Submit your post

Follow Us

वो राक्षस, जिसने विष्णु की दुश्मनी में अपने शहर का नाम बदल दिया

हिंदू धरम के पुराणों में एक से एक बंपर राक्षसों का जिक्र है. इनमें से कोई बैकुंठ में बैठे विष्णु पर खौराया रहता था, तो कोई ब्रह्मा से पंगा ले लेता था. वैसे सबसे ज्यादा फटे में इंद्र रहिते थे. पता है क्यों? आधे से ज्यादा राक्षस त्रिदेवों से वरदान लेकर इंद्र की कुर्सी पर ही चढ़ाई करते थे. फिर इंद्र भगे-भगे घूमते थे. वैसे एक बात बताओ. उस राक्षस के बारे में जानते है, जो विष्णु से सबसे ज्यादा नफरत करता था? इत्ती नफरत, जित्ती कोई उधार लेकर भागने वाले से भी नहीं करता. उसका नाम था हिरण्यकश्यप. इस आदमी का अनुराग कश्यप से कोई लेना-देना नहीं है. हम नारद पुराण और विष्णु पुराण की बात कर रहे हैं.

हिरण्यकश्यप ने अपने शहर का नाम ऐसा रख दिया था, जिसे सुनकर कोई भी धार्मिक आदमी फायर हो जाए. उसके शहर की जनता भी उसके जैसा ही सोचने लगी, इसलिए उसने शहर का नाम ‘हरि-द्रोही’ रखा था. यानी जो भगवान से द्रोह करता हो, जो विष्णु के अगेंस्ट हो. बाद में इस नाम को इतना घिसा गया कि ये हरदोई हो गया. ये जगह यूपी में है, जहां उसके किले की धूल-मिट्टी अब भी मौजूद है. अब वहां कॉलेज चलता है.

hardoi

और पता है, इस शहर में वो जगह भी है, जहां हिरण्यकश्यप की बहन होलिका ने प्रह्लाद को मारने की कोशिश की थी. अब ये मत कहना कि ये वाली कहानी नहीं पता है. होली मनाते हो न हर साल. वो इसी कांड के बाद से तो मनाई जाने लगी थी. होलिका जल गई थी और प्रह्लाद बच गया था.

prahlad

नारद पुराण में लिक्खा है कि हिरण्यकश्यप को इतना घमंड था कि वो खुद को दुनिया में बेस्ट मानता था. भगवान से भी बेस्ट. उसे लगता था कि लोगों को भगवान की पूजा करने के बजाय उसकी पूजा करनी चाहिए. जनता से ये बात मनवाने के लिए वो बीच-बीच में कई योजनाएं लाता था. आज-कल जैसे संविधान में बदलाव किए जाते हैं न, वैसे ही वो नए-नए बिल पास करता रहता था. और उसके जमाने में तो लोकसभा और राज्यसभा वाला लोचा भी नहीं था. वो जो कह देता था, वही होता था.

विष्णु पुराण के हिसाब से हिरण्यकश्यप ने ब्रह्मा को खुश कर लिया था. कई साल तपस्या की थी उसने. आना पड़ा ब्रह्मा को और जो उसने मांगा, वो देना पड़ा. हिरण्यकश्यप ने बड़ी टिपिकल चीजें मांगी थीं. उसे ऐसा वरदान मिला, जिससे उसे न तो इंसान मार सकता था, न जानवर. वो न दिन में मरता और न रात में. न घर के अंदर और न घर के बाहर. ऐसी ही दो-चार और चीजें और मांग ली थीं. इतना सब मिलने के बाद उसे लगने लगा कि अब तो उसे कोई नहीं मार सकता. लेकिन विष्णु तो ठहरे विष्णु. जब एक साथ बैठे सभी राक्षसों के बीच से अमृत बचा लाए तो हिरण्यकश्यप तो फिर भी वरदान का प्रोडक्ट था.

narsingh

हिरण्यकश्यप हर दूसरे दिन अपने लड़के प्रह्लाद को फरिया देता था. प्रहलाद विष्णु की भक्ति करता था और इसी बात से हिरण्यकश्यप को मिर्ची लगती थी. इसी चक्कर में उसकी बहन होलिका भी कुर्बान हो चुकी थी. एक दिन तो हद्द हो गई. हिरण्यकश्यप ने एक खंबा गरम करवाया और प्रह्लाद से कहा कि इसे गले लगाओ. उस दिन विष्णु से नहीं रहा गया. आ गए अपने भक्त को बचाने. हिरण्यकश्यप के पास स्पेशल वरदान था, इसलिए उसे मारने के लिए विष्णु ने नृसिंह अवतार लिया. नृसिंह अवतार देखते ही हिरण्यकश्यप डंडे पर लगे झंडे जैसा फरफराने लगा. विष्णु ने शाम के वक्त आधे मनुष्य और आधे जानवर के रूप में उसके घर की देहरी पर ही उसका दी एंड कर दिया. बताओ, बेचारे का कोई वरदान काम नहीं आया.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.