Submit your post

Follow Us

जब प्रीमियर लीग की पूरी क्रिकेट टीम ही सट्टेबाज़ों के कब्ज़े में थी!

5
शेयर्स

मैच फिक्सिंग और सट्टेबाज़ी का वायरस भारतीय क्रिकेट में गहरा घुल गया है. अब इससे छुटकारा पाना असंभव सा लग रहा है. आए दिन फिक्सिंग की, बेटिंग की ख़बरें आती ही रहती हैं. लेकिन इस लेवल की खबर पहली बार आ रही है, जिसमें एक पूरी टीम पर ही सट्टेबाज़ों का कब्ज़ा बताया जा रहा हो. ये हुआ बताया जा रहा है भारत के एक प्रमुख टी-20 टूर्नामेंट तमिलनाडु प्रीमियर लीग में. यानी TNPL में. इसके चौथे सीज़न में ग्रैंड लेवल पर फिक्सिंग होने का शक गहराया हुआ है. BCCI की एंटी करप्शन यूनिट (ACU) इसकी जांच कर रही है. इसके अलावा कई खिलाड़ियों को बुकीज़ के द्वारा अप्रोच किए जाने की बात भी सामने आई है.

ACU ने तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन (TNCA) और TNPL के अधिकारियों को लगभग एक महीने पहले इस बारे में बता दिया था. इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक खबर के अनुसार, TNCA ने तीन सदस्यों का एक इंक्वायरी पैनल भी बनाया था, जिसमें चेन्नई के रिटायर्ड पुलिस कमिशनर, एक सीनियर वकील और एक पूर्व इंडियन स्पिनर शामिल थे. इस पैनल की रिपोर्ट एक हफ्ते में आने की संभावना है. उधर BCCI की भी स्वतंत्र जांच जारी है.

कहा जा रहा है कि एंटी करप्शन यूनिट की जांच के निशाने पर जो लोग हैं, उनमें एक इंडियन खिलाड़ी, एक आईपीएल में रेगुलर खेलने वाला खिलाड़ी और एक रणजी ट्रॉफी का कोच का नाम भी है.

कुछ बड़े खिलाड़ी जुड़े हुए हैं लीग से.
कुछ बड़े खिलाड़ी जुड़े हुए हैं लीग से.

टीम के मालिक ही शामिल?

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक़ सूत्रों ने बताया कि बुकीज़ और मैच-फ़िक्सर्स ने TNPL की एक पूरी टीम का ही कंट्रोल हासिल कर लिया है. उसके मालिकों के साथ इललीगल डील करके. और वो टीम को कुछ इस तरह चला रहे हैं कि बेटिंग से उन्हें तगड़ा मुनाफ़ा हो. इस तरह की एक्टिविटी से पूरी टी-20 लीग के ही करप्ट होने का ख़तरा पैदा हो गया है.

जांचकर्ताओं को इस मामले की भनक तब पड़ी, जब इसमें शामिल लोगों में पैसे को लेकर कोई डिस्प्यूट हो गया. फिलहाल जांचकर्ता इस मामले में कानूनी सलाह ले रहे हैं और आने वाले दिनों में राज्य पुलिस के पास FIR दर्ज करवाई जा सकती है.

व्हाट्सऐप पर निमंत्रण

ACU चीफ अजित सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए बताया,

“कुछ घटनाएं ऐसी भी हुई हैं, जहां खिलाड़ियों को अप्रोच किया गया. इन खिलाड़ियों ने हमें इन्फॉर्म किया. हम ये चेक कर रहे हैं कि किसने अप्रोच किया, कब किया वगैरह. ज़्यादातर प्रपोज़ल व्हाट्सऐप पर आए थे, सो हम आईडीज़ चेक कर रहे हैं. अभी हमने किसी भी टीम के मालिकान से बात नहीं की है.”

एक भारतीय महिला क्रिकेटर को अप्रोच किए जाने की बात भी सामने आई है. हालांकि ये फ़रवरी में हुआ था.

ACU चीफ अजित सिंह राजस्थान के पूर्व डीजीपी रहे हैं.
ACU चीफ अजित सिंह राजस्थान के पूर्व डीजीपी रहे हैं.

क्या है TNPL?

टीएनपीएल BCCI से मान्यताप्राप्त टी-20 लीग है, जिससे कुछ बड़े नाम जुड़े हुए हैं. जैसे कि इसका उद्घाटन चार साल पहले महेंद्र सिंह धोनी ने किया था और स्टार इंडिया इसका ऑफिशियल ब्रॉडकास्टर है. इसमें आर अश्विन, विजय शंकर, मुरली विजय, दिनेश कार्तिक जैसे बड़े नाम खेलते रहे हैं. यही नहीं कुछ बड़े इंटरनेशनल खिलाड़ी इसकी कमेंट्री टीम में भी रहे. जैसे, मैथ्यू हेडन, ब्रेट ली, माइकल क्लार्क, डेविड हसी वगैरह.

अब BCCI की अपनी लीग उसके एंटी करप्शन यूनिट के रडार पर आ गई है. TNCA ने सोमवार को एक प्रेस रिलीज़ जारी की है, जिसमें उन्होंने इंटरनल इंक्वायरी की बात तो कन्फर्म की लेकिन डिटेल्स देने से इनकार कर दिया.

क्या वीबी चंद्रशेखर की मौत में कोई राज़ था?

कुछ दिन पहले भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ओपनर बल्लेबाज वीबी चंद्रशेखर का निधन हो गया था. पहले कहा गया कि उनकी मौत हार्ट अटैक से हुई है. फिर कहा गया कि उन्होंने सुसाइड किया था. चंद्रशेखर TNPL से जुड़े हुए थे. एक फ्रेंचाइज़ी के मालिक थे. लीग में उनकी वीबी कांची वीरंस नाम की टीम थी. कहा जा रहा था कि चंद्रशेखर आर्थिक तंगी से परेशान थे. उन पर बहुत बड़ा कर्ज था. उन्होंने कांची वीरन्स टीम में 3 करोड़ रुपए का निवेश किया था. मौत से एक महीने पहले उन्हें बैंक से नोटिस भी मिला था.

वीबी चंद्रशेखर की संदिग्ध परिस्थितियों में डेथ हुई थी.
वीबी चंद्रशेखर की संदिग्ध परिस्थितियों में डेथ हुई थी.

TNPL पर फिक्सिंग के बादल मंडराने के बाद चंद्रशेखर की मौत पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं. क्या उनकी मौत की वजह आर्थिक तंगी से बढ़कर भी कुछ थी? क्या बेटिंग सिंडिकेट का इसमें कोई रोल था? जांच हो रही है तो शायद इन सवालों के भी कुछ जवाब मिल जाएं.


वीडियो:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?