Submit your post

Follow Us

सौरव गांगुली की पहली सेंचुरी के आगे द्रविड़ के 95 रन क्यों फीके पड़ गए थे?

जून 1996. लॉर्ड्स. दो रिज़र्व बैट्समैन को उनकी टेस्ट कैप मिली. मजबूरी में नए खिलाड़ियों को आज़माने का फ़ैसला किया गया. मजबूरी इसलिए थी क्योंकि संजय मांजरेकर के टखने में चोट लग गई थी और नवजोत सिंह सिद्धू ने कप्तान अज़हरुद्दीन से लड़ाई कर ली और खुद को टीम से बाहर कर लिया था. पहला मैच हारने के बाद अज़हर दो नए प्लेयर्स पर भरोसा इसलिए दिखा सके क्योंकि 84-85 में किसी ने उनपर भी भरोसा दिखाया था जिसके ऐवज में उन्होंने अपने पहले तीन टेस्ट मैचों में तीन शतक ठोंके थे. टीम में नए शामिल बैट्समेन में एक के बारे में काफ़ी बातें हो चुकी थीं. वो पहले भी टीम में आया था. उसे बदतमीज़ क़रार देकर बाहर कर दिया गया. लगभग 4 साल के लिए. ये भी कहा गया कि क्रिकेट बोर्ड का सेक्रेटरी अपनी ताकत का इस्तेमाल कर उसे टीम में लाया था. डोमेस्टिक में सैकड़ों रन ठोंक कर वो दोबारा आया था. सौरव गांगुली. और दूसरा – राहुल द्रविड़. इसके बारे में कोई भी भूमिका नहीं बनाई जा सकती थी.

राहुल द्रविड़ जब बैटिंग करने के लिए आए तो स्कोरबोर्ड पर 202 पर 5 विकेट गिर चुके थे. इंडिया अभी भी इंग्लैंड से 142 रन पीछे थी. द्रविड़ आख़िरी बैट्समैन थे. इसके बाद टीम की पूंछ शुरू होने वाली थी. द्रविड़ के लिए अगर कोई बात हौसला दिलाने वाली थी तो वो ये थी कि दूसरे एंड पर भी वो बल्लेबाज खड़ा था जो अपना पहला मैच खेल रहा था. द्रविड़ से 6 महीने सीनियर सौरव गांगुली अपने शतक की ओर बढ़ रहे थे. द्रविड़ और गांगुली आपस में एक दूसरे को अंडर-15 के दिनों से जानते हैं. ये दोनों इंडिया-ए के लिए साथ बैटिंग भी कर चुके थे. द्रविड़ के लिए यही बात काम कर गई. जब पहला मैच खेल रहा उसका दोस्त सौरव आराम से खेल रहा है तो प्रेशर में आने की ज़रूरत ही नहीं थी. दोनों ने मिलकर 94 रन बनाए. सौरव ने 131 रन ठोंके. पहले ही मैच में शतक. लॉर्ड्स का मैदान. इससे बेहतर क्रिकेट की कहानी में और कुछ भी नहीं हो सकता है. कभी भी नहीं.

राहुल द्रविड़ 95 रन पर आउट हो गए. पहले मैच में पहली सेंचुरी से मात्र 5 रन दूर. विकेट्स के पीछे एक आसान कैच. बल्ले का किनारा बड़ा हल्का लगा था मगर द्रविड़ ने अंपायर की तरफ़ देखा भी नहीं. वो तुरंत पीछे मुड़े और पवेलियन की ओर चल पड़े. द्रविड़ के सिद्धांतों की ये पहली निशानी थी.

राहुल द्रविड़ ने 267 गेंदों में 95 रन की इनिंग्स खेली थी.
राहुल द्रविड़ ने 267 गेंदों में 95 रन की इनिंग्स खेली थी.

टूर ख़तम हुआ तो हर तरफ़ एक ही नाम था – सौरव गांगुली. बंगाल को एक क्रिकेटर मिल गया था. 1992 के ऑस्ट्रेलिया टूर पर महाराज‘ कह कर जिसकी धज्जियां उड़ाई गईं थींअब प्रिंस‘ बन गया था.

95 रनों की ट्रेडमार्क राहुल द्रविड़ इनिंग्स को लगभग दोयम क़रार दे दिया गया था. लेकिन द्रविड़ के लिए ये बहुत बड़ा मौका था जहां उन्होंने गज़ब का कॉन्फिडेंस कमाया था. उस वक़्त के कोच संदीप पाटिल ने वापस आकर कहा भी था कि द्रविड़ जिस तरह से इनिंग्स के दौरान शांत थालग ही नहीं रहा था कि कोई अपने जीवन का इतना बड़ा मैच खेल रहा था.

इन तमाम बातों के बावजूदराहुल द्रविड़ के 95 रन सौरव गांगुली के 131 रनों की चकाचौंध में खो गए. खैरइंग्लैंड के खिलाफ़ अगले 15 सालों में 4 सीरीज़ में बंटे कुल 13 टेस्ट मैचों में द्रविड़ ने 6 टेस्ट शतक, 4 पचासे लगाए. ये सब 70 रन प्रति इनिंग्स की दर से.

सौरव गांगुली जब इस टूर्नामेंट से वापस इंडिया आ रहे थे तो उनकी फ्लाईट नीदरलैंड्स होकर जानी थी. एयरपोर्ट से सौरव ने अपने भाई से बात की. भाई ने बताया कि बंगाल की जनता उनके आने की पूरी तैयारी कर रही है. कई गाड़ियों का काफ़िला तैयार हो रहा था. सौरव ने लाख मना किया लेकिन किसी ने भी नहीं सुना. सौरव गांगुली ने वो कर दिया था जो गोपाल बोस से नहीं हो सका था. अरुण लाल भी इंडियन टीम में पहुंचे बंगाल के रास्ते से थे लेकिन उनकी जड़ें यूपी-दिल्ली में बसी थीं और बंगाल ने कभी भी उन्हें अपना नहीं माना. वो बंगाल जिसके पास टैगोरराम मोहन रायनेताजीसत्यजीत रायअमर्त्य सेन तो थे मगर कोई भी खिलाड़ी नहीं था जो दुनिया के नक़्शे पर उन्हें पिन कर सके. मगर अब सौरव गांगुली था. कलकत्ता का प्रिंस. जिसके इंतज़ार में फूलों से सजी गाड़ियां कलकत्ता के हवाई अड्डे पर इंतज़ार कर रही थीं.

सौरभ गांगुली ने अपनी इनिंग्स में 20 चौके लगाए थे.
सौरभ गांगुली ने अपनी इनिंग्स में 20 चौके लगाए थे.

राहुल द्रविड़ कर्नाटका से आते थे. उस जगह ने कितने ही खिलाड़ी इंडियन क्रिकेट को पहले से दे रखे थे. एक और आया था. कोई बड़ी बात नहीं थी. उसने अच्छा परफॉर्म किया था. ये भी कोई बड़ी बात नहीं थी. कर्नाटका-बंबई के प्लेयर्स अच्छा नहीं करेंगे तो कौन करेगाऔर इसलिए भी राहुल द्रविड़ के 95 रन बंगाली शोर में दब गए. जैसे भविष्य में उनकी विकेट-कीपिंग दब गई. जैसे टेस्ट मैच में उनकी ओपनिंग दब गई जिस दौरान उन्होंने 23 इनिंग्स में 42.47 के एवरेज से बैटिंग की और 4 सेंचुरी मारीं. द्रविड़ को बैटिंग पर आने से पहले थोड़ी सी तैयारी चाहिए होती थी. वो कहते थे कि बैटिंग आने पर भागकर जाना होता था और 10 मिनट में पैड पहनकर बैटिंग करनी होती थी. ऐसा लगता है जैसे किसी ने धक्का देकर खेलने भेज दिया हो. लेकिन टीम को ज़रूरत थी और द्रविड़ बैटिंग ओपन करने के लिए आये. लेकिन उस वक़्त गांगुली जैसी लाइमलाइट न मिलने के कारण राहुल द्रविड़ को निराशा कतई नहीं हुई होगी. आखिरकार ये वही राहुल द्रविड़ था जिसने कुछ साल पहले सचिन तेंडुलकर को खेलते देखा था और ख़ुद को बेहद एवरेज क्रिकेटर मानने लगा था. उसके बाद खुद को बेहतर करने के लिए और भी ज़्यादा मेहनत करने में जुट गया था.

20 जून को दो ऐसी ही शक्तियों ने इंडिया के लिए खेलना शुरू किया था. एक वो जिसने टीम की ज़रूरतों के हिसाब से ख़ुद को ढाला. और दूसरी जिसने सबसे ज़रूरी वक़्त में टीम को अपने पैरों पर खड़ा किया और जीतने की आदत डलवाई.


वीडियो- 1999 वर्ल्ड कप में भारत को जख्म देने वाले हेनरी ओलंगा जब सिंगिंग ऑडिशन देने पहुंचे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.