Submit your post

Follow Us

हिरोशिमा: जब फ़ोटोग्राफर के कैमरे का व्यूफाइंडर आंसुओं से धुंधला गया

1.79 K
शेयर्स

ये 1945 की बात है. आज ही का दिन. जापान में सुबह के सवा आठ बज रहे थे. वर्ल्ड वॉर चल रहा था. एनोला गे नाम के अमरीकी बॉम्बर प्लेन ने हिरोशिमा पर दुनिया का सबसे पहला एटॉमिक बम गिरा दिया. बम क्या गिराया, क़यामत ढा दी. कुछ ही मिनटों में 80,000 लोग मारे गए और 35,000 बुरी तरह चोटिल हो गए. इस बम की चोट इंसानियत ने कितनी सही ये शब्दों में नहीं लिखा जा सकता.

इस हमले से पहले हिरोशिमा बिज़ी शहर था. राजनैतिक और आर्थिक तौर पर जापान के इम्पोर्टेन्ट शहरों में से था. 9 अगस्त को एक और हमला हुआ. हमलावर वही. इस बार शहर था नागासाकी. इसके तुरंत बाद जापान ने सरेंडर कर दिया. हिरोशिमा डे पर हम आपको बताते हैं इंसानियत को शर्मिंदा कर देने वाले इस हमले से जुड़ी कुछ दुखद कहानियां.

1. पहली कहानी

हिरोशिमा पीस मेमोरियल म्यूजियम के डायरेक्टर रह चुके योशीताका कावामोतो बताते हैं कि, जब ये हमला हुआ वो बस 13 साल के थे. उस दिन हमले के वक़्त वो स्कूल में थे. हमला हुआ और उनके कई साथी तुरंत मारे गए. जो बचे थे उन्होंने मदद के लिए गाना  और चिल्लाना शुरू कर दिया. योशिताका बहुत डर गए थे.

पहले उन्हें लगा कि गैस के टैंक फट गए थे. फिर उन्हें एहसास हुआ कि उनके तीन दांत टूट गए थे और छत का एक टुकड़ा उनके सिर पर आ गिरा था. बाएं हाथ में बिलकुल तीर की तरह आकर एक लकड़ी की फांस-सी घुस गई थी.

वो आगे कहते हैं, “हमें सिखाया गया था कि अपने साथियों को मुसीबत में छोड़ देना कायरता है. मैं भी मलबे के आस-पास रेंगता रहा और चिल्ला-चिल्ला कर पूछता रहा कि कहीं कोई जिंदा तो नहीं. फ़िर मैंने लकड़ी के फट्टों के बीच एक हाथ हिलता हुआ देखा. वो ‘ओटा’ था, मेरा दोस्त. उसकी रीढ़ टूट चुकी थी. मैंने उसे बाहर निकाला. वो मुझे अपनी बायीं आंख से देख रहा था. क्योंकि उसकी दायीं आंख की पुतली बाहर लटक गई थी. उसने कुछ कहा पर मुझे समझ नहीं आया. उसके होंठों में कीलें घुसी हुईं थीं. उसने अपनी जेब से एक हैंडबुक निकाली. मैंने उससे पूछा, “क्या ये मैं तुम्हारी मां को दे दूं?” उसने हामी भरी और फिर वो मर गया.”

2. दूसरी कहानी

हिरोशिमा पर एटॉमिक बम गिरने के बाद की फ़ोटो दिल दहला देने वाली थी. जिन फोटोग्राफर्स ने मौके पर हिरोशिमा में हुई तबाही को कैमरे में कैद किया उन्होनें बाद में बताया कि माहौल कितना डरावना था. ये देखिये.

Source : Reuters
Source : Reuters

बर्नार्ड हॉफमन नाम के एक फोटोग्राफर हमले के बाद की फोटोज खींच रहे थे. बाद में उन्होंने अपने फोटो एडिटर को क्या लिखा ये पढ़िए.

“हम में से ज़्यादातर को रोना आ रहा था. केवल इसलिए नहीं क्योंकि हमें आहत जापानियों से सहानुभूति थी. बल्कि इसलिए क्योंकि हमें घिन आ रही थी, तबाही के इस बिलकुल नए और भयानक ज़रिये से. हिरोशिमा की तुलना में बर्लिन, हैम्बर्ग और कोलोन तो अछूते रह गए हैं. बस दस बिल्डिंग के ढांचे बचे हैं. वो भी नाम के. हर जगह बस मौत की घिनौनी बू है.”

एक और फोटोग्राफर थे. योशितो मात्सुशिगे जो वहां के लोकल अख़बार के फोटोग्राफर थे. उनके मुताबिक, सब तरफ सफ़ेद ही सफ़ेद नज़र आ रहा था. वो कहते हैं कि धमाका इतना ज़ोरदार था कि यूं लगता था जैसे हजारों सुईंयां एक साथ उन्हें चुभाई जा रहीं हों.

“मैं अपनी पहली फोटो लेने से पहले अपने आप से आधे घंटे तक लड़ा. पहली फोटो खींचने के बाद, मुझमें एक अजीब सी शांति आ गई और मैंने और आगे जाने की कोशिश की. दस कदम आगे लेकर मैंने एक और फोटो लेनी चाही मगर वो सीन इतना डरावना था कि मेरे कैमरे का व्यूफाइंडर आंसुओं से धुंधला गया.”

मौके पर मौजूद सभी फोटोग्राफर्स कहते हैं कि उस वक्त फोटो लेना बहुत मुश्किल हो गया था. क्योंकि चारों तरफ लाशें थीं और लोग मर रहे थे. एक फोटोग्राफर ने तो ये तक कहा कि अगर वो उस वक़्त जानते कि यहां एटम बम गिरा था तो वो फोटो नहीं लेते.

3. तीसरी कहानी

नागासाकी पर अगले एटमी ‘ऑपरेशन’ के ऑर्डर दिए गए थे जेकब बेसर को. बंदा इलेक्ट्रॉनिक्स स्पेशलिस्ट था. दरअसल बेसर का काम था रेडियो तरंगों को प्लेन के कलपुर्जों से छेड़छाड़ करने से रोकना. दो ही दिन पहले इन महाशय ने यही काम एनोला गे नाम के प्लेन में भी किया था. कई साल बाद मैसाचुसेट्स के वर्ल्ड वॉर 2 म्यूजियम के डायरेक्टर केनेथ रेंडेल इनसे मिले. बेसर को  हिरोशिमा और नागासाकी के धमाकों में उन्हें मिले ऑर्डर भी दिखाए. रेंडेल का कहना है कि इन कागजों को देखकर पता चलता है कि इस ऑपरेशन के लिए चुने गए लोगों के साथ क्या हो रहा था.

इसी साल अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा जापान गए. ओबामा से पहले भी वहां के एक राष्ट्रपति जापान जा चुके थे. वो थे जेरल्ड फ़ोर्ड. जो जापान तो गए पर डिप्लोमसी के चलते हिरोशिमा नहीं गए. ओबामा गए. ठीक उसी तरह जैसे इंग्लैंड के प्रधान मंत्री डेविड कैमरोन इंडिया में जलियांवाला बाग हत्याकांड में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देने आए थे.

उन्होंने कहा कि बस शब्द काफी नहीं हैं हिरोशिमा के दर्द को बयान करने के लिए. बल्कि ये सबकी ज़िम्मेदारी है कि इतिहास में झांक कर देखें और कोशिश करें कि ऐसी घटना दोबारा ना हो.


ये स्टोरी ‘दी लल्लनटॉप’ के साथ इंटर्नशिप कर रहे प्रणय ने लिखी है.


 

ये भी पढ़ें-

पिद्दी सा ग्रीनलैंड नक्शे में विशालकाय ऑस्ट्रेलिया से भी बड़ा क्यों दिखता है

क्या आपको हाइड्रोजन बम और एटम बम में अंतर मालूम है?

जापान में अनर्थ हो गया, 25 सेकेंड पहले ट्रेन खुल गई

नेतन्याहू ने जापान के पीएम शिंजो आबे को जूते में परोस दिया, तस्वीर बवाल मचा रही

वीडियो- पड़ताल : 400 साल में एक बार दिखाई देने वाला फूल

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Three heart breaking stories about Hiroshima’s bombing

कौन हो तुम

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान और टॉलरेंस लेवल

अनुपम खेर को ट्विटर और व्हाट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो.

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

आजादी का फायदा उठाओ, रिपब्लिक इंडिया के बारे में बताओ

रिपब्लिक डे से लेकर 15 अगस्त तक. कई सवाल हैं, क्या आपको जवाब मालूम हैं? आइए, दीजिए जरा..

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला के बारे में 9 सवाल

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.