Submit your post

Follow Us

साल 2016 के वो तीस सेकेंड जिन्होंने IAS सुहास एलवाई को Tokyo2020 पैरालंपिक्स तक पहुंचा दिया

मंगलवार 29 नवंबर, 2016. यूपी का जिला आजमगढ़. पूरा शहर जश्न की तैयारी में था. लोग बेहद खुश थे. और आश्चर्य की बात ये कि इस खुशी में न तो गन्ना शामिल था और न ही धान. इन दो फसलों के लिए मशहूर आजमगढ़ की खुशी का कारण सुदूर कर्नाटक में जन्मा एक 33 साल का युवा था. जो उस वक्त शहर का हाकिम होने के साथ नंबर एक का बैडमिंटन स्टार भी था. शायर कैफी आज़मी का ये शहर इस रोज़ सुहास लालिनकेरे यतिराज यानी सुहास एलवाई के तराने गा रहा था.

चाइना में हुई एशियन बैडमिंटन चैंपियनशिप का गोल्ड जीतने के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिलकर लौटे सुहास अपने स्वागत में शहर को उमड़ा देख आश्चर्यचकित हो गए. लेकिन ये आश्चर्य आने वाले दिनों में उनके लिए बेहद नॉर्मल होने वाला था. उन्होंने राह ही ऐसी चुन ली थी. और उसी चुनी राह पर चलते-चलते अब सुहास पैरालंपिक्स तक पहुंच गए हैं.

# कौन हैं Suhas?

लेकिन सुहास हमेशा से बैडमिंटन नहीं खेलना चाहते थे. ना ही उनकी टू डू लिस्ट में IAS बनना था. 2 जुलाई 1983 को कर्नाटक के शहर हसन में पैदा हुए सुहास बचपन से ही एक पैर से विकलांग हैं. सुहास का दाहिना पैर पूरी तरह फिट नहीं है. और जैसा कि रवायत है, किसी की कमियां समाज से देखी नहीं जातीं. समाज सब छोड़कर उस व्यक्ति की कमियों का तमाशा बनाना शुरू कर देता है.

लेकिन सुहास के सिविल इंजिनियर पिता ऐसे हालातों में अपने बेटे के साथ चट्टान की तरह खड़े रहे. उनकी अलग-अलग जगहों पर होती पोस्टिंग और समाज के ताने कभी भी सुहास के भविष्य के आड़े नहीं आ पाए. पिता और परिवार के साथ शहर दर शहर बदलते हुए सुहास ने अपनी पढ़ाई पूरी की. गांव के स्कूल से शुरू हुई सुहास की पढ़ाई खत्म हुई सुरतकल शहर में. सुहास ने यहीं के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी से कम्प्यूटर साइंस में डिस्टिंक्शन के साथ अपनी इंजिनियरिंग पूरी की.

सुहास के इंजिनियर बनने के पीछे भी मजेदार क़िस्सा है. बारहवीं के बाद उन्होंने मेडिकल और इंजिनियरिंग, दोनों की परीक्षा दी. और सुहास दोनों में पास भी हो गए. पहले ही राउंड की काउंसिलिंग के बाद उन्हें बैंगलोर मेडिकल कॉलेज में सीट भी मिल गई. लेकिन मन अभी भी इंजिनियरिंग की ओर ही था. पूरा परिवार चाहता था कि सुहास डॉक्टर बनें और सुहास उनकी इच्छा के आगे सरेंडर भी कर चुके थे. लेकिन तभी एक दिन उन्हें मुंह लटकाए बैठा देख सुहास के पिता ने कहा,

‘जा बेटे, जी ले अपनी जिंदगी’

बस, यहीं से तय हुआ कि सुहास इंजिनियर ही बनेंगे. पढ़ाई में बेहद तेज सुहास खेलकूद में भी आगे रहते थे. और बाकी भारतीय बच्चों/युवाओं की तरह उनका भी मन क्रिकेट समेत कई खेलों में लगता था. हालांकि क्रिकेट के अच्छे खिलाड़ी रहे सुहास ने कभी प्रोफेशनल एथलीट बनने के बारे में नहीं सोचा था. इंजिनियरिंग के बाद उन्होंने लगभग हर भारतीय इंजिनियर के ड्रीमप्लेस बेंगलुरु में एक आईटी फर्म जॉइन कर ली.

सब सेट था. जिंदगी ठाठ से चल रही थी लेकिन जिन्हें इतिहास बनाना होता है वो रुकते कहां हैं उनकी भूख कभी खत्म नहीं होती. नौकरी के चक्कर में बेंगलुरु से जर्मनी तक घूमते-टहलते सुहास को हमेशा लगता कि कुछ कमी है. जीवन में पैसा भी है और ऐशो-आराम भी लेकिन ये जीवन पूर्ण नहीं है. सुहास के मन में रह-रहकर सिविल सर्विसेज जॉइन करने का ख्याल आता रहा. और इसी बीच साल 2005 में सुहास के पिता की मृत्यु हो गई.

इस घटना ने मानो उन्हें झकझोर दिया. पहले से ही नौकरी के साथ सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहे सुहास ने अब मन पक्का कर लिया. एक दिन सबको चौंकाते हुए सुहास ने जमी-जमाई नौकरी छोड़ी और बताया कि उन्होंने सिविल सर्विसेज के प्री और मेंस एग्जाम निकाल लिए हैं और अब उन्हें IAS ही बनना है. नौकरी छोड़ने के बाद सुहास ने सिविल का इंटरव्यू भी क्लियर किया और साल 2007 में वह यूपी कैडर से IAS बन गए. भारत में ज्यादातर लोग इस कठिन परीक्षा को पास करने के बाद रुक जाते हैं लेकिन सुहास यहां भी नहीं रुके.

# Badminton Champion Suhas

शौकिया बैडमिंटन खेलने वाले सुहास ने साल 2016 की पैरा एशियन चैंपियनशिप में भाग लेने का फैसला किया. बिना किसी को बताए वह चुपचाप सात दिन की छुट्टी लेकर चाइना निकल गए. लेकिन चाइना पहुंचकर आजमगढ़ के डीएम सुहास को लगा कि जीवन इतना भी आसान नहीं है. अपने पहले इंटरनेशनल टूर्नामेंट के पहले ही सेट में सुहास हार गए. और दूसरा सेट भी 12-9 से विपक्षी प्लेयर की ओर जा रहा था. लेकिन इसी स्कोर पर मिले ड्रिंक्स ब्रेक ने सब बदल दिया.

इस बारे में सुहास ने दी लल्लनटॉप को बताया,

‘इस ड्रिंक्स ब्रेक के दौरान मेरे एक दोस्त ने मुझे टोका. उसने कहा- डरकर क्यों खेल रहे हो भाई? और उसके टोकने के बाद मैंने भी सोचा कि एक हार से क्या ही होगा? और अगर हारना ही है तो अपना नेचुरल गेम खेलकर हारेंगे.’

और इतना सोचना था कि गेम पलट गया. सुहास ने ना सिर्फ ये मैच बल्कि टूर्नामेंट का गोल्ड मेडल भी जीत लिया. और उनके इस गोल्ड ने सुहास की PCS बीवी ऋतु सुहास की शिकायत भी दूर कर दी. दरअसल सुहास के वक्त बे-वक्त बैडमिंटन खेलने से ऋतु को अक्सर शिकायत होती थी. लेकिन सुहास की मेहनत का फल जब गोल्ड मेडल के रूप में आया तो ऋतु की खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा.

एलवाई सुहास और ऋतु के मिलने का क़िस्सा भी बिल्कुल फिल्मी है. इस बारे में सुहास ने हमें बताया,

‘ये पहली नज़र के प्यार वाला हाल था. नौकरी की शुरुआत में मेरी पहली पोस्टिंग आगरा में हुई. और उसी दौरान ऋतु की पहली पोस्टिंग भी आगरा में ही हुई. यहां जब एक मीटिंग के दौरान मैं पहली बार इनसे मिला, तभी मुझे लग गया कि जीवन तो इन्हीं के साथ बिताना है. फिर धीरे-धीरे हमारी मुलाकातें होने लगीं और इन्हीं मुलाकातों के दौरान बात बढ़ते-बढ़ते शादी तक आ गई.’

एलवाई सुहास और ऋतु सुहास अभी दो बच्चों के माता-पिता हैं. मौजूदा वक्त में नोएडा के डीएम की पोस्ट पर तैनात सुहास ने साल 2018 में जकार्ता में हुए एशियन पैरा गेम्स में ब्रॉन्ज़ मेडल भी जीता था. इस मेडल से जुड़ा एक दिलचस्प क़िस्सा सुनाते हुए सुहास ने दी लल्लनटॉप से कहा,

‘2018 के एशियन गेम्स से पहले मैं दिन-रात तैयारी में ही लगा रहता था. तमाम दूसरे प्लेयर्स के वीडियो देखना, अपने वीडियोज शूट करके अपनी कमियों को सुधारना और मौका मिलते ही रैकेट उठा लेना. उस वक्त मेरा जीवन ऐसे ही चल रहा था. और ऋतु को ये बाद सख्त नापसंद थी. लेकिन एशियन चैंपियनशिप के गोल्ड के बाद वह थोड़ी सॉफ्ट हो चुकी थीं. और इसका फायदा उठाकर मैंने अपनी प्रैक्टिस और तेज कर दी.

फिर इसी दौरान आई दिवाली. घर वालों का प्लान था कि पूरे दिन घर में रहेंगे, शाम की तैयारी करेंगे. लेकिन मेरे दिमाग में तो एशियन पैरा गेम्स थे. बस मैं सुबह उठा, नाश्ता किया और अपनी बैडमिंटन किट उठाकर निकल गया प्रैक्टिस करने. मैंने इस छुट्टी का पूरा फायदा उठाया और शाम को बेहद खुश होकर घर लौटा. लेकिन मुझे ये बात पता ही नहीं थी कि घर पर तूफान मेरा इंतजार कर रहा है. दिवाली के पूरे दिन मेरे गायब रहने से ऋतु बहुत गुस्सा हुई और फिर उसने मुझे जकार्ता गेम्स का ब्रॉन्ज़ मेडल जीतने के बाद ही माफ़ किया.’

एशियन चैंपियनशिप और एशियन पैरा गेम्स में मेडल जीतने के बाद सुहास ने पीछे मुड़कर नहीं देखा. अपने छोटे से करियर में वह कई इंटरनेशनल और नेशनल गोल्ड मेडल्स जीत चुके हैं. पांच साल में लगभग दो दर्जन मेडल्स अपने नाम करने वाले सुहास अब Tokyo2020 Paralympics के लिए तैयार हैं.

दी लल्लनटॉप को उम्मीद है कि सुहास टोक्यो से भी मेडल के साथ लौटेंगे. और सुहास का ट्रैक रिकॉर्ड भी हमारी उम्मीदों से मेल खाता है.


सिर्फ छह साल की उम्र में पीवी सिंधु ने उठाया था रैकेट.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.