Submit your post

Follow Us

कोरोना क्या छूने से भी फैलता है? ये सरकारी एजेंसी तो कुछ अलग ही बता रही है

भारत में कोरोनावायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है. मुंबई हो या दिल्ली, अहमदाबाद हो या फिर गुवाहाटी, हर शहर कोरोना से जूझता दिखाई दे रहा है. इस बीच पांच प्रदेशों में हो रहे विधानसभा चुनावों, यूपी के पंचायत चुनावों और उत्तराखंड में जारी कुंभ भी भारी भीड़ जमा हो रही है. सोशल डिस्टेंसिंग फेल दिख रही है और शायद यही वजह है कि कोरोना की ये लहर जानलेवा साबित हो रही है. ऐसे में अमेरिका की एक रिसर्च में दावा किया गया है कि संक्रमित सतह को छूने से वायरस नहीं फैलता. ये दावा बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि अभी तक यही माना जा रहा था कि संक्रमित सतह को छूने से वायरस फैलता है. चलिए बताते हैं कि ये पूरी रिसर्च क्या है और अपने यहां किस तरह के गाइडलाइंस हैं.

अमेरिकी स्टडी क्या कहती है?

समाचार एजेंसी रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका के सेंटर्स फॉर डिज़ीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन यानी CDC के डायरेक्टर रोशेल वेलेंस्‍की ने व्हाइट हाउस में एक प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा,

इस बात की आशंका बहुत कम है कि संक्रमित सतह को छूने से कोरोना फैलता है.

उन्होंने दावा किया कि 10 हजार मामलों में से केवल एक मामला ही ऐसा सामने आता है, जिसमें कोई ऐसे संक्रमित होता है. हालांकि उन्होंने इस बात से इंकार नहीं किया कि संक्रमित सतह को छूने से कोई शख्स कोरोना की चपेट में नहीं आ सकता है.

Corona2
अमेरिकी एजेंसी के दावे पर अभी भारतीय अधिकारियों ने कुछ नहीं कहा है. फोटो- PTI

अंग्रेजी अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक सोमवार 12 अप्रैल को CDC ने ये दावा किया है. अभी तक ये माना जाता रहा है कि किसी कोरोनावायरस से संक्रमित जगह, चीज को छूने से कोरोना हो सकता है. पब्लिक ट्रांसपोर्ट, होटल, स्कूल, आदि में इसीलिए बार-बार सतहों को सैनेटाइज किए जाने पर जोर रहता है. CDC के डायरेक्टर रोशेल वेलेंस्‍की ने कहा कि बेशक संक्रमित सतहों को छूने से कोरोना हो सकता है, लेकिन इस बात के चांस वाकई बहुत कम हैं.

आजतक की एक रिपोर्ट के मुताबिक वर्जिनिया टेक यूनिवर्सिटी के एयरबॉर्न डिसीसेस की एक्सपर्ट लिंसी मार ने बताया कि लोग अब भी घर और बाहर किसी वस्तु की सतहों की सफाई में लगे हैं, जबकि इन सतहों से कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा बेहद कम है. ऐसा इसलिए भी कहा जा सकता है कि क्योंकि अभी तक इसके सबूत नहीं मिले हैं, कि किसी संक्रमित स्थान या सामान को छूने से कोई बीमार पड़ा हो.

रटगर्स यूनिवर्सिटी के माइक्रोबायोलॉजिस्ट इमान्युएल गोल्डमैन ने कहा कि

किसी वस्तु की सतह से कोरोना संक्रमण का कोई वैज्ञानिक कारण नहीं मिला है. यह वायरस सिर्फ और सिर्फ हवा के जरिए ही लोगों के शरीर में प्रवेश करता है. WHO ने भी इस बात को कहा है कि कोरोना संक्रमित हवा से फैलता है. सांस के माध्यम से ये अंदर जाता है और इसीलिए कोरोना संक्रमित लोगों और इलाकों से दूरी बनाकर रखी जाए.

अपनी नई गाइडलाइंस में CDC ने क्या कहा है?

अपनी अपडेटेड गाइडलाइंस में CDC ने कहा कि नई रिसर्च के मुताबिक किसी संक्रमित सतह को छूने से वायरस के फैलाव का खतरा बहुत कम है. SARS-CoV-2 यानी नोवल कोरोनावायरस के फैलने का ये कोई मेन रूट यानी सीधा रास्ता नहीं है. ये वायरस सीधे संपर्क में आने से (कोरोना पीड़ित के), ड्रॉपलेट्स यानी छींकने या खांसने के दौरान निकलीं सूक्ष्म बूंदों के कारण, और हवा के माध्यम से फैल सकता है.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक यह बात पूरी तरह स्पष्ट हो गई है कि कोविड-19 संक्रमण सबसे ज्यादा हवा के जरिए हो रहा है. क्योंकि हवा में कोरोना संक्रमित लोगों के नाक और मुंह से निकली बूंदों के जरिए वायरस दूसरे स्वस्थ इंसानों को संक्रमित कर रहा है.

CDC ने कहा कि संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए रोजाना की सफाई के दौरान साबुन या डिटर्जेंट का इस्तेमाल किया जा सकता है. बहुत गहरी सफाई की कुछ खास मौकों पर ही जरूरत पड़ सकती है. स्टडी के मुताबिक छेद वाली या झिरझिरी सतहों पर कोरोना कुछ मिनट या घंटों तक ही जीवित रहता है, जबकि बिना छिद्र वाली सतहों पर ये वायरस दिनों या हफ्तों तक बना रह सकता है.

Covid
फिलहाल आपको संक्रमित सतहें छूने से बचना ही चाहिए और सावधानी बरतनी चाहिए. फोटो- PTI

CDC ने कहा कि घर या ऑफिस के भीतर की सतहों जैसे ग्लास, स्टील या प्लास्टिक पर कोविड-19 तीन दिनों से अधिक जिंदा नहीं रहता है. एजेंसी के मुताबिक ‘डिसइन्फेक्टेंट्स के रुटीन इस्तेमाल को वैज्ञानिक समर्थन मिला है.’ और सतहों को साफ करने से SARS-CoV-2 की रोकथाम में मदद मिलती है. वहीं गहरी सफाई की जरूरत है, जहां पिछले 24 घंटे में कोई कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. अन्यथा साधारण साबुन या डिटर्जेंट से सफाई ही काफी है.

CDC के मुताबिक फेस मास्क पहनने से भी कोरोना का खतरा कम हो पाता है. पिछले साल जब कोरोना वायरस महामारी दुनिया में फैली थी, तब कुछ एक्सपर्ट्स का मानना था कि सरफेस को छूने से कोरोना फैल सकता है. ऐसा कहा गया था कि सरफेस को छूने के बाद यदि आप अपना चेहरा छूते हैं, तो कोरोना फैल सकता है.

भारत में क्या स्थिति है?

भारत की स्थिति भी बाकी दुनिया से अलग नहीं थी. कुछ जगहों पर तो प्रवासी मजदूरों को डिसइंफेक्टेंट्स यानी सैनेटाइजर से नहला दिए जाने के वीडियो तक सामने आए थे. हर सतह को साफ किया जा रहा था. यूपी में तो नगरपालिकाएं, घरों को बार बार से सैनेटाइज कर रही थीं. सैनेटाइज करने की वजह से ट्रेन और फ्लाइट की आवाजाही पर भी फर्क पड़ा था और होटलों के व्यापार पर भी भारी फर्क पड़ा था. शुरुआत में तो यात्रा करने वालों को PPE पहननी पड़ रही थी और तमाम तरह के सैनेटाइजेशन प्रोसेस से गुजरना पड़ रहा था.

देश में अब अधिकतर जगहों पर अंतिम संस्कार, शादी समारोह, धार्मिक आयोजनों आदि के लिए लोगों की संख्या को निर्धारित कर रखा है. एक राज्य से दूसरे राज्य में प्रवेश करने पर कोविड-19 नेगेटिव की रिपोर्ट दिखानी होगी. कई जगहों पर ऐसी व्यवस्था है कि स्टेडियम में स्पोर्ट्स इवेंट आयोजित करने की इजाजत होगी, लेकिन दर्शक नहीं जा सकेंगे. इसके अलावा रेस्टोरेंट और बार में सिटिंग कैपेसिटी को कम किया जा रहा है.


वीडियो- कोरोना विस्फोट के बीच नेताओं की कथनी और करनी में कितना फर्क है, खुद देखिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.