर नहीं आ पाता. पाचन क्रिया के दौरान भी पूरा बीज हमें बिना नुकसान पहुंचाए मल के साथ बाहर आ जाता है और हम बच जाते हैं. कई और भी चीज़ें हैं जिसमें थोड़ा बहुत सायनायड पाया ही जाता है और कभी-कभी जानलेवा साबित हो जाता है. कुछ चीज़ें जिनके नाम अभी याद आ रहे हैं – बादाम, प्लास्टिक या कोयले का जलना, सेब के बीज, सिगरेट, दूषित पीने का पानी, भोजन, पेस्टेसाइड आदि.


# हिस्ट्री

कैसे और कब से यूज़ किया जाता रहा है साइनाइड

साइनाइड का यूज़ तबसे हो रहा है जब पता भी नहीं था कि ये ‘ज़हर’ साइनाइड है. और ज़हर का इस्तेमाल तो आज से साढ़े छः हज़ार वर्षों पूर्व से होता आ रहा है. जब हम ‘साढ़े छः हज़ार’ साल की बात कर रहे हैं तो हम उस ज़हर की बात कर रहे हैं जो एक व्यक्ति दूसरे को जानबूझकर खिलाता है या आत्महत्या करने के लिए खुद खाता है. वरना ज़हर प्रकृति में तो पहले से ही विद्यमान था, और मानव सभ्यता शुरू होने के साथ ही, अंजाने में ज़हर खा या सूंघ लेने से मृत्यु होती रही होंगी. भारत में ‘ज़हर’ शब्द का इस्तेमाल चाणक्य ने 350 इसवी पूर्व ही अपने लेखों में कर लिया था. लेकिन उससे पहले सुश्रुत (भारत के एक प्रसिद्ध वैदिक चिकित्सक जिन्हें शल्य चिकित्सा का जनक भी कहा जाता है) ने लगभग 600 ईस्वी पूर्व ‘धीमे ज़हर’ और ‘धीमे ज़हर’ को बनाने और प्रयोगों की पूरी प्रोसेस समझा दी थी.

साइनाइड की स्पेसिफिकली बात करें तो नाज़ियों के कंसंट्रेशन कैंप में इसी (हाइड्रोजन साइनाइड) का इस्तेमाल मास-मर्डर के लिए किया जाता था – गैस चैंबर में. इसका व्यवसायिक नाम था – ज़ायक्लोन – बी.

Nazi Camps
कंसन्ट्रेशन कैंप में ज़ायक्लोन – बी यानि सायनाइड के गैस चैंबर में मारे गए लोगों की हड्डियों का ढेर

अभी-अभी रूस पर एक डबल एजेंट की हत्या का आरोप लगा है. उसमें साइनाइड का यूज़ तो नहीं किया गया, लेकिन हम रूस की बात इसलिए बता रहे हैं क्यूंकि अतीत में रूस साइनाइड का इस्तेमाल हत्याओं और बहुतायत से करता आया है. बाकी हादसों वगैरह में तो साइनाइड लोगों की मृत्यु का कारण बनती ही है – जैसे कहीं आग लग जाए, कोई ग़लती से दूषित चीज़ खा/पी ले, आदि.

साथ ही कई आतंकवादी संगठन, जैसे ‘लिट्टे (एलटीटीई)’ आदि अपने गले में सायनाइड से भरा हुआ लॉकेट बांध के रखते थे ताकि पकड़े जाने की स्थिति में वो उसे खाकर तुरंत मृत्यु का प्राप्त हो सकें.


# आउट ऑफ़ सिलेबस

कैसा होता है साइनाइड का टेस्ट

अगर हमने अभी तक के लेख को ध्यान से पढ़ा होगा तो हमें थोड़ा बहुत हिंट मिल गया होगा कि साइनाइड का स्वाद कैसा होता है. साइनाइड का स्वाद कड़वा या मैटलिक होता है.

हमने पहले कहा था कि बादाम में कम मात्रा में साइनाइड होता है. अब आपको ये तो पता ही होगा कि बादाम का स्वाद हल्का कड़वाहट लिया होता है और कुछ बादाम ज़्यादा कड़वे होते हैं. सेब के बीज भी कड़वे होते हैं.

बादाम में भी अल्प मात्रा में सायनाइड होता है.
बादाम में भी अल्प मात्रा में सायनाइड होता है.

एक बात और. ऊपर जो कहानियां बताई गईं थीं उसमें से दूसरी कहानी कुछ हद तक सही है. ऑस्ट्रेलिया के एक प्रतिष्ठित न्यूज़ पोर्टल संडे मॉर्निंग हेराल्ड के अनुसार 2006 में एक भारतीय ने सुसाइड करने के लिए साइनाइड खा लिया था. उसे बचाया तो नहीं जा सका लेकिन उसने अपने सुसाइड नोट में लिखा था –

‘पोटेशियम साइनाइड. मैंने इसे टेस्ट किया है. ये जीभ जला देता है और इसका स्वाद कड़वा होता है.’


ये भी पढ़ें:

स्टीफन हॉकिंग नहीं रहे – मतलब मैंने जीते जी एक ब्लैक होल बनते देख लिया

ये बीमारी कोई 3 साल नहीं झेल सकता स्टीफन 52 साल झेल ले गए

स्टीफन हॉकिंग की मौत की तारीख से जुड़े संयोग पर विश्वास नहीं होता!

स्टीफन हॉकिंग नहीं रहे, ये वक्त उनकी चेतावनी याद करने का है


वीडियो देखें:

Stephen Hawking ने वो वक्त बताया था, जब धरती पर हम सब मर जायेंगे:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
What is Cyanide and how it tastes?

कौन हो तुम

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान और टॉलरेंस लेवल

अनुपम खेर को ट्विटर और व्हाट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो.

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

आजादी का फायदा उठाओ, रिपब्लिक इंडिया के बारे में बताओ

रिपब्लिक डे से लेकर 15 अगस्त तक. कई सवाल हैं, क्या आपको जवाब मालूम हैं? आइए, दीजिए जरा..

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला के बारे में 9 सवाल

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.