Submit your post

Follow Us

एक्स माशूका को लव लेटर, जो हर लड़का लिखना चाहता है, पर लिख नहीं पाता

दिव्य प्रकाश दुबे. इंजीनियर. राइटर. लवर. पति. पापा. सब इसी क्रम में. हर संडे लिखते हैं एक खत. इस बार का खत. लाल दिल में लुहान हुए जा रहे वक्त को सहलाता हुआ.

दिव्य प्रकाश दुबे
दिव्य प्रकाश दुबे

डियर ‘X’YZ

मैं यहाँ ठीक से हूँ। बाक़ी सब भी ठीक से है । तुम कैसी हो। बाक़ी सब कैसा है।

बाक़ी सब में कितना कुछ समा जाता है न। मौसम, तबीयत, नुक्कड़, शहर, घरवाले, पति, ससुराल सबकुछ ।

उम्मीद तो यही है कि शादी के बाद बदल गयी होगी। नहीं शादी से कुछ भी नहीं बदलता। घर से बदलता है। शादी के बाद घर बदलता है न, इसलिए बदलना पड़ता है।

नहीं घबराओ मत तुम्हारी याद में पागल नहीं हुआ जा रहा । दारू पहले जितनी ही पीता हूँ। । एक लड़की से दोस्ती भी कर ली है। उसकी शक्ल तुमसे नहीं मिलती है । उसका कुछ भी तुमसे नहीं मिलता लेकिन उसकी हर एक बात तुम्हारी याद दिलाती है । उसको मेरी डायरी बहुत पसंद है। वही तुम्हारी वाली डायरी जिसमें केवल तुम्हारे लिए कविता लिखता था। उसको तुम्हारे बारे में सब बता दिया है । वो कहती है कि डायरी के बचे हुए पन्ने मैं उसके लिए कविता लिख के भर दूँ।

लेकिन कविता है कि अब लिखी ही नहीं जाती।

मैंने तुम्हारे लिए फूल, पत्ती, चाँद सितारे वाली न जाने कितनी टुच्ची कवितायें लिखीं होंगी । कवितायें जो गुलज़ार की कविताओं जैसी मल्टी लेयर्ड नहीं थीं। कवितायें जो सही में टुच्ची थीं। जिनका केवल और केवल एक मतलब ‘प्यार’ था।

तुम्हारे जाने बाद छोटी सी भी ख़ुशी अब बर्दाश्त नहीं होती। तुम्हारी डायरी बहुत दिनों से अलमारी में सुलग रही थी । कभी ग़लती से भी डायरी को पलट लेता था तो पूरा शरीर छिल जाता था। नये साल पर पुरानी डायरी जला दी है। डायरी में सबसे ज़्यादा देर से वो फ़ोटो जला जिसे जला देने के लिए तुमने इतनी कसमें दी थीं, शादी तय हो जाने के बाद।

डायरी में बंद कुछ साल, कुछ रतजगे, कुछ शामें सब कुछ जल गया । डायरी की राख को फेंकने के चक्कर में हाथ में फफोले पड़ गए हैं।

अब चाहकर भी मैं कवितायें नहीं लिख पाता।

कई लोग मुझसे बोलते हैं कि मैं कहानियाँ अच्छी लिखने लगा हूँ । सच बताऊँ मुझे नहीं चाहिए अच्छी कहानियाँ-वहानियाँ। मुझे अपनी फूल पत्ती चाँद सितारे वाली दो कौड़ी की टुच्ची सी कवितायें वापिस चाहिए।

डायरी के साथ जली हुई शामों की राख तुम्हें भिजवा रहा हूँ । थोड़ी सी राख अपनी जीभ पर रखकर पानी पी लेना, शायद कुछ आराम मिले।

बाक़ी सब कुछ वैसे ही है। तुम अपना कहो। ‘बाक़ी सब’ कैसा है ? इस बार होली पर माइके आओगी।

तुम्हारा

दिव्य

संडे वाली चिट्ठी 1:  लवर्स लव यू बोलते ही लव में पड़ जाते हैं क्या.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?