Submit your post

Follow Us

अटल बिहारी ने किसे किताब में रख भेजा था प्रेमपत्र?

अटल बिहारी वाजपेयी पर एक किताब है. नाम है ‘द अनटोल्ड वाजपेयी- पॉलिटीशियन एंड पैराडॉक्स’. इसे लिखा है जर्नलिस्ट उल्लेख एनपी ने. टाइटल देखकर लगा कि अटल के बारे में बहुत सी नई बातें पता चलेंगी. खासतौर पर उनकी राजनीति के अंतरविरोध.

तो नया क्या मिला? कुछ ही नई बातें मिलीं. अटल के भाषणों के सहारे उनके जनसंघ के दौर के बारे में पता चला. बलराज मधोक के साथ झगड़ा तो पता था, मगर नानाजी देशमुख के साथ झगड़े का नहीं पता था. किताब के मुताबिक जनता पार्टी की सरकार के आखिरी दौर में जब जगजीवन राम और चरण सिंह के नाम पर सहमति नहीं बन रही थी, तब नानाजी देशमुख ने जनता पार्टी अध्यक्ष चंद्रशेखर का नाम आगे किया था. इससे वाजपेयी नाराज हो गए. वह मोरार जी देसाई समर्थक माने जाते थे.

किताब में वाजपेयी को पीएम कैंडिडेट घोषित करने के भीतर की कहानी भी बताई गई है. ये नया है. इसके अलावा उनके राजकुमारी कौल के साथ संबंधों पर वही लिखा-सुना-कहा गया है, जो पहले भी अखबारों और पत्रिकाओं में छप चुका है. किताब का फ्लो दुरुस्त है. प्रूफ की कई जगह गलतियां हैं. मसलन, गिरधर गमांग को वर्तमान की जगह तत्कालीन भाजपा नेता लिखा है. कुशाभाई ठाकरे का नाम गलत लिखा है. ऐसी ही कुछ और कमियां हैं.

किताब के कुछ किस्से. आपकी नजर.

1. बीजेपी पर राजीव का मजाक

1984 के चुनाव में बीजेपी जीती दो सीटें. राजीव गांधी लोकसभा में इसकी खूब खिल्ली उड़ाते थे. कहते थे, ‘असली परिवार नियोजन तो यहां दिखता है. हम दो हमारे दो वाला.’

2. किताब में रखकर भेजा था प्रेमपत्र

वाजपेयी की करीबी मित्र राजकुमारी, इंदिरा गांधी की सेकंड कजिन थीं. इंदौर में पैदा हुईं, फिर पापा की नौकरी के चलते ग्वालियर आ गईं. यहीं विक्टोरिया कॉलेज में उन्हें अटल मिले. ग्रेजुएशन के दौरान. अटल ने उनके लिए किताब में प्रेमपत्र रखा, पर ये राजकुमारी को नहीं मिला. कहीं और चला गया. ऐसे ही राजकुमारी का खत अटल को नहीं मिल पाया. फिर राजकुमारी की शादी दिल्ली के प्रोफेसर कौल से हो गई. वाजपेयी इनके साथ ही रहा करते थे. जब सांसद हो गए, तो कौल परिवार उनके साथ रहने आ गया. राजकुमारी की छोटी बेटी नमिता वाजपेयी की दत्तक पुत्री हो गईं और अभी भी उनके साथ ही रहती हैं. मिसेज कौल का 2014 में देहांत हो गया.

3. मनमोहन अटल के चक्कर में इस्तीफा लिख बैठे

1991 में मनमोहन ने बजट पेश किया. आर्थिक उदारीकरण वाला. अटल पिल पड़े उन पर भाषण के दौरान. खूब खिल्ली उड़ाई उनकी नीतियों की. आखिरी में बोले गालिब का शेर.

आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक
कौन जीता है तेरी जुल्फ के सर होने तक.

फिर आखिर में टीप जोड़ दी. ‘सरदार जी की तो खूब जुल्फ हैं. पता नहीं क्या होगा, जब तक वह इन्हें दुरुस्त कर पाएंगे.’ मनमोहन इससे उखड़ गए. इस्तीफा देने को तैयार हो गए. नरसिम्हा राव ने तब वाजपेयी को फोन लगाया. वाजपेयी ने मनमोहन को समझाया. सियासत है. यहां वैचारिक हमले तो होंगे ही. कुछ भी निजी न लिया जाए.

4. ह्यूमर-ह्यूमर खेल रहे थे अटल

एक बार किसी ने उन पर तंज कसा. ‘आपका नाम अटल है. टिककर तो रहिए.’ वाजपेयी ने तुरंत दहला मारा. ‘आगे बिहारी भी लगा है.’ ऐसे ही एक बार लोकसभा की बहस के दौरान रामविलास पासवान को मुंह की खानी पड़ी. वो उन दिनों जनता दल में थे. बीजेपी की खिंचाई कर रहे थे. राम मंदिर के मुद्दे पर. बोले, ‘राम तो मेरे नाम में लगा है, बीजेपी कहां से दावा कर रही है.’ इस पर अटल बोले, ‘नाम की न कहें, राम नाम तो हराम में भी होता है.’

5. सोनिया को नहीं पसंद आया अटल का सम्मान

मनमोहन सिंह के शपथ ग्रहण के दौरान अटल भी पहुंचे. एक कांग्रेसी नेता ने जाकर उनके पैर छुए. बाद में सोनिया से मिला. मैडम ने खूब हड़काया. बोलीं, ‘मुझे सब नजर आ रहा था. राहुल गांधी ने भी अशोभनीय टिप्पणी की.’

atal

किताब- द अनटोल्ड वाजपेयी
राइटर- उल्लेख एनपी
पब्लिशर- पेंग्विन
कीमत- 599 (हार्ड बाउंड एडिशन)


ये भी देखें:

क्या इंदिरा गांधी को ‘दुर्गा’ कह कर पलट गए थे अटल बिहारी?

उमा भारती-गोविंदाचार्य प्रसंग और वाजपेयी की नाराजगी की पूरी कहानी

कुंभकरण के जागते ही वाजपेयी के गले लग गए आडवाणी

अटल बिहारी ने सुनाया मौलवी साब का अजीब किस्सा

वीडियो में देखें वो किस्सा जब अटल ने आडवाणी को प्रधानमंत्री नहीं बनने दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

किसान दिवस पर किसानी से जुड़े इन सवालों पर अपनी जनरल नॉलेज चेक कर लें

किसान दिवस पर किसानी से जुड़े इन सवालों पर अपनी जनरल नॉलेज चेक कर लें

कितने नंबर आए, ये बताते हुए जाइएगा.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.