Submit your post

Follow Us

जिस मूवमेंट से नेहरू और जिन्ना जुड़े, वो दो साल में ही बंद क्यों हो गया?

आज 3 सितंबर है और आज की तारीख़ का संबंध है, एक ऐसे आंदोलन से, जो बाद में हिंदुस्तान की आज़ादी की नींव की ईंट बना. और जैसी नींव की ईंट की तक़दीर होती है, वैसी ही इसकी भी रही. ये भी कहीं गुमनामी में खो गया. आंदोलन का नाम, ‘होम रूल मूवमेंट.’

इस आंदोलन की हिस्ट्री जानने के लिए हमें आयरलैंड चलना होगा. यहां 1870 से लेकर प्रथम विश्व युद्ध तक एक आंदोलन ख़ूब चला. जिसका नाम था, ‘आयरिश होम रूल मूवमेंट’. मई 1870 में, बैरिस्टर इसहाक बट ने एक नए उदारवादी राष्ट्रवादी आंदोलन ‘आयरिश होम गवर्नमेंट एसोसिएशन’ की शुरुआत की, जो बाद में ‘होम रूल लीग’ कहलाया. इस लीग का उद्देश्य बहुत सीमित था: आयरलैंड, यूनाइटेड किंगडम का एक ही हिस्सा रहे लेकिन उसमें स्वशासन हो.

आयरिश होम रूल मूवमेंट की याद दिलाता वहां का होम रूल क्लब.
आयरिश होम रूल मूवमेंट की याद दिलाता वहां का होम रूल क्लब.

लेखिका, वक्ता, शिक्षाविद और महिला अधिकारों के लिए कार्य करने वालीं एनी बेसेंट मूलतः एक आयरिश लेडी और ‘आयरिश होम रूल मूवमेंट’ की कट्टर समर्थक थीं. 3 सितंबर, 1916 यानी आज ही के दिन एनी बेसेंट के प्रयासों से ‘ऑल इंडिया होम लीग’ अस्तित्व में आई. इसकी स्थापना उन्होंने हेनरी स्टील ओल्कॉट के साथ मिलकर की. भारत की इस लीग का उद्देश्य भी आयरलैंड की उस लीग सरीखा ही था जिसका ज़िक्र हमने अभी किया था. मतलब ये भी स्वशासन की मांग का नेतृत्व करने वाल एक राजनीतिक संगठन था. ‘इंडियन होम रूल मूवमेंट’ की शुरुआत इसी ‘ऑल इंडिया होम रूल लीग’ द्वारा की गई थी.

अगर ‘ऑल इंडिया होम रूल लीग’ के टाइमलाइन की बात करें तो जिन दिनों आयरलैंड की होम लीग पतन की ओर थी, तब भारत की होम लीग जन्म ले रही थी. तब ब्रिटेन को युद्ध में फंसा देख एनी बेसेंट ने कहा था-

इंग्लैंड की ज़रूरत, हमारे लिए मौक़ा है.

लेफ़्ट में बाल गंगाधर तिलक राईट में हेनरी स्टील ओल्कॉट और एनी बेसेंट.
लेफ़्ट में बाल गंगाधर तिलक राइट में हेनरी स्टील ओल्कॉट और एनी बेसेंट

इधर, प्रथम विश्व युद्ध में भारतीयों का समर्थन पाने के लिए अंग्रेज कई सारे वादे किए जा रहे थे. उधर भारतीयों की हालत ग़ालिब का एक शेर बयान कर रहा था-

तेरे वादे पे जिए हम, तो ये जान झूठ जानां,

के ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता.

इसी दौरान मुहम्मद अली जिन्ना, बाल गंगाधर तिलक जैसे लोगों ने भारत भर में मौज़ूद अलग-अलग लीग्स को एकजुट करने का प्लान किया. यूं बाल गंगाधर तिलक ने बेलगाम में बॉम्बे प्रांतीय कांग्रेस में पहली होम रूल लीग की स्थापना की और एनी बेसेंट ने 3, सितंबर 1916 को मद्रास के अडयार में दूसरी लीग की स्थापना की. तिलक की लीग ने महाराष्ट्र, कर्नाटक, मध्य प्रांतों और बरार जैसे क्षेत्रों में काम किया, वहीं एनी बेसेंट की लीग ने शेष भारत में काम किया.

लीग के द्वारा शुरू किए गए ‘होम रूल आंदोलन’ का मुख्य उद्देश्य था ब्रिटिश साम्राज्य के भीतर रहते हुए एक डोमिनियन का दर्जा प्राप्त करना. मतलब ठीक वैसा सेटअप जैसे ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड जैसों देशों में रहा था. नीचे इस लीग के झंडे को देखिए. बाकी सारी चीज़ों के अलावा लेफ़्ट टॉप में ब्रिटिश फ़्लैग. जैसा ऑस्ट्रेलिया सरीखे किसी भी डोमिनियन राष्ट्र का हुआ करता है.

1917 में ‘ऑल इंडिया होम लीग’ द्वारा प्रपोज़्ड भारतीय ध्वज
1917 में ‘ऑल इंडिया होम लीग’ द्वारा प्रपोज़्ड भारतीय ध्वज

इस लीग के वर्क प्रोफ़ाइल में एक मज़ेदार काम ये सिद्ध करना भी था कि‘पश्चिम के देश उन दिनों जिन नई-नई तकनीकों का अविष्कार कर रहे थे, वो हिंदू ऋषियों द्वारा कई सदियों पहले ही बना या खोज ली गई थीं.’

इसलिए ही होम रूल लीग ने ब्रह्म समाज और आर्य समाज को अपनी ओर काफ़ी आकर्षित किया. और इसी सब के चलते होम रूल लीग को कायस्थों, कश्मीरी ब्राह्मणों, हिंदू तमिल अल्पसंख्यकों, उद्योगपतियों और वकीलों का भी बहुत समर्थन मिला.

1917 के आते आते ‘ऑल इंडिया होम लीग’ से 27,000 से ज़्यादा सदस्य जुड़ चुके थे. अकेले मुंबई में इसके ढाई हज़ार के क़रीब सदस्य हो गए थे. इसने हर तरह से अपने उद्देश्यों को पाने की कोशिश की. ढेरों याचिकाएँ ब्रिटिश अधिकारियों को सौंपी. भाषण, सेमिनार, व्याख्यान वग़ैरह आयोजित किए. कई लाईब्रेरीज़ स्थापित कीं. मुंबई में होने वाली इनकी मीटिंग्स में दसियों हज़ार लोग शिरकत करते थे.

प्रथम विश्व युद्ध में भारतीय सैनिक
प्रथम विश्व युद्ध में भारतीय सैनिक

‘ऑल इंडिया होम लीग’ बिहार और उड़ीसा जैसे राज्यों के ग्रामीण क्षेत्रों में भी राजनीतिक जागरूकता पैदा कर रही थी. एनी बेसेंट की गिरफ्तारी के बाद लीग और इसके आंदोलन में और अधिक तेज़ी आने लगी थी. उनकी इस गिरफ्तारी का देशव्यापी विरोध हुआ. आंदोलन और विस्तार पाने लगा. मुहम्मद अली जिन्ना जैसे मुस्लिम नेता भी आंदोलन में शामिल होने लगे. इसी आंदोलन के दबाव के चलते 20 अगस्त, 1917 को ब्रिटिश राज ने ‘मोंटेग डिक्लेरेशन’ की घोषणा की. जिसका ‘कथित उद्देश्य’ भारतीयों को और अधिक प्रतिनिधित्व देना था.

लेकिन जिस तरह फ़ेसबुक के आते ही भारत में ऑरकुट का हाल हुआ, मतलब पीक में पतन. वही हाल महात्मा गांधी और उनके सत्याग्रह आंदोलन ने ‘ऑल इंडिया होम लीग’ कर दिया. ‘डोमिनयन’ कीवर्ड धुंधला होता चला गया और ‘पूर्ण स्वराज’ बोल्ड. इधर बाल गंगाधर तिलक इंग्लैंड चले गए और एनी बैंसेंट ने इंग्लैंड के ‘मोंटेग डिक्लेरेशन’ जैसे सब्ज़बाग वादों पर एतबार कर लिया.

आने वाले समय में 'पूर्ण स्वराज' प्रॉमिनेंट होने वाला था
आने वाले समय में ‘पूर्ण स्वराज’ प्रॉमिनेंट होने वाला था

बहरहाल, 1920 में होम रूल लीग ने गांधी को अपने अध्यक्ष के रूप में चुन लिया और एक वर्ष के भीतर-भीतर लीग का भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में विलय हो गया. हालांकि होम रूल आंदोलन से जुड़े बहुत से युवा भविष्य में ऐसे चमके जैसे जेपी आंदोलन के बाद लालू प्रसाद यादव या इमरजेंसी के बाद अटल बिहारी. होम रूल आंदोलन से जुड़े इन युवाओं में सबसे चमकदार चेहरा थे, जवाहरलाल नेहरू.

जाते जाते आपको एक और इंट्रेस्टिंग बात बताते हैं कि जिस होम रूल लीग की शुरुआत थियोसॉफी को नींव बनाकर की गई थी, वो आज भी चेन्नई के अडयार में एक थियोसोफिकल सोसायटी के रूप में मौजूद है.


वीडियो देखें: जब मुख्यमंत्री का हेलिकॉप्टर उड़ा और बीच रास्ते में ग़ायब हो गया-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.