Submit your post

Follow Us

वामन भोंसले, वो एडिटर जिसने अमिताभ बच्चन और राजेश खन्ना की क्लासिक फिल्मों पर कैंची चलाई

26 अप्रैल, 2021. हिंदी फिल्म इंडस्ट्री से एक बुरी खबर आई. वामन भोंसले नहीं रहे. सुभाष घई उन्हें याद करते हुए लिखते हैं,

रेस्ट इन पीस वामन भोंसले सर. एक जीनियस फिल्म एडिटर जिन्होंने मेरी पहली फिल्म ‘कालीचरण’ में भी काम किया. और खलनायक तक मेरी सभी फिल्में एडिट की. उन्हीं से प्रेरणा पाकर मैं ‘ताल’ जैसी फिल्में एडिट कर पाया. एक महान टीचर.

मधुर भंडारकर ने लिखा,

मास्टर फिल्म एडिटर वामन भोंसले जी के देहांत की दुखद खबर मिली. अपने करियर के शुरुआती दिनों में मुझे उनके साथ काम करने का सौभाग्य मिला. ‘आंधी’, ‘कर्ज़’, ‘मिस्टर इंडिया’, ‘राम लखन’, ‘अग्निपथ’, ‘सौदागर’, ‘ग़ुलाम’ जैसी अनेक फिल्मों में उनके काम के लिए उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा.

लिरिसिस्ट और राइटर वरुण ग्रोवर ने वामन भोंसले का एक पुराना इंटरव्यू शेयर किया. साथ में लिखा,

लेजेंडरी हिंदी फिल्म एडिटर और नैशनल अवॉर्ड विनर वामन भोंसले साब नहीं रहे. उन्होंने गुलज़ार की ‘आंधी’ और ‘मौसम’ समेत कई फिल्में एडिट की थीं.

89 साल की उम्र में वामन भोंसले का निधन हो गया. वो लंबे समय से बीमार चल रहे थे. वामन के भतीजे ने इंडियन एक्स्प्रेस को बताया,

उन्हें कई साल से डाइबिटिज़ की शिकायत थी. पिछले एक साल से उनकी यादाश्त भी कमजोर पड़ने लगी थी. चार-पांच दिनों से कुछ खा भी नहीं रहे थे. अपने गोरेगांव वाले घर में आज सुबह 4 बजे उनका देहांत हो गया.

वामन भोंसले के बारे में बात करने से पहले एक फिल्म की बात की जानी जरूरी है. फिल्म थी 1998 में आई ‘ग़ुलाम’. इसका एक सीन याद कीजिए. बड़ा फेमस था. जिसमें आमिर खान का किरदार सामने आती हुई ट्रेन की ओर भाग रहा होता है. ट्रेन और आमिर के बीच कुछ कदमों का ही फासला रहता है कि वो ट्रैक से कूद जाता है. टक्कर होने ही वाली थी बस. उस समय जिसने भी देखा अचंभित हो गया. आमिर की बहादुरी की तारीफ़ें करने लगा. कि यार क्या स्टंट किया है. लेकिन ये आमिर का कमाल नहीं था. कमाल था फिल्म के एडिटर यानी वामन भोंसले का. आज भी फिल्म एडिटिंग के इच्छुक उस सीन को देखकर एडिटिंग की बारीकियां सीखने की कोशिश करते हैं. आप इस सीन को नीचे देख सकते हैं. उन्हीं वामन भोंसले की लाइफ के बारे में जानेंगे. चार दशक के कैनवास में फैले उनके करियर के बारे में जानेंगे.

#10 किलोमीटर पैदल स्कूल जाना पड़ता था

तारीख 19 फ़रवरी, 1932. गोवा के एक छोटे से गांव पोमबुरपा में वामन भोंसले का जन्म हुआ. गांव छोटा इसलिए क्यूंकि बेसिक जनसुविधाओं की तंगी थी. छोटी-से-छोटी जरूरत के लिए भी कई किलोमीटर पैदल चलकर जाना पड़ता था. स्कूली शिक्षा के लिए भी वामन को करीब 10 किलोमीटर चलना पड़ता था. जंगल-जंगल होते हुए. किसी तरह शिक्षा पूरी हुई. मेट्रिक पास कर ली. गांव के आसपास रोज़गार के ज़्यादा ऑप्शन थे नहीं. इसलिए फैसला लिया बॉम्बे आने का. उनके बड़े भाई डाई मेकर थे. भाई का काम सीखना चाहा. लेकिन जी नहीं लगा. समझ आ गया कि ये काम अपने मतलब का नहीं.

उनके पिता के एक दोस्त थे. जो बंबई में काम करते थे. नाम था डी एन पाई. आगे जाकर इन्हीं डी एन पाई ने मनोज कुमार की ‘गुमनाम’ और ‘वो कौन थी’ जैसी फिल्में एडिट की थी. खैर, काम की तलाश में वामन पहुंच गए डी एन पाई के पास.

# बॉम्बे टॉकीज़ से फिलमिस्तान का सफर

उन दिनों डी एन पाई बॉम्बे टॉकीज़ में काम करते थे. बतौर चीफ एडिटर. बॉम्बे टॉकीज़ किसी जमाने का नामी फिल्म स्टूडियो था. जिसने हिंदी सिनेमा को ‘अछूत कन्या’, ‘किस्मत’ और ‘जीवन नैया’ जैसी फिल्में दी थीं. लेकिन उन दिनों बॉम्बे टॉकीज़ का तारा बुलंद नहीं था. आए दिन खबरें आती थी कि स्टूडियो पर कभी भी ताला लग सकता है. इसी माहौल के बीच वामन भी पाई के पास पहुंचे. काम मांगा. फिल्म या फिल्म इंडस्ट्री से वामन का कोई ताल्लुकात नहीं था. इसलिए पाई ने उन्होंने एक अप्रेंटिस के तौर पर रख लिया. काम सिर्फ इतना था कि जो भी पाई कर रहे हैं, वामन को बस वो देखना है. देखकर सीखना है. उन्हें इस दौरान कभी रील पर कैंची या अधेसिव लगाने का मौका नहीं मिला.

Waman Bhonsle Mumbai Days
बंबई के शुरुआती दिनों में वामन की तस्वीर. फोटो – यूट्यूब

पांच-छह महीने बीत गए. बॉम्बे टॉकीज़ के बंद होने की खबरें अब तूल पकड़ने लगी थीं. दूसरी ओर पाई को फिलमिस्तान से ऑफर आ गया. कि हमारी फिल्मों पर बतौर एडिटर काम कीजिए. उन्होंने फिलमिस्तान जॉइन कर लिया. साथ में अपने अप्रेंटिस को भी ले लिया. लेकिन अब वामन सिर्फ उनके अप्रेंटिस नहीं थे. बल्कि, असिस्टेंट बन गए थे. वामन ने अपने गुरु पाई को ‘पड़ोसन’ और ‘नीलकमल’ जैसी फिल्मों पर असिस्ट किया.

# ‘ये रेशमी ज़ुल्फ़ें’ वाली फिल्म ने स्थापित किया

अब तक वामन को जितनी भी फिल्में एडिट करने का मौका मिला, वो सब डी एन पाई के अंतर्गत मिला. कहें तो उन्होंने अकेले किसी फिल्म पर काम नहीं किया था. ये मौका भी आया. और ये मौका दिया राज खोसला ने. जो ‘सोलवा साल’ और ‘वो कौन थी’ जैसी फिल्में डायरेक्ट कर चुके थे. राज उन दिनों राजेश खन्ना और मुमताज़ स्टारर ‘दो रास्ते’ बना रहे थे. उसी दौरान उन्होंने वामन का ‘पड़ोसन’ और ‘नीलकमल’ पर किया काम भी देखा. इम्प्रेस हुए. और ‘दो रास्ते’ ऑफर कर डाली. कि पूरी तरह फिल्म को तुम ही एडिट करो. वामन मान गए. 05 दिसम्बर, 1969 को फिल्म रिलीज़ हुई. बॉक्स ऑफिस पर लोगों का हुजूम टूट पड़ा. ब्लॉकबस्टर साबित हुई. इस फिल्म की मेहरबानी ऐसी हुई कि वामन को इसके बाद पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ा. न ही जरूरत पड़ी किसी डायरेक्टर या प्रड्यूसर के ऑफिस फोन कर काम मांगने की. सब खुद-ब-खुद अप्रोच करने लगे.

Raj Khosla
राज खोसला, जिन्होंने वामन को ‘दो रास्ते’ ऑफर की. आगे जाकर दोनों ने ‘मेरा गांव मेरा देश’ में फिर साथ काम किया.

आगे जाकर वामन ने गुलज़ार, सुभाष घई, सुनील दत्त, शेखर कपूर और रवि टंडन जैसे फिल्ममेकर्स के साथ काम किया. और भारतीय सिनेमा को ‘मेरा गांव मेरा देश’, ‘इंतकाम’, ‘मौसम’, ‘आंधी’, ‘दोस्ताना’, ‘कर्ज़’, ‘हीरो’, ‘सौदागर’, ‘ग़ुलाम’ और ‘इत्तेफाक’ जैसी फिल्में दी. इतने बड़े नामों में एक फिल्म छूट गई. जो वामन भोंसले के करियर का नगीना साबित हुई. फिल्म थी 1977 में आई ‘इनकार’. फिल्म को नैशनल अवॉर्ड मिला था. आप पूछेंगे कि इसमें खास क्या है, अनगिनत फिल्मों ने नैशनल अवॉर्ड जीते हैं. जवाब है कि ये हिंदी सिनेमा की पहली फिल्म थी जिसके लिए किसी टेक्निशियन को नैशनल अवॉर्ड मिला हो. फिल्म को अपनी एडिटिंग के लिए नैशनल अवॉर्ड फॉर बेस्ट एडिटिंग का अवॉर्ड मिला था.

Inkaar
‘इनकार’ से पहले कभी किसी हिंदी फिल्म के टेक्निशियन को नैशनल अवॉर्ड से सम्मानित नहीं किया गया था. फोटो – इनकार से एक स्टिल

बतौर एडिटर, 1999 में आई ‘सिर्फ तुम’ वामन की आखिरी फिल्म थी. नहीं, नहीं एडिटिंग से लगाव खत्म नहीं हुआ था. वजह थी कि फैमिली वाले टोकने लगे थे. दरअसल, एडिटिंग में कई घंटे निकल जाते. 12-15 घंटे की शिफ्ट लगानी पड़ती. दिन में काम पूरा नहीं होता तो रात को जागकर पूरा करना पड़ता. ताकि प्रड्यूसर का नुकसान ना हो. ऐसी 24×7 वाली दिनचर्या से उनकी सेहत पर असर पड़ने लगा. परिवार वाले भी आपत्ति जताने लगे. तो सारी बातें आंककर उन्होंने फिल्में एडिट करना बंद कर दी.

Sushmita Sen In Sirf Tum
दिलबर दिलबर गाने वाली ‘सिर्फ तुम’ के बाद उन्होंने फिल्में एडिट करना बंद कर दिया. फोटो – यूट्यूब

वामन भोंसले ने करीब 230 फिल्मों पर काम किया. उनमें से बहुत सारे नाम छूटे भी हैं. लेकिन गारंटी है कि अगली बार आप 70 या 80 के दशक की कोई भी कमाल की फिल्म उठा लीजिएगा, उसमें एडिटर के टाइटल प्लेट के नीचे ‘वामन भोंसले’ का नाम नज़र आएगा. इतनी सारी बेहतरीन फिल्में देने के लिए उनका शुक्रिया. इतनी सारी यादें देने के लिए शुक्रिया.


वीडियो: हिंदी और मराठी सिनेमा में यादगार किरदार निभाने वाले एक्टर किशोर नांदलस्कर का निधन

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' की खतरनाक इंस्पेक्टर अलिशिया, जिन्होंने असल में भी मीडिया के सामने उत्पात किया था

'मनी हाइस्ट' की खतरनाक इंस्पेक्टर अलिशिया, जिन्होंने असल में भी मीडिया के सामने उत्पात किया था

सब सही होता तो, टोक्यो या मोनिका में से एक रोल करती नजवा उर्फ़ अलिशिया.

कहानी 'मनी हाइस्ट' वाली नैरोबी की, जिन्होंने कभी इंडियन लड़की का किरदार करके धूम मचा दी थी

कहानी 'मनी हाइस्ट' वाली नैरोबी की, जिन्होंने कभी इंडियन लड़की का किरदार करके धूम मचा दी थी

जानिए क्या है नैरोबी उर्फ़ अल्बा फ्लोरेस का इंडियन कनेक्शन और कौन है उनका फेवरेट को-स्टार?

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.