Submit your post

Follow Us

यह अटल पेंशन योजना क्या है, जिसमें सरकार ने धांसू बदलाव किया है?

श्रीमती कार्लेकर
अपनी पहली पेंशन लेकर
जब घर लौटीं-
सारी निलंबित इच्छाएं
अपना दावा पेश करने लगीं.

जहां जो भी टोकरी उठाई
उसके नीचे छोटी चुहियों-सी
दबी पड़ी दिख गईं कितनी इच्छाएं!

श्रीमती कार्लेकर उलझन में पड़ीं
क्या-क्या खरीदें, किससे कैसे निबटें!
सूझा नहीं कुछ तो झाड़न उठाई
झाड़ आईं सब टोकरियां बाहर
चूहेदानी में इच्छाएं फंसाईं
(हुलर-मुलर सारी इच्छाएं)

और कहा कार्लेकर साहब से- ‘चलो जरा, गंगा नहा आएं!’

यह कविता अनामिका ने लिखी हैं. आप सोच रहे होंगे आज पेंशन की कविता किसलिए? क्योंकि सरकार की एक पेंशन योजना है. नाम है- अटल पेंशन योजना. इसमें सरकार ने एक बड़ा बदलाव किया है. इसके तहत जिसका भी अटल पेंशन योजना में खाता है, वह साल में कभी भी अपने प्रीमियम यानी किस्त की रकम घटा या बढ़ा सकता है. अभी तक यह बदलाव केवल अप्रैल महीने में ही किया जा सकता था. लेकिन 1 जुलाई 2020 से सरकार ने ढील दे दी. और अब से किसी भी महीने में किस्त की रकम में बदलाव किया जा सकता है. लेकिन ध्यान रहे किस्त में बदलाव साल में एक ही बार होगा. बार-बार नहीं बदल पाएंगे. एक बार बदलाव किया तो फिर अगले साल का इंतजार करना होगा. यह तो था योजना के बारे में अभी की जानकारी. अब जानते हैं कि अटल पेंशन योजना है क्या?

क्या है अटल पेंशन योजना

दरअसल, 60 साल की उम्र के बाद आदमी ज्यादा काम नहीं कर पाता है. ऐसे में सरकारें पेंशन देती हैं, जिससे कि आम जरूरत का काम हो जाए. सरकारी कर्मचारियों या लिमिटेड प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले लोगों को पेंशन के लिए कई योजनाएं हैं. जैसे प्रोविडेंट फंड, नेशनल पेंशन स्कीम आदि. लेकिन असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों, जैसे घरेलू कामकाज करने वाले, दिहाड़ी मजदूर, रेहड़ी-खोपचे लगाने वाले, छोटे कारखानों में काम करने वालों के लिए कोई पेंशन योजना नहीं थी. इनके लिए अटल पेंशन योजना लाई गई. यह योजना 1 मई 2015 से शुरू की गई. अभी तक इससे 2.28 करोड़ लोग जुड़ चुके हैं.

कौन शामिल हो सकता है

यह योजना 18 साल से 40 साल के लोगों के लिए है. जो लोग इनकम टैक्स स्लैब से बाहर है यानी जिन लोगों की सैलरी पर कोई टैक्स नही जाता, वे इससे जुड़ सकते हैं. इनकम टैक्स के दायरे में आने वाले, सरकारी कर्मचारी, EPF खाताधारक अटल पेंशन योजना में शामिल नहीं हो सकते.

क्या है इस योजना में

#कम से कम 20 साल तक पैसा जमा कराना जरूरी है. 42 रुपये इसकी सबसे छोटी किस्त है. जितना पैसा आप डालेंगे उतना ही सरकार भी इसमें जमा करेगी.

#60 साल की उम्र होने पर पेंशन मिलनी शुरू होती है.

#अटल पेंशन योजना के तहत कम से कम 1,000 रुपये और अधिकतम 5,000 रुपये मासिक पेंशन मिल सकती है. पेंशन की रकम जमा की गई किस्तों और आपकी उम्र पर निर्भर करती है. जितनी जल्दी जुड़ेंगे उतना अधिक फायदा मिलेगा. इसे ऐसे समझिए-

सुरेश 18 साल के हैं. वे पान की दुकान लगाते हैं. उन्हें अटल पेंशन योजना का पता चला. अब अगर वे चाहते हैं कि 60 साल की उम्र में उन्हें हर महीने 1000 रुपये मिले तो, उन्हें 42 रुपये हर महीने जमा कराने होंगे. यह रकम 42 साल तक जमा होगी. लेकिन अगर वे 210 रुपये जमा कराएंगे तो उन्हें 60 साल की उम्र में 5000 रुपये हर महीने मिलने लगेंगे.

इधर, रमेश 40 साल के हैं. वे भी पान की दुकान ही लगाते हैं. उन्हें 1000 रुपये की पेंशन के लिए 20 साल तक 291 रुपये हर महीने देने होंगे. अगर 5000 रुपये पेंशन चाहिए तो 1454 रुपये जमा कराने होंगे.

तो इस तरह आप देख पाएंगे कि जितनी देर से जुड़े, उतने ही ज्यादा पैसे देने होंगे.

अटल पेंशन योजना में उम्र और उसके हिसाब से किश्त का गणित यहां देख सकते हैं.
अटल पेंशन योजना में उम्र और उसके हिसाब से क़िस्त का गणित यहां देख सकते हैं.

इस योजना में शामिल कैसे होते हैं

#अटल पेंशन योजना में भाग लेने के लिए बैंक खाता होना जरूरी है.

#साथ ही खाता आधार कार्ड से जुड़ा होना चाहिए.

#बैंक जाकर एक फॉर्म भरना होगा और अपनी किस्त चुननी होगी. बस आप योजना में शामिल हो जाएंगे.

# इसके बाद हर महीने खाते से अपने आप पैसा कट जाएगा. अगर किस्त की तारीख के दिन पैसा खाते में नहीं रहा तो पेनल्टी देनी होगी.

#साथ ही आप साल में एक बार किस्त का पैसा घटा या बढ़ा भी सकते हैं. लेकिन ध्यान रहे कि किस्त 42 रुपये से कम नहीं होगी.

क्या बीच में बंद करा सकते हैं?

एक बार आप योजना में शामिल हो गए तो फिर इससे अलग नहीं हो सकते हैं. अगर आपने कुछ महीने या साल तक पैसे जमाकर छोड़ दिए तो दो साल तक इंतजार किया जाएगा. फिर आपका खाता बंद कर दिया जाएगा. यानी आपकी किस्त डूब जाएगी. लेकिन कुछ विशेष हालात जैसे योजना में शामिल व्यक्ति की मौत या लाइलाज बीमारी होने पर सरकार बीच में खाता बंद करने की छूट देती है. ऐसे में पैसे वापस मिल जाते हैं.

हमने आपको ऊपर बता दिया था कि सरकार ने अब साल में कभी भी किस्त में बदलाव करने को मंजूरी दे दी है. इसके साथ ही इस योजना को लेकर एक अपडेट और है. इसके अनुसार, सरकार ने कोरोना वायरस और लॉकडाउन के चलते योजना में शामिल लोगों को किस्त जमा कराने को लेकर राहत दी थी. इसके तहत 30 जून तक खाते से अपने आप पैसे काटने पर रोक लगा दी गई थी. लेकिन अब यह रोक हट गई है. यानी जुलाई से खाते से पैसे कटना शुरू हो गए हैं. इसलिए खाते में पैसे रखिए.


Video: कोऑपरेटिव बैंक अब RBI के अधीन हैं लेकिन आपका पैसा कितना सुरक्षित है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

चीन और जापान जिस द्वीप के लिए भिड़ रहे हैं, उसकी पूरी कहानी

आइए जानते हैं कि मामला अभी क्यों बढ़ा है.

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.