Submit your post

Follow Us

विजय हज़ारे: आज़ाद भारत को अंग्रेजों के खिलाफ जीत दिलाने वाला पहला कप्तान

दुनिया में कई बल्लेबाज हुए हैं जिनके क्रीज पर उतरते ही रन बरसना शुरू हो जाते हैं. सर डॉन ब्रैडमेन से लेकर सहवाग और क्रिस गेल तक ने अपने आक्रामक खेल से विरोधी टीमों को डराया. मगर कुछ बल्लेबाज ऐसे भी हुए हैं जो क्रीज पर आते तो विरोधी टीमें यही देख कर चौंक जातीं कि इनमें इतना धैर्य, ध्यान और रन बनाने की भूख कहां से आती है.

राहुल द्रविड़ से पहले विजय हजारे का नाम इस लिस्ट में आता है. आजाद भारत का पहला कप्तान जिसने मुल्क की 14 टेस्ट मैचों में कप्तानी की. 1951 से 1953 के बीच भारत को पहली टेस्ट मैच जीत भी विजय हजारे की कप्तानी में मिली थी. ये खास इसलिए भी थी क्योंकि हमने इंग्लैंड को उसी के खेल में हराया था. एक पारी और 8 रनों से अपना पहला टेस्ट मैच भारत उस दिन जीता था जब ब्रिटेन के किंग जॉर्ज VI की मौत हुई थी.

Untitled design
घरेलू क्रिकेट को मजबूती देने के लिए भी याद किया जाता है विजय हज़ारे को.

महाराष्ट्र के सांगली इलाके में 11 मार्च 1915 को पैदा हुए विजय एक स्कूल टीचर के आठ बच्चों में से एक थे. बड़े होकर क्रिकेटर बने. अपने करियर में खेले 30 टेस्ट मैचों में 47.65 के औसत से 2192 रन जोड़े. मगर जितना इंटरनेशनल करियर सफल रहा उससे कहीं ज्यादा घरेलू क्रिकेट में नाम हुआ. सुनील गावस्कर, सचिन तेंडुलकर, राहुल द्रविड़ और अब वसीम जाफर के बाद अगर किसी इंडियन प्लेयर के घरेलू क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन हैं तो वो विजय हजारे हैं.

58.38 की औसत से 18,740 रन जिनमें 10 डबल सेंचुरी शामिल हैं. इनमें से 6 डबल सेंचुरी तो तब लगाईं जब दुनिया में विश्व युद्ध चल रहा था. उस दौरान भारत इकलौता टेस्ट प्लेयिंग देश था जहां घरेलू क्रिकेट जारी रखने की आजादी थी. रणजी ट्रॉफी के इतिहास में पहली बार अगर किसी ने तिहरा शतक मारा था तो वो विजय हजारे थे. महाराष्ट्र के लिए खेलते हुए बड़ौदा के खिलाफ 316 रनों की पारी खेली.

Hazare
साल 2017 में तमिलनाडु ने ये ट्रॉफी जीती थी.

भारतीय घरेलू क्रिकेट में इस खिलाड़ी के गजब के योगदान के चलते साल 2002-03 में विजय हज़ारे ट्रॉफी शुरू की गई थी. इसे रणजी ट्रॉफी का वनडे फॉरमेट भी कहा जाता है. रणजी के खत्म होते ही हर साल ये ट्रॉफी शुरू होती है. 50 ओवरों के मैच होते हैं और रणजी में शामिल होने वाली टीमें इस ट्रॉफी में भिड़ती हैं.

रणजी की 27 टीमों को 5 ज़ोन में बांटा जाता है जिनमें सेंट्रल, ईस्ट, नॉर्थ, साउथ और वेस्ट जोन शामिल हैं. अभी तक तमिलनाडु ने सबसे ज्यादा 5 बार ये ट्रॉफी जीती है. टीम इंडिया में जगह बनाने के लिए रणजी के बाद इस टूर्नामेंट में खिलाड़ी अपनी फॉर्म और टैलंट का प्रदर्शन करते दिखते हैं क्योंकि सेलेक्टर्स की नजर इस पर रहती है.

हजारे के कुछ गजब क्रिकेट रिकॉर्ड्स:

# घरेलू क्रिकेट में तिहरा शतक मारने वाला पहला भारतीय. वो भी एक नहीं बल्कि दो तिहरे शतक.  316* और 309 रनों की पारियां खेलीं.
# पहला भारतीय बल्लेबाज जिसने टेस्ट मैच की दोनों परियों में सेंचुरी मारी हो. साल था 1947-48, मैदान ऑस्ट्रेलिया का ए़डिलेड और पारियां थीं 116 और 145.
# हज़ारे के नाम एक और रिकॉर्ड जुड़ा, वो ये कि 1951-52 में विजय हजारे इंग्लैंड के खिलाफ कानपुर में मैच की दोनों पारियों में जीरो पर आउट हुए थे. ऐसा करने वाले भी वह पहले भारतीय बल्लेबाज हैं.
# तीन टेस्ट मैचों में तीन शतक लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज भी विजय हजारे ही हैं.
# घरेलू क्रिकेट में 50 शतक मारने वालों में भी पहला नाम विजय हजारे का ही है.


वीडियो भी देखिए:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.