Submit your post

Follow Us

दिल्ली में नागरिक से मारपीट करने वाले सिविल डिफेंस वॉलेंटियर्स का काम क्या है?

दिल्ली में कोविड-19 की एक और लहर को कंट्रोल करने की कोशिश की जा रही है. इस दौरान एक घटना देखने को मिली. बीती 5 अप्रैल को दिल्ली के हौजखास इलाके में मास्क पहनने को लेकर एक सिविल डिफेंस वॉलेंटियर और एक राहगीर आपस में भिड़ गए. बात बढ़ गई तो वॉलेंटियर ने राहगीर पर बेल्ट से वार कर दिया. ये देख आसपास के लोग राहगीर के समर्थन में आ गए. फिर उन्होंने भी वॉलेंटियर्स के साथ मारपीट की. सोशल मीडिया पर घटना के दो वीडियो वायरल हो गए. आप भी देखें.

कइयों ने इस घटना के दोनों पक्षों की निंदा की तो कुछ लोगों ने ये सवाल किया कि आखिर ये सिविल डिफेंस वॉलेंटियर कौन होते हैं? इनका काम क्या होता है? वगैरा-वगैरा. तो चलिए हम आपको बताते हैं.

क्या है सिविल डिफेंस?

भारत में सिविल डिफेंस यानी नागरिक सुरक्षा की शुरुआत साल 1962 में हुई थी. ये भारत-चीन युद्ध का समय था. युद्ध के दौरान देशी की आंतरिक व्यवस्था में कोई परेशानी पैदा ना हो, इसके लिए सिविल डिफेंस की स्थापना की गई थी. आगे चलकर मई 1968 में The Civil Defence Act, 1968 (Act 27 of 1968) लागू किया गया था.

सिविल डिफेंस का उद्देश्य है देश के लोगों की सुरक्षा करना. भारतीय फौज बाहरी खतरों से देश को बचाती है. पुलिस कानून-व्यवस्था के तहत नागरिकों की रक्षा करती है. वहीं, सिविल डिफेंस का काम है लोगों की जान बचाना. संपत्ति के नुकसान को रोकना. और जनता का मनोबल ऊंचा रखना.

Volunteer
ड्यूटी पर दिल्ली का एक सिविल डिफेंस वॉलंटियर. (तस्वीर- पीटीआई)

क्या करते हैं वॉलेंटियर्स?

सिविल डिफेंस वॉलेंटियर्स कई तरह के काम करते हैं. इनमें से कुछ हैं-

#सफाई अभियानों में हिस्सा लेना
#पल्स पोलियो अभियान में हिस्सा लेना
#प्रदूषण मुक्ति अभियान चलाना
#आग लगने के दौरान बचाव कार्य में मदद करना
#रक्तदान शिविरों का आयोजन करना
#गम्भीर दुर्घटनाओं/आपदाओं में मदद करना
#अन्य स्थानीय मामलों में किसी प्रकार की भूमिका निभाना

दिल्ली की बात करें तो यहां सिविल डिफेंस वॉलेंटियर बसों में महिला सुरक्षा के लिए मार्शल के रूप में भी काम करते हैं. पहले इस काम के लिए वॉलेंटियर्स को केवल भत्ते आदि दिए जाते थे. लेकिन अब दिल्ली सरकार ने इन लोगों को पैसे देने भी शुरू कर दिए हैं. अब जिस दिन वॉलेंटियर की ड्यूटी लगाई जाती है, उस दिन के उसे 723 रुपये दिए जाते हैं. साथ ही, दैनिक भत्ते के रूप में 40 रुपये रोजाना दिए जाते हैं.

कैसे बनते हैं सिविल डिफेंस वॉलेंटियर?

इसके लिए पहली शर्त ये है कि आवेदन करने वाला भारत का नागरिक हो. इसके अलावा नेपाली और भूटानी मूल के नागरिक भी सिविल डिफेंस वॉलेंटियर बन सकते हैं. वॉलेंटियर बनने के लिए आवेदक की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए. महिला या पुरुष कोई भी वॉलेंटियर बन सकता है. साथ ही ये शर्त भी है कि आवेदन करने वाले ने प्राइमरी तक की पढ़ाई की हो. इसके अलावा,

#आवेदक का शारीरिक और मानसिक रूप से फिट होना जरूरी है.
#वो जहां नौकरी करता हो वहां से NOC लेनी जरूरी है.

किन डॉक्यूमेंट्स की जरूरत होती है?

– आइडेंटिटी प्रूफ
– वर्तमान और स्थायी एड्रेस प्रूफ
– डेट ऑफ बर्थ प्रूफ
– एजुकेशनल सर्टिफिकेट
– पासपोर्ट साइज फोटो

वॉलेंटियर्स को ट्रेनिंग भी दी जाती है. इनको ट्रेनिंग और लीड करने वाले स्टाफ को सैलरी व अन्य भत्ते आदि दिए जाते हैं. ये डिप्टी कंट्रोलर्स, मेडिकल ऑफिसर्स और सीडी कंट्रोलर्स फुल टाइम नौकरी पर होते हैं. देश के हर जिले में सिविल डिफेंस मौजूद है और कई प्रकार के आदेशों को लागू करने में शासन-प्रशासन की मदद करता है. देशभर में 5 लाख 38 हजार वॉलेंटियर्स हैं. अकेले दिल्ली में ही 55 हजार से अधिक सिविल डिफेंस वॉलेंटियर काम कर रहे हैं.

सिविल डिफेंस वॉलंटियर्स क्या कर सकते हैं और क्या नहीं, इसे लेकर स्पष्ट गाइडलाइंस नहीं हैं. उनकी वर्दी को लेकर पहले भी सवाल उठते रहे हैं. इस मामले में ताजा खबर ये है कि बीजेपी ने दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल से मांग की है कि राजधानी में तैनात वॉलेंटियर्स की वर्दी का रंग बदला जाए, जो देखने में पुलिस यूनिफॉर्म जैसी लगती है. पार्टी का कहना है कि इसका फायदा उठाकर कई सिविल डिफेंस वॉलेंटियर्स लोगों को प्रताड़ित करते हैं. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, बीजेपी ने एलजी से कहा है कि कोविड-19 की रोकथाम से जुड़ी सावधानियां लागू करने के नाम पर इन वॉलेंटियर्स द्वारा लोगों को परेशान किया जा रहा है. पार्टी के इस कदम को 5 अप्रैल की घटना से जोड़कर देखा जा रहा है.


वीडियो- वैक्सीन लगवाने बाद भी लोग कोरोना पॉजिटिव क्यों हो रहे हैं, पता चल गया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान.

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

'इंडियन आइडल' से लेकर 'बिग बॉस' तक सोलह साल हो गए लेकिन किस्मत नहीं बदली.

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

कितने नंबर आए बताते जाइएगा.

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.