Submit your post

Follow Us

टॉस नहीं, इन 2 घंटों की वजह से भारत 78 पर लुढ़क गया और इंग्लैंड 432 बना गया!

क्या विराट कोहली ने टॉस जीतकर बहुत गलत फैसला कर लिया? क्या लीड्स में पहले बैटिंग करना भारत को भारी पड़ गया? आखिर ऐसा क्यों हुआ कि जिस पिच पर भारत 100 रन भी नहीं बना सका, उसी पिच पर इंग्लैंड ने 432 ठोंक दिए. हेडिंग्ले क्रिकेट मैदान पर भारत के इस खराब खेल के पीछे के दो अहम कारण हैं. पहला कंडीशन्स को समझने में फेर और दूसरा बल्लेबाज़ों की गैर-ज़िम्मेदाराना बल्लेबाज़ी.

विराट कोहली ने टॉस जीता और ना के बराबर घास वाली पिच देख तुरंत बैटिंग का फैसला कर लिया. लेकिन उनसे कंडीशंस को समझने में चूक हो गई. या फिर उन्होंने जो सोचा था वो टीम के बल्लेबाज़ नहीं कर पाए.

जानते हैं कैसे बिखरी भारत की पारी:

इंग्लिश टीम के गेंदबाज़ों को मैदान पर उतरते ही 2.2° का स्विंग मिलने लगा. इसमें हैरानी इसलिए है क्योंकि इससे पहले ना तो लॉर्ड्स में और ना ही नॉटिंघम में उन्हें इतना स्विंग मिला था. शुरुआती 10 ओवरों में भी इसमें बहुत फर्क नहीं आया और गेंद 2.1° डिग्री पर हरकत करती रही. ये वही शुरुआती 10-11 ओवर थे, जहां भारत को संभलना था.

पिच पर शुरुआती घंटों में मदद थी. ऐसे में आपके पास अगर जिमी एंडरसन जैसा घातक गेंदबाज़ हो तो फिर सामने वाली टीम की शामत आना तय है. एंडरसन ने भारतीय पारी को बिखेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी. रूट ने उनपर भरोसा जताया और उन्होंने सुबह-सुबह आठ ओवर का ऐसा स्पेल फेंका कि भारत मैच में पिछड़ गया. एंडरसन ने अपने आठ ओवरों के स्पेल में छह रन दिए और राहुल, पुजारा और विराट के तीन विकेट चटकाए.

Aanderson Virat Leeds
विराट-एंडरसन. फोटो: AP

बल्लेबाज़ों की लापरवाही:

यहां सबकुछ कंडीशंस और गेंदबाज़ ने ही नहीं किया. हमारे बल्लेबाज़ों ने भी किया. केएल राहुल. पिछले मैच में ही शानदार शतक बनाकर आए हैं. लेकिन फिर भी कॉन्फिडेंस की जगह ओवर कॉन्फिडेंस में मारे गए. एंडरसन जैसे जादूगर गेंदबाज़ के सामने काले बादलों के नीचे पहले ओवर में ही ड्राइव मारने चले गए. राहुल को बाहर जाती गेंदों को छोड़ना था. लेकिन किया क्या, गेंद को मारने गए और बटलर के हाथों 0 रन पर कैच आउट हो गए. जेफरी बॉयकॉट ने सही कहा है,

हेडिंग्ले में पहले दिन 40 ओवर तक ड्राइव भूलकर भी नहीं करना चाहिए.

अब बात चेतेश्वर पुजारा की लापरवाही की. पुजारा के साथ बहुत बड़ी दिक्कत है. वो एक ही तरह से लगातार आउट हो रहे हैं. पिछली 12 पारियों में बल्ले से एक भी अर्धशतक नहीं निकला. लेकिन सबसे बड़ी दिक्कत तो है उनका आउट होने का तरीका. इस बार वो एंडरसन को पांचवे ओवर में जब खेल रहे थे तो शॉट मारने के असमंजस में रहे. मारने गए, रुके और फिर आउट हो गए.

इन दो बल्लेबाज़ों की गलती के बाद सबसे बड़ी गलती की कप्तान विराट कोहली ने. विराट की बल्लेबाज़ी में अब तकनीकि खामियां भी दिखने लगी हैं. एंडरसन ने अपने अनुभव का फायदा उठाया और विराट को फुल लेंथ फेंक दी. विराट भी मिड ऑफ की दिशा में ड्राइव करने गए और हुआ क्या, वही जो राहुल के साथ हुआ था.

लंच से ठीक पहले आखिरी गेंद पर अजिंक्ये रहाणे भी अच्छी शुरुआत के बाद रोबिंसन की बाहर जाती गेंद पर छेड़खानी करने गए और गेंद सीधे विकेटकीपर के हाथों में. शुरुआती दो घंटे. यहीं से लिखा गया मैच.

लंच के बाद मिडिल ऑर्डर ढेर:

भारतीय टीम की लापरवाही वाली बल्लेबाज़ी लंच के बाद भी दिखी. जहां लंच से पहले भारत ने 56 रनों के अंदर चार विकेट गंवाए. वहीं लंच के बाद तो टीम 22 रनों के अंदर छह विकेट गंवाकर वापस लौट गई. दूसरे सेशन के चौथे ओवर में ही पंत से भी गलती हुई. पैर देर से चले और गेंद ज़्यादा बाउंस के साथ उनके बल्ले का किनारा लेकर बटलर के हाथों में चली गई.

रोहित शर्मा की पारी का अंत तो बहुत ही बदकिस्मती वाला रहा. गेंद ज़्यादा हाइट पर आई पुल मारने गए और सीधे लपके गए. इस तरह निचले क्रम के बल्लेबाज़ों के साथ पूरी भारतीय टीम 78 रनों पर ऑल-आउट हो गई.

Team India All Out Leeds
भारतीय पारी ढेर. फोटो: AP

अब आइये इंग्लैंड की पारी पर:

जिस विकेट पर भारत महज़ 78 रन बनाकर ऑल-आउट हो गया. वहां इंग्लैंड ने 432 रनों का पहाड़ कैसे खड़ा कर दिया? क्या सही में टॉस के वक्त ही सारी गलती हो गई. जिसकी वजह से रूट शतक और तीन इंग्लिश बल्लेबाज़ अर्धशतक बना गए.

अब इस चीज़ से समझिए. क्रिकविज़ के स्टैट के मुताबिक नई गेंद से पहले 10 ओवरों में जहां इंग्लैंड को 2.1° टर्न मिला. वहीं भारत को 1.0° और दूसरी नई गेंद से 0.6° टर्न मिला. इसका कारण ये नहीं है कि भारतीय गेंदबाज़ इंग्लिश गेंदबाज़ों से कम काबिल थे. लेकिन शुरुआती दो घंटों का जो फायदा इंग्लैंड को मिला. वो भारत को बाद में नहीं मिल पाया. जिसकी वजह से इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों को ज़्यादा परेशानी नहीं हुई.

कंडीशंस का फर्क ये भी रहा कि जहां पहले दिन शुरुआती दो सेशनों में इंग्लैंड को मिलाकर 2.4° स्विंग और सीम मिला. वहीं भारत को दूसरे दिन के खेल की शुरुआत में सिर्फ 1.0° स्विंग मिला. यानि बल्लेबाज़ों के लिए खेल में आसानी.

पहले दिन के बाद के खेल में इंग्लैंड की पारी तक गेंदबाज़ों को विकेट से बहुत ज़्यादा मदद मिलती नहीं दिखी. ऐसे में इंग्लिश बल्लेबाज़ों के लिए खेल में आसानी हो गई.

England Bowling
अब देखना होगा कि दूसरी पारी में दोनों टीमें कैसा खेल दिखाती हैं. फोटो: AP

हेडिंग्ले में दोनों टीमों की पहली पारी का खेल देखने के बाद ये कहा जा सकता है कि हेडिंग्ले की विकेट पर पहले दिन शुरुआती दो घंटे का खेल बहुत महत्वपूर्ण था. और भारत वहीं पर पिछड़ गया. शुरुआती दो घंटे अगर टीम इंडिया पार लग जाती तो हो सकता है पहली पारी में भारत के बोर्ड पर इंग्लैंड जैसा बड़ा स्कोर दिखता और इंग्लैंड प्रेशर में होता. लेकिन पहले दो घंटों में भारतीय टीम से बड़ी चूक हुई और इंग्लिश गेंदबाज़ों की शानदार गेंदबाज़ी. जिसकी वजह से भारत मैच में हार के दरवाज़े पर खड़ा है.

कई लोग ये भी सवाल उठा रहे हैं कि इस विकेट पर विराट ने टॉस जीतकर बैटिंग लेकर गलती कर दी. लेकिन हम मानते हैं कि ऐसा नहीं है. सारी कहानी शुरुआती दो घंटे के खेल की थी. अगर भारत पहले दो सेशनों में संभलकर बल्लेबाज़ी करता. बल्लेबाज़ लापरवाही भरे शॉट नहीं खेलते. तो हम इस मैच में मज़बूत स्थिति में होते. वहीं अगर इंग्लैंड पहले बैटिंग करता और वो पहले दो घंटे संभलकर खेल लेता तो फिर यही बात कही जाती कि विराट ने टॉस जीतकर पहले बोलिंग क्यों ली.

खैर, जो हुआ सो हुआ. अब यही उम्मीद है कि भारत आगे के खेल में वापसी ज़रूर करे.


एंडरसन के सामने विराट का डब्बा गोल क्यों हो जाता है? 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.