Submit your post

Follow Us

क्या राजस्थान में फिल्म पद्मावत पर लगी रोक की असली वजह एक एनकाउंटर है?

कुछ बदलावों के बाद आखिरकार सेंसर बोर्ड ने विवादित फिल्म पद्मावती, सॉरी पद्मावत के रिलीज की इजाजत दे दी है. यह फिल्म पहले एक दिसंबर को रिलीज होने वाली थी, अब इसे 25 जनवरी को रिलीज किया जा रहा है. हालांकि राजस्थान में इस फिल्म को लेकर गतिरोध जारी है .राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया ने घोषणा की है कि जरूरी बदलावों के बगैर फिल्म राजस्थान में रिलीज नहीं होगी.

यह सब तब हो रहा है जब सेंसर बोर्ड ने फिल्म में पांच बदलावों के साथ उसे U/A सर्टिफिकेट दे दिया है. सेंसर बोर्ड के सुझाए गए बदलावों के हिसाब से फिल्म का नाम पद्मावती से बदलकर पद्मावत कर दिया गया है. घूमर नाच को पद्मावती की ‘गरिमा के अनुरूप’ कर दिया गया है. फिल्म से पहले डिस्क्लेमर दे दिया गया है कि यह फिल्म इतिहास नहीं कहानी है. आखिरकार ऐसा क्या है कि वसुंधरा राजे को सेंसरबोर्ड की इजाजत के बावजूद फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने की बात कहनी पड़ी.

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे

वसुंधरा राजे के राजनीतिक करियर की शुरुआत 1982 में हुई थी. वो उस समय बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की सदस्य बनी थीं. 1985 के विधानसभा चुनाव में वो धौलपुर से चुनाव जीतकर विधानसभा में पहुंचीं. 1989 के लोकसभा चुनाव में वो झालावाड़ आ गईं और यहां से लोकसभा पहुंचीं. इसके बाद वो इस सीट से लगातार पांच बार सांसद बनीं.

2003 के राजस्थान विधानसभा चुनाव के वक्त बीजेपी नेतृत्व के संकट से जूझ रही थी. राजस्थान में बीजेपी के कद्दावर नेता भैरो सिंह शेखावत देश के उप राष्ट्रपति बन चुके थे. संगठन कई धड़ों में बंटा हुआ था और सत्ता के लिए रस्साकशी जारी थी. ऐसे में बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने वसुंधरा राजे को 2003 के विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर प्रोजेक्ट किया. इस तरह 1985 के बाद वसुंधरा राजे की सूबे की राजनीति में वापसी हुई थी.

फिल्म पद्मावती के खिलाफ प्रदर्शन करते करनी सेना के कार्यकर्ता
फिल्म पद्मावती के खिलाफ प्रदर्शन करते करनी सेना के कार्यकर्ता

वसुंधरा राजे के बारे में दो बुनियादी तथ्य जानने की जरूरत है. पहला कि वो ग्वालियर राजघराने से आती हैं. ग्वालियर की गद्दी सिंधिया मराठों के पास रही है. वसुंधरा भी इसी परिवार से आती हैं. दूसरा उनकी शादी धौलपुर राजघराने के हेमंत सिंह से हुई थी. धौलपुर राजस्थान में जाटों का राजघराना है. शाही परिवार से आने के बावजूद वसुंधरा कहीं से भी राजपूत नहीं हैं, ना ही वो ऐसा होने का दावा करती हैं.

2003 में वसुंधरा के राजस्थान की राजनीति में सक्रिय होने के बाद से ही वसुंधरा ने शाही पृष्ठभूमि के नाम पर सूबे के राजपूतों को अपने पीछे लामबंद करना शुरू किया. पिछले 15 साल से राजस्थान का राजपूत समाज ही उनका सबसे भरोसेमंद वोटर रहा है. इसकी झलक उनकी हालिया कैबिनेट में भी मिल जाती है. उनके दो सबसे करीबी मंत्री राजेन्द्र राठौड़ और गजेंद्र सिंह खीमसर राजपूत समाज से आते हैं.

एक एनकाउंटर और वोट बैंक का खिसकना

24 जून, 2017 के रोज चुरू के मालासर में राजस्थान के कुख्यात अपराधी आनंद पाल सिंह का एनकाउंटर हुआ. वो लंबे समय से फरार चल रहा था. आनंद पाल सिंह रावणा राजपूत समाज से आता था. 2006 में गोपाल फोगावट और जीवनराम गोदारा हत्याकांड के चलते उसका नाम पहली बार सुर्ख़ियों में आया था. 2006 में जीवन राम गोदारा की हत्या के बाद जाट नेताओं ने इस मामले को राजनीतिक तूल देना शुरू किया. जाट-राजपूत तनातनी के चलते राजपूतों की सहानुभूति आनंद पाल के प्रति बढ़ने लगी. वक़्त के साथ-साथ वो कई राजपूत युवाओं में काफी लोकप्रिय हो गया.

Anandpal_Singh
गैंगस्टर आनंद पाल सिंह

मालासर में हुए उसके एनकाउंटर के बाद राजपूत समाज का गुस्सा फूट पड़ा. पुलिस ने एनकाउंटर की जो कहानी बताई थी वो किसी काल्पनिक कहानी जैसी थी. अखबारों में छपी रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस के जवानों ने कांच की मदद से छत से गोली चला रहे आनंद पाल की पोजीशन देखी और उसे गोली मार दी. जबकि एनकाउंटर को रात में अंजाम दिया गया था. ऐसे में राजपूत संगठन इस एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए प्रदर्शन करने लगे.

राजे सरकार इस प्रदर्शन पर काबू पाने में बुरी तरह से नाकामयाब रही. बढ़ते-बढ़ते प्रदर्शन इतना बड़ा हो गया कि वो राष्ट्रीय मीडिया में बहस का मुद्दा बन गया. प्रदर्शनकारियों के प्रति राजे सरकार के रवैये ने राजपूतों को और ज्यादा नाराज कर दिया.

इस साल के अंत में राजस्थान में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं. राजस्थान में पिछले चार विधानसभा चुनाव से किसी भी पार्टी को दूसरा कार्यकाल नहीं मिला है. यहां हर पांच साल में सत्ता बदल जाती है. राजे भी इसी सत्ता विरोधी लहर का सामना करेंगी. इधर राजपूत संगठन चुनाव के हिसाब से नारे गढ़ना शुरू कर चुके हैं. मसलन ‘मोदी तुझसे बैर नहीं, पर रानी की खैर नहीं’ जैसे नारे सोशल मीडिया पर काफी लोकप्रिय हो रहे हैं. वसुंधरा राजे नहीं चाहती हैं कि ऐन चुनाव के मौके पर उनके सबसे मजबूत वोट बैंक में सेंध लगे. ऐसे में वो राजपूत सेंटिमेंट से जुड़े किसी भी मामले में फूंक-फूंक कर कदम रख रही हैं.


यह भी पढ़ें 

2018 की वो 24 हिंदी फिल्में जो मस्ट वॉच हैं!

ग्वालियर के लड़के, जिन्होंने सनी लियोनी को बचाया

आंध्र प्रदेश के संगीत कुमार राय ने कहा, 15 की उम्र में ही मां बन गई थी ऐश्वर्या राय

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.