Submit your post

Follow Us

क्या है चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, जिसका जिक्र पीएम मोदी ने अपने भाषण में किया?

आर्मी, नेवी और एयरफोर्स. यानी की थल सेना, जल सेना और वायु सेना. देश की रक्षा के लिए सरहदों पर तैनात देश की तीन सेनाएं. और तीनों सेनाओं का होता है एक-एक मुखिया. थल सेना के लिए थल सेनाध्यक्ष, नेवी के लिए नौसेना अध्यक्ष और एयरफोर्स के लिए वायुसेना अध्यक्ष. और इन तीनों के ऊपर एक और शक्ति होती है, जो सबको नियंत्रित करती है. और वो शक्ति होती है देश के राष्ट्रपति के पास.

देश में तमाम लोग सेना और अर्धसैनिक बलों को एक ही समझ लेते हैं. फाइल फोटो. इंडिया टुडे.
देश की तीनों सेनाओं के मुखिया होते हैं देश के राष्ट्रपति.

लेकिन 15 अगस्त, 2019 को जब प्रधानमंत्री मोदी ने लाल किले से 92 मिनट लंबा अपना भाषण दिया, तो उसमें सेना के लिए एक और पोस्ट का जिक्र था. चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ. और इस जिक्र के बाद ही चर्चा होने लगी कि क्या प्रधानमंत्री मोदी राष्ट्रपति के हाथ में निहित सेना की शक्ति को कमजोर करने वाले हैं. लेकिन ऐसा नहीं है. चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की मांग देश में करीब 20 साल पुरानी है. और इसकी शुरुआत होती है करगिल युद्ध के दौरान पैदा हुए हालात से.

1999 में जब भारत-पाकिस्तान का युद्ध हुआ तो उसमें पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी थी. लेकिन करीब 65 दिनों तक चली इस लड़ाई में भारत का भी अच्छा खासा नुकसान हुआ था. लडाई खत्म हुई तो साल 2001 में इस लड़ाई की समीक्षा करने के लिए उस वक्त के देश के उपप्रधानमंत्री और गृहमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी की अध्यक्षता में मंत्रियों का एक समूह गठित किया गया. समीक्षा के दौरान मंत्रियों के समूह ने पाया कि लड़ाई के दौरान तीनों सेनाओं के बीच तालमेल की कमी थी. और इसी वजह से लड़ाई में इतना नुकसान हुआ. अगर तीनों सेनाएं वक्त पर एक दूसरे के साथ आ गई होतीं, तो देश को इतना नुकसान नहीं उठाना पड़ता. और इसी को देखते हुए मंत्रियों के समूह ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बनाने का सुझाव दिया.

New Delhi: Prime Minister Narendra Modi interacts with school children during the 73rd Independence Day function at the historic Red Fort, in New Delhi, Thursday, Aug 15, 2019. (PTI Photo/Shahbaz Khan) (PTI8_15_2019_000031B)
चीफ ऑफ डिफेंस की घोषणा पीएम मोदी ने लाल किले पर अपने भाषण के दौरान की.

लेकिन सेना के अधिकारियों ने ही इसपर आपत्ति जता दी. इसके बाद साल 2012 में नरेश चंद्र टास्क फोर्स बनीस जिसने चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेटी बनाने का सुझाव दिया था. इसका काम था तीनों सेनाओं के बीच तालमेल कायम करना. इस स्टाफ कमेटी में थल सेना, जल सेना और वायु सेना के मुखिया शामिल होते हैं. इन तीनों में जो भी सीनियर होता है, उसे चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी का चेयरमैन बनाया जाता है. फिलहाल एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी के चेयमैन हैं. लेकिन चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेटी के पास कोई पावर नहीं होती है. और इसीलिए अब पोस्ट को स्थाई करने और उन्हें पावर देने की बात की जा रही है. और इसी का जिक्र 15 अगस्त, 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में किया है.

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का काम क्या होगा?

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का काम होगा तीनों सेनाओं के बीच समन्वय कायम करना.
चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का काम होगा तीनों सेनाओं के बीच समन्वय कायम करना.

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का काम होगा केंद्र सरकार को सुझाव देना. चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ तीनों सेनाओं के मुखिया से बात करके प्रधानमंत्री को सलाह दे सकेगा. एक तरह से ये चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ राष्ट्रपति के नीचे रहकर तीनों सेनाओं का संचालन कर सकेगा. पूर्व थल सेनाध्यक्ष जनरल एनसी विज ने भी साल 2016 में कहा था कि एक ऐसी पोस्ट होनी चाहिए, जो राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर तीनों सेनाओं की बात को सरकार तक पहुंचा सके.


इमरान ने स्पीच में बालाकोट का ज़िक्र किया, भारत की तरफ से हमले का डर सामने आया|दी लल्लनटॉप शो|Episode 280

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.