Submit your post

Follow Us

बेजुबान कछुए का ये हाल आपसे भी न देखा जाएगा

खबर पढ़ने से पहले तस्वीर देखिए. एक तरफ कोरिया में सिगरेट के उन बट्स (टोटे) का पहाड़ खड़ा किया गया, जो समंदर में जाकर न जाने कितने निरीह जानवरों की जान ले लेते हैं. इन बट्स में मौजूद प्लास्टिक इसका कारण बनता है. दूसरी तस्वीर दक्षिण अमेरिकी देश पेरू के समुद्री तट की है, जहां जमा प्लास्टिक का कचरा दिखाता है कि हालात काबू से कितने बाहर हो रहे हैं.

Sale(178)
हर साल समंदर में पहुंचने वाले प्लास्टिक और सिगरेट के बट लाखों जीवों की जान लेते हैं.  (फोटो-पीटीआई )

हम बेफिक्री में किस तरह धरती और उस पर मौजूद जीव-जंतुओं को नुकसान पहुंचा रहे हैं, यह हम कम ही जान पाते हैं. एक ऐसा ही वीडियो ट्विटर पर वायरल हो रहा है. इसमें एक ऐसी चीज कछुए के जी का जंजाल बनी दिख रही है, जो हमारे हिसाब से बहुत ही साधारण है. जब हम बोतलबंद पानी की बोतल को खोलते हैं तो सील तोड़ने पर ढक्कन के पीछे एक प्लास्टिक की रिंग भी निकलती है. इसे हम बेफिक्री से फेंक देते हैं. ऐसी ही एक रिंग बहकर समंदर में पहुंच गई और कछुए की जान आफत में आ गई. हालांकि वीडियो से यह नहीं पता चलता कि ये कहां का है लेकिन प्लास्टिक से होने वाली दिक्कत साफ नजर आती है.

कछुए क्यों खास हैं?

कछुए धरती के सबसे पुराने जीवों में से एक हैं. इनकी उम्र अमूमन 250 साल से अधिक होती है. कछुओं के शरीर के मुख्य भाग को उनकी पसलियों से विकसित ढाल-जैसा कवच ढके रहता है. विश्व में स्थलीय कछुओं और जलीय कछुओं दोनों की कई प्रजातियां हैं. कछुओं की सबसे पहली प्रजाति आज से करीब 15.7 करोड़ साल पहले पैदा हुई थी, इसीलिये वैज्ञानिक इन्हें सबसे पुराने जीवों में से एक मानते हैं. कछुओं की कई प्रजातियां विलुप्त हो चुकी हैं लेकिन 327 आज भी अस्तित्व में हैं। लगातार बढ़ रहे समुद्री कचरे की वजह से इनमें से कई प्रजातियां ख़तरे में हैं. भारत की कछुआ संरक्षण परियोजना ओडिशा में 1989 में शुरू की गई थी.

आज तक सबसे लंबे वक्त (255 साल) तक जीने वाले कछुए का नाम अद्वैत था. इसका जन्म 1750 में सेशेल्स में हुआ था और मृत्यु 22 मार्च 2006 को कोलकाता में हुई.

अगर जम के कछुए देखने हैं तो यहां आएं

अगर आपको कछुए अच्छे लगते हैं या इन्हें देखना आपका शौक है तो ओडिशा (पहले उड़ीसा) का रुख कीजिए. यहां के रुशिकुल्या में गहिरमाथा समुद्र तट पर खूब कछुए दिखते हैं. इसी तट पर हर साल एक अद्भुत घटना देखने को मिलती है. यहां लाखों मादा कछुए बच्चों को जन्म देते हैं. इस बार लॉकडाइन के चलते यह घटना और भी खूबसूरत बन गई. ओडिशा के समुद्र तट पर इस बार अंडे देने 7 लाख 90 हजार से ज्यादा ओलिव रिडले किस्म के कछुए पहुंचे. कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए देश भर में लॉकडाउन किया गया था. इससे पॉल्यूशन लेवल कम हो गया. इसके समुद्री जीवन में भी बदलाव देखे जा रहे हैं. कछुए गहिरमाथा और रूसीकुल्य में करोड़ों अंडे देते हैं. हर साल फरवरी के आसपास इनसे कछुए निकलते हैं. हर तरफ कछुए ही कछुए नजर आते हैं. यह दुनिया के अद्भुत नजारों में से एक माना जाता है.

Sale(179)
कछुए अंडे देकर फिर से समंदर में चले जाते हैं लेकिन अंडों से बच्चे बाहर आने से पहले वापस आ जाते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कछुआ पालना कहीं भारी न पड़ जाए

फेंगशुई और वास्तु शास्त्र को मानने वाले अक्सर कछुआ पालने की सलाह देते हैं. ऐसे में कई लोग इन्हें घर में रख लेते हैं. कछुए की ज्यादातर प्रजातियां वन्यजीव संरक्षण एक्ट 1972 के तहत संरक्षित हैं. घर में कछुआ पालने पर वन विभाग कार्रवाई कर सकता है. अपराध की गंभीरता के हिसाब से 5 हजार से 25 हजार रुपए तक जुर्माना वसूला जा सकता है. इस मामले में भारत का स्टार कछुआ बहुत फेमस है. इसकी स्मगलिंग और पालने पर सबसे ज्यादा सख्ती है. अगर किसी के घर में यह पाया जाता है और उसकी रिपोर्ट हो जाती है तो सजा निश्चित है.

गायें भी होती रही हैं प्लास्टिक का शिकार

ऐसा नहीं है कि प्लास्टिक सिर्फ समुद्री जनजीवन को खराब कर रहा है. गाय जैसे जानवर भी प्लास्टिक खाकर मौत का शिकार बन रहे हैं. गायें अक्सर खाने के साथ ढेर सारी प्लास्टिक की पॉलिथिन भी खा जाती हैं. यह पेट में जमा होकर उनकी मौत का कारण बनती हैं. वेटनरी डॉक्टरों को कई-कई किलो पॉलिथिन और प्लास्टिक गाय के पेट से निकालनी पड़ती है.

Sale(180)
हर साल प्लास्टिक और पॉलिथीन खाने की वजह से तमाम गायों की मौत हो जाती है.

सरकारों से लेकर वन्यजीव और पर्यावरण संरक्षण से जुड़े लोग दुनिया भर में प्लास्टिक पर रोक के प्रयास कर रहे हैं, लेकिन वो नाकाफी साबित हो रहे हैं. परिणाम यह हो रहा है कि समंदर से लेकर जमीन तक हर साल लाखों की संख्या में जानवर प्लास्टिक का शिकार हो रहे हैं.


 

वीडियो – लेक न्योस में क्या हुआ था ऐसा कि 1700 से ज्यादा इंसान और 3500 से ज्यादा जानवर मर गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.